Advertisment

सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान पर लॉ पैनल ने दिया सुझाव, जब तक नुकसान की वसूली ना हो तब तक दंगाई को नहीं दी जाए जमानत

author-image
Rahul Garhwal
New Update
सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान पर लॉ पैनल ने दिया सुझाव, जब तक नुकसान की वसूली ना हो तब तक दंगाई को नहीं दी जाए जमानत

NEW DELHI. सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के लिए कड़े कानून बनाए जांएगे। लॉ पैनल ने केंद्र सरकार को एक रिपोर्ट सौंपी है और इसमें दंगाइयों के लिए कड़े जमानत प्रावधानों की सिफारिश की गई है। रिटायर्ड जस्टिस ऋतुराज अवस्थी की अध्यक्षता में 22वें विधि आयोग ने ये रिपोर्ट तैयार की थी।

Advertisment

नुकसान की वसूली के बाद ही दी जाए जमानत

लॉ पैनल ने सुझाव दिया है कि जो दंगाई सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाए। सड़कें जाम, तोड़फोड़, पत्थरबाजी करें। उन पर बाजार मूल्य के बराबर जुर्माना लगाए जाए। जुर्माने की वसूली होने के बाद ही जमानत दी जाए।

आयोग ने कही केरल की तरह कानून बनाने की बात

Advertisment

लॉ पैनल ने रिपोर्ट में बताया कि जुर्माने का मतलब उस राशि से है जो डैमेज हुई प्रॉपर्टी की मार्केट वैल्यू के बराबर होगी। अगर इसकी वैल्यू निकालना संभव न हो तो कुल राशि कोर्ट तय कर सकता है। बदलाव लागू करने के लिए सरकार एक अलग कानून भी ला सकती है। केरल में निजी संपत्ति की नुकसान के नुकसान की रोकथाम और मुआवजा भुगतान अधिनियम बनाया गया है।

नुकसान से बच सकेंगी प्रॉपर्टी

लॉ पैनल की रिपोर्ट में कहा गया है कि दंगाइयों को जमानत देने की शर्त पर डैमेज पब्लिक प्रॉपर्टी की कीमत जमा करने के लिए मजबूर करना प्रॉपर्टी को नुकसान से बचाएगा। आयोग ने कई दंगों का हवाला भी दिया है। इसमें मणिपुर हिंसा भी शामिल हैं। इसके साथ ही आपराधिक मानहानि के अपराध को बरकरार रखने की सिफारिश भी की गई है।

Public Property damage to public property law panel suggestion law panel suggestion to the central government पब्लिक प्रॉपर्टी पब्लिक प्रॉपर्टी का नुकसान लॉ पैनल का सुझाव केंद्र सरकार को लॉ पैनल का सुझाव
Advertisment
Advertisment