GWALIOR: सीमा सुरक्षा बल को मिले 231 जांबाज अफसर, दीक्षांत परेड में ली शपथ

author-image
Dev Shrimali
एडिट
New Update
GWALIOR: सीमा सुरक्षा बल को मिले 231 जांबाज अफसर, दीक्षांत परेड में ली शपथ

GWALIOR News.  बीएसएफ को  231 जांबाज अफसर और मिल गए। सीमा सुरक्षा बल अकादमी, टेकनपुर में शनिवार को उप निरीक्षक  (सीधी भर्ती)  क्रमांक 66 की भव्य दीक्षांत परेड का आयोजन किया गया। दीक्षांत परेड़ में  कुल 231 प्रशिक्षु अधीनस्थ अधिकारियों की आठ प्लाटूनों ने अपर महानिदेशक व निदेशक सीमा सुरक्षा बल अकादमी श्री पंकज गूमर के मुख्य आतिथ्य में शानदार परेड कौशल का प्रदर्शन किया।



 दीक्षांत परेड की शुरूआत मार्कर के परेड ग्राउण्ड पर आने से शुरू हुआ। परेड ने वीरांगना लक्ष्मीबाई परेड स्थल पर सुसज्जित होकर पहले  के एल साह, उप महानिरीक्षक, अकादमी टेकनपुर तथा जे एस ऑबराय, वीएसएम, महानिरीक्षक/ संयुक्त निदेशक एवं मुख्य प्रशिक्षक अकादमी टेकनपुर को सलामी दी।



मुख्य अतिथि  पंकज गूमरने पहले शहीद स्मारक, अजेय प्रहरी पर जाकर पुष्पचक्र एवं श्रद्धांजलि अर्पित की। उसके उपरान्त सीमा सुरक्षा बल के अश्वरोही दल की अगवानी में परेड स्थल पर पहुंचे और वहां परेड की सलामी ली। इसके बाद सुसज्जित परेड का निरीक्षण किया। परेड कमाण्डर प्रशिक्षु अधिनस्थ अधिकारी श्री विनय कांडपाल तथा सभी प्रशिक्षु अधीनस्थ अधिकारियों ने मुख्य अतिथि  पंकज गूमर के समक्ष देश के संविधान के प्रति एकता, अखण्डता व सम्प्रभुता को बनाये रखने के लिये अपने आपको समर्पित करने की शपथ ली।



इन प्रशिक्षुओं ने अकादमी के संयुक्त निदेशक  जे एस ऑबराय वीएसएम, महानिरीक्षक  के एल साह, उप महानिरीक्षक  प्रदीप कुमार दुबे, कमाण्डेंट एवं अधिकारी प्रशिक्षण केन्द्र की प्रशिक्षण टीम के कुशल मार्गदर्शन में 51 सप्ताह का कठिन प्रशिक्षण प्राप्त करके अपने आपको देश की सीमाओं की देखभाल के लिए सक्षम बनाया है। प्रशिक्षण में शारीरिक प्रशिक्षण, ड्रिल, युद्ध कौशल, निशानेबाजी, विधि व कानून, मानवाधिकार अधिनियम, पुलिस की रोजमर्रा की कार्यवाही, आपदा प्रबंधन, मैप रीडिंग, सीमा की निगरानी, आतंकवाद व उग्रवाद से निपटने की कला जैसे विषयों के साथ वाहन चलाना, कम्प्युटर प्रशिक्षण, तैराकी और एडवेन्चर ट्रेनिंग का भी गहन प्रशिक्षण शामिल है। ट्रेनिंग के दौरान इनके व्यक्तित्व को संवारने, चरित्र निर्माण तथा नेतृत्व क्षमता को विकसित करने पर विशेष कार्यक्रम के साथ - साथ विभिन्न सीमान्तों की सीमाओं का दौरा (बार्डर टूर) भी कराया गया है।



मुख्य अतिथि  गूमर ने दीक्षांत परेड समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि आज प्रशिक्षु अधिकारियों का स्मार्ट टर्न आऊट, निपुण ड्रिल एवं जोश इस अकादमी में प्रशिक्षण के दौरान प्राप्त किए उच्च दर्जे के व्यावहारिक प्रशिक्षण, सक्षमता, आत्मविश्वास को जाहिर करता है। मुझे यकीन है कि आप अपनी लगन,



 समर्पण एवं कठोर परिश्रम की बदौलत न सिर्फ सीमा सुरक्षा बल का, वरन् भारतवर्ष का नाम दुनिया में रोशन करेगें। उन्होंने प्रशिक्षु अधिनस्थअधिकारियों के माता-पिता को अपने बच्चों को देश सेवा हेतु भेजने के लिए बधाई दी। परेड के उपरान्त  पंकज गूमर पिपिंग सेरेमनी में प्रशिक्षु अधिनस्थ अधिकारियों और उनके अभिभावकों से मिले।



दीक्षांत परेड के अवसर पर श्री जे एस ऑबराय, वीएसएम, महानिरीक्षक/ संयुक्त निदेशक अन्य अधिकारीगण व कार्मिक, प्रशिक्षु अधिनस्थ अधिकारियों के परिवारजन भी उपस्थित थे। परेड़ के समाप्त होने के पश्चात उपस्थित अभिभावकों तथा दर्शकों के मनोरंजन के लिये शानदार डॉग शो,चेतक (जिप्सी) को चलती हालत में 2 मिनट 2 सैकेंड में खोल कर वापस जोड़ के चलाने का प्रदर्शन व गजराज (टाटा 407) को 2 मिनट 36 सैकेंड में खोल कर वापस जोड़ के चलाने का प्रदर्शन किया गया, जिसका लोगों ने बहुत आनन्द उठाया।





इन प्रशिक्षु अधिकारियों को मिलीं ट्राफियां





क्रमांक    ट्राफी का नामः    उप निरीक्षक (सीधी भर्ती)



1    बैटन ऑफ ऑनर(ऑल राउण्ड सर्वोत्तम)    मयंक कुमार



2    नरेशयादवट्रॉफी(ड्रिल प्रशिक्षण में प्रथम)    विनय कांडपाल



3    उप्पलट्राफी (बाहरी प्रशिक्षण में सर्वोत्तम)    आशिष शयोराण



4    महानिदेशक ट्रॉफी (आन्तरिक प्रशिक्षण में प्रथम)    मयंक कुमार



5    वाधवा ट्रॉफी(फायरिंग प्रशिक्षण में प्रथम)    अनुराग सिंह शेखावत



6    चंदेल ट्राफी (खेलकूद में प्रथम)    सोनित बूरा



7    विकासभारद्वाजट्रॉफी(कम्प्युटर अवेयरनेस में प्रथम)    अंशुल त्यागी



BSF बीएसएफ Officer अफसर Sub Inspector brave convocation parade additional director general जांबाज उप निरीक्षक दीक्षांत परेड अपर महानिदेशक