Advertisment

Shakti Band को मिला दुनिया का सबसे बड़ा म्यूजिक सम्मान, शंकर महादेवन और जाकिर हुसैन के बैंड ने जीता ग्रैमी अवार्ड

author-image
Pooja Kumari
New Update
Shakti Band को मिला दुनिया का सबसे बड़ा म्यूजिक सम्मान, शंकर महादेवन और जाकिर हुसैन के बैंड ने जीता ग्रैमी अवार्ड

BHOPAL. भारतीय गायक शंकर महादेवन और तबला वादक जाकिर हुसैन को ग्रैमी अवॉर्ड से सम्मनित किया गया। दोनों लीजेंड्री कलाकारों के बैंड 'शक्ति' के एलबम 'दिस मोमेंट' ने बेस्ट ग्लोबल म्यूजिक एलबम की कैटेगरी में ये अवॉर्ड अपने नाम किया। बता दें कि इस एलबम में कुल 8 गाने हैं। इस बैंड में शंकर महादेवन, जॉन मैकलॉलिन, जाकिर हुसैन, वी सेल्वागणेश और गणेश राजगोपालन जैसे कलाकार साथ काम करते हैं। इस बैंड के अलावा बांसुरी वादक राकेश चौरसिया ने भी दो ग्रैमी अवॉर्ड अपने नाम किए हैं।

Advertisment

ग्रैमी अवॉर्ड का 66वां संस्करण

बता दें कि ग्रैमी अवॉर्ड का ये 66वां संस्करण है। ग्रैमी म्यूजिक की दुनिया में दिए जाने वाला सबसे बड़ा अवॉर्ड है। अवॉर्ड सेरेमनी का आयोजन लॉस एंजिल्स के क्रिप्टो.कॉम एरीना में हो रहा है। इस कार्यक्रम में SZA, बिली एलिश, दुआ लिपा, ओप्रा विनफ्रे, मेरिल स्ट्रीप समेत कई बड़े कलाकार शामिल हुए।

45 साल बाद रिलीज हुआ पहला एलबम

Advertisment

फ्यूजन बैंड शक्ति ने 45 साल बाद अपना पहला एलबम रिलीज किया, जिसे सीधे ग्रैमी अवार्ड से नवाजा गया। इंग्लिश गिटारिस्ट जॉन मैकलॉलिन ने 1973 में भारतीय वायलिन प्लेयर एल. शंकर, तबला वादक जाकिर हुसैन और टी.एच. 'विक्कू' विनायकराम के साथ फ्यूजन बैंड 'शक्ति' की शुरुआत की थी। हालांकि, 1977 के बाद ये बैंड बहुत एक्टिव नहीं रहा। 1997 में जॉन मैकलॉलिन ने फिर से इसी कॉन्सेप्ट पर 'रिमेम्बर शक्ति' नाम से बैंड बनाया और इसमें वी. सेल्वागणेश (टी.एच. 'विक्कू' विनायकराम के बेटे), मैंडोलिन प्लेयर यू. श्रीनिवास और शंकर महादेवन को शामिल किया। 2020 में ये बैंड फिर से साथ आया और 'शक्ति' के तौर पर इन्होंने 46 साल बाद अपना पहला एलबम 'दिस मोमेंट' रिलीज किया।

मशहूर भारतीय तबला वादक जाकिर हुसैन का ये तीसरा अवॉर्ड

जानकारी के मुताबिक मशहूर भारतीय तबला वादक जाकिर हुसैन का ये तीसरा ग्रैमी अवॉर्ड है। इससे पहले उन्होंने एलबम 'प्लेनेट ड्रम्स' के लिए टी.एच. 'विक्कू' विनायकराम के साथ ग्रैमी जीता था। 2008 में उन्हें 'ग्लोबल ड्रम प्रोजेक्ट' के लिए भी ग्रैमी मिल चुका है। सोमवार यानी आज, 5 फरवरी को उन्होंने अपना तीसरा ग्रैमी अवॉर्ड अपने नाम किया है। इससे पहले ग्रैमी अवार्ड्स 2022 में भी भारत को दो जीत मिली थीं। तब पी.ए. दीपक, रिक्की केज और स्टीवर्ट कोपलैंड के 'डिवाइन टाइड्स' को 'बेस्ट न्यू एज एलबम' कैटेगरी में जीत मिली थी।

Advertisment

ग्रैमी अवॉर्ड क्या है ?

बता दें कि ये अवॉर्ड म्यूजिक इंडस्ट्री में शानदार काम करने के लिए, एक अमेरिकी ऑर्गेनाइजेशन की तरफ ओर से प्रदान किया जाता है। इसका नाम एक ग्रामोफोन पर रखा गया है। देश के लिए मशहूर सितार वादक एवं संगीतकार स्वर्गीय पंडित रवि शंकर ने पहली बार 1968 में ग्रैमी अवार्ड अपने नाम किया था। उन्हें 5 बार इस अवॉर्ड से नवाजा गया, जिसके बाद ग्रैमी की तरफ से उन्हें लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड भी दिया गया था। उनके अलावा जुबैन मेहता, गुलजार, जाकिर हुसैन, एआर रहमान जैसे कलाकारों को भी ग्रैमी अवॉर्ड मिल चुका है।

कैसे मिलता है ग्रैमी अवॉर्ड

ग्रैमी अवॉर्ड के लिए सबसे पहले किसी गाने या फिर रिकॉर्डिंग को सबमिट करना होता है। इसके बाद इनकी स्क्रीनिंग होती है। अलग-अलग क्षेत्रों के करीब 350 लोग बैठकर ये तय करते हैं कि वो गाना या रिकॉर्डिंग नॉमिनेशन के लायक है या नहीं। साथ ही इन्हें कैटेगरी के हिसाब से लगाया जाता है। इसके बाद ग्रैमी के मेंबर्स वोटिंग करते हैं। वोटिंग करने वाले लोग उस कैटेगरी में महारथ रखते हैं, जिसमें वो वोट डालते हैं। किसी एक कैटेगरी में सबसे ज्यादा वोट पाने वाला गाना या रिकॉर्डिंग ये अवॉर्ड जीतता है। यदि कभी टाई की कंडीशन उत्पन्न हो जाती है तो, ऐसे में अधिक लोगों को ये अवॉर्ड दिया जा सकता है।

Shankar Mahadevan शंकर महादेवन Grammy Award 2024 Zakir Hussain tabla player Zakir Hussain ग्रैमी अवार्ड 2024 जाकिर हुसैन तबला वादक जाकिर हुसैन
Advertisment
Advertisment