Sukma में कोबरा बटालियन के  Commandant  सौमित्र रॉय का heart attack  से निधन हो गया है इससे naxal operation को झटका लगा है। CG
होम / छत्तीसगढ़ / सुकमा में कोबरा बटालियन के कमांडेंट का ह...

सुकमा में कोबरा बटालियन के कमांडेंट का हार्ट अटैक से निधन, नक्सल अभियान को बड़ा झटका

The Sootr CG
Oct 27, 2022 04:53 PM
सुकमा में कोबरा बटालियन के कमांडेट का हार्ट अटैक से निधन
सुकमा में कोबरा बटालियन के कमांडेट का हार्ट अटैक से निधन

SUKMA. छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले से एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां पर कोबरा 201 बटालियन के कमांडेंट का हार्ट अटैक से निधन हो गया है। सौमित्र रॉय नक्सल इलाके में पदस्थ थे। उनका निधन रायपुर के एक​ निजी अस्पताल में हुआ है। रॉय नक्सल इलाके में जनजागरूकता के लिए जाने जाते थे।

रॉय के निधन से नक्सल मुक्त अभियान को झटका 

सौमित्र रॉय के निधन से छत्तीसगढ़ में चल रहे नक्सल मुक्त अभियान को बड़ा झटका लगा है। सौमित्र रॉय नक्सल इलाके में काफी सक्रिय थे और लोगों में जागरूकता फैलाने का लगातार काम रहे थे। अभी हाल ही में देश के 75 वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आजादी के अमृत महोत्सव पर 201 कोबरा वाहिनी ने सौमित्र रॉय कमांडेंट के मार्गदर्शन में हर्षोल्लास से हर घर तिरंगा कार्यक्रम का आयोजन किया था। इस दौरान उन्होंने घर-घर जाकर लोगों को नक्सलवाद के नुक्सान बताए थे।


सिविक एक्शन प्रोग्राम का किया था आयोजन

ऐसे ही एक कार्यक्रम में बीते दिनों सुकमा जिला मुख्यालय के चिंतलनार गांव में तैनात 201 कोबरा बटालियन ने कमांडेंट सौमित्र रॉय के निर्देशानुसार सिविक एक्शन प्रोग्राम का आयोजन किया था। इस दौरान 201 कोबरा बटालियन के द्वितीय कमान अधिकारी हेम पुष्प शर्मा ने स्वयं इस समारोह की अगवानी की थी। 

जवानों की कोशिश से हो रहा विकास

समारोह की शुरुआत करते हुए शर्मा ने गांव वासियों को बताया कि 201 कोबरा बटालियन उनकी सुरक्षा और संपूर्ण विकास के लिए सदैव तत्पर हैं। साथ ही उन्होंने 201 कोबरा बटालियन के जवानों की दी जा रही सेवा और निष्ठा का उल्लेख किया था और ग्रामवासियों को बताया कि उनके और कोबरा के प्रयासों से किस तरह क्षेत्र में विकास लाया जा सकता है।

कपड़े-कंबल भी बांटे गए थे

सौमित्र राय के मार्गदर्शन में इस दौरान ग्रामवासियों के बीच कपड़े, बर्तन, कंबल, बच्चों को खेल- खिलौने बांटे गए थे। इस दौरान 201 कोबरा के डिप्टी कमांडेंट नितिन बगाड़े, डिप्टी कमांडेंट अजय कुमार और अन्य कमांडो भी मौजूद रहे। बता दें कि नक्सल क्षेत्रों में लोगों के स्वास्थ्य, सुरक्षा और शिक्षा को लेकर उन्होंने कई प्रयास किए थे।

द-सूत्र ऐप डाउनलोड करें :
Like & Follow Our Social Media