खाने के तुरंत बाद चाय-कॉफी पीते हैं तो अब बंद कर दीजिए, वरना...

आइसीएमआर ने राष्ट्रीय पोषण संस्थान (एनआइएन) के साथ साझेदारी में स्वस्थ आहार की आदतों को बढ़ावा देने के लिए गाइडलाइन जारी की है। चाय- कॉफी के ज्यादा सेवन के खिलाफ चेतावनी दी गई है। 

author-image
Pratibha ranaa
New Update
चाय-कॉफी
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

NEW DELHI. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) ( ICMR ) ने भोजन से पहले और बाद में कम से कम एक घंटे चाय या कॉफी से परहेज करने की सलाह दी है। आइसीएमआर के शोधकर्ताओं का कहना है दोनों पेय पदार्थों में टैनिन होता है। यह पेट में आयरन से बंध जाता है। इससे शरीर के लिए आयरन को ठीक से अवशोषित करना कठिन हो जाता है। भोजन के तुरंत बाद चाय या कॉफी पीने से आयरन की कमी और एनीमिया जैसी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। ज्यादा कॉफी पीने से उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) और हृदय संबंधी अनियमितताओं का भी खतरा रहता है।

आइसीएमआर ने राष्ट्रीय पोषण संस्थान (एनआइएन) के साथ साझेदारी में स्वस्थ आहार की आदतों को बढ़ावा देने के लिए गाइडलाइन जारी की है। चाय- कॉफी के ज्यादा सेवन के खिलाफ चेतावनी दी गई है। शोधकर्ताओं ने बताया कि चाय और कॉफी में कैफीन होता है, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है। इससे इसकी आदत पड़ जाती है।

ज्यादा कैफीन से घट सकता है खून

आईसीएमआर का कहना है कि 300 ग्राम कैफीन ही रोज ले सकते हैं। इससे ज्यादा सेहत के लिए बेहद खतरनाक होती है। एक कप (150 मिलीलीटर) कॉफी में 50-65 मिलीग्राम और चाय में 30-65 मिलीग्राम कैफीन होती है। गाइडलाइन में प्रतिदिन सिर्फ 300 मिलीग्राम कैफीन की सलाह दी गई है। ज्यादा सेवन से खून की कमी हो सकती है।

चीनी और नमक कम से कम

आईसीएमआर की गाइडलाइन के मुताबिक, बिना दूध वाली चाय पीने से रक्त परिसंचरण (ब्लड लेवल) में सुधार के अलावा कोरोनरी धमनी रोग और पेट के कैंसर का खतरा कम हो जाता है। आइसीएमआर ने चीनी और नमक का सेवन सीमित करते हुए फलों, सब्जियों, साबुत अनाज, कम वसा वाले मांस और समुद्री भोजन यानी सी फूड को खाने में शामिल करने की सलाह दी है।

ICMR आइसीएमआर