क्या आपकी भी शादी है खतरे में? तो पढ़िए मोटिवेशनल स्पीकर बीके शिवानी ने क्या कहा

शादी को भले ही लोग भाग्य से जोड़ते हो लेकिन इसका एक सच यह भी है कि इसे करना और नहीं करना व्यक्ति के स्वयं का फैसला होता है। सिस्टर शिवानी बताती हैं कि शादी हमारे संस्कार और कर्म से जुड़ा है।

author-image
Aparajita Priyadarshini
New Update
shaadi
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

आमतौर पर शादी को भाग्य से जुड़ा हुआ समझा जाता रहा है, लेकिन तलाक भी इसी का हिस्सा है। आमने-सामने या फोन पर तलाक देने के मामले तो आपने कई सुने होंगे, लेकिन मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के रतलाम (Ratlam) जिले में एक ऐसी विचित्र घटना सामने आई जिसने सबको झकझोंर के रख दिया है। पति ने पत्नी के मर्जी के खिलाफ डाक चिट्ठी भिजवा कर उसे तीन तलाक दे दिया।  

पत्नी ने उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। जिसके बाद पति के खिलाफ Muslim Marriage Protection Act 2019 के तहत FIR दर्ज की गई।मोटिवेशनल स्पीकर बीके शिवानी इसे कर्मों से जुड़ा हुआ बताती हैं तलाक से कैसे बचा जा सकता है इस बारे में बीके शिवानी बताती हैं कि 

शादी करना हमारा व्यक्तिगत फैसला है

शादी को भले ही लोग भाग्य से जोड़ते हो लेकिन इसका एक सच यह भी है कि इसे करना और नहीं करना व्यक्ति के स्वयं का फैसला होता है। सिस्टर शिवानी बताती हैं कि शादी हमारे संस्कार और कर्म से जुड़ा है। दो लोगों का एक साथ शादी के पवित्र बंधन में बंधना उनके कार्मिक पैटर्न का परिणाम होता है। यह किस्मत का वह हिस्सा होता है जिसके साथ आप बदलाव कर सकते हैं, लेकिन अपनी मान्यताओं और चिंताओं के कारण ऐसा करने की कोशिश नहीं करते हैं।

ये खबर भी पढ़िए...

Air Ambulance की बातें करने वाले नहीं दे पाए साधारण एंबुलेंस

किस्मत और तलाक एक दूसरे से जुड़े हुए हैं

सिस्टर बताती हैं कि दो लोगों का मिलना जिस तरह से किस्मत से जुड़ा है, उसी तरह उनके अलग होने में भी किस्मत की भागीदारी होती है। लेकिन इसे अपनी आज के कर्मों को सुधार कर पूरी तरह से बदला जा सकता है। क्योंकि किस्मत एक रोडमैप की तरह होती है, जहां हर व्यक्ति को अपना रास्ता खुद बनाना पड़ता है। ऐसे में आप अपने कर्मों के बारे में जागरूक होकर इसे बेहतर से बेहतर बना सकते हैं।

किस्मत की चुनौतियों का सामना करें

सिस्टर शिवानी  ( speaker b k shivani )किस्मत से हार मानने वालों के पक्ष में नहीं है। उनका मानना है कि किस्मत की चुनौतियों का सामना करके आप इसे अपने लिए अवसर बना सकते हैं। अपने कर्मों के बारे में सचेत रहें, नए और बेहतर कर्मों को करें अपने लिए संभावनाएं क्रिएट करें। ध्यान रखें हम सब अपनी रियलिटी खुद बनाते हैं।

 

शादी के पवित्र बंधन सिस्टर शिवानी Muslim Marriage Protection Act 2019 speaker b k shivani स्पीकर बीके शिवानी