Advertisment

छतरपुर में बागेश्वर का स्वामी प्रसाद पर निशाना- रामचरितमानस को पाखंड कहना धूर्तता; भारत हिंदू राष्ट्र हो तो इसमें क्या बुराई?

author-image
Vijay Choudhary
New Update
छतरपुर में बागेश्वर का स्वामी प्रसाद पर निशाना- रामचरितमानस को पाखंड कहना धूर्तता; भारत हिंदू राष्ट्र हो तो इसमें क्या बुराई?

CHATARPUR. बागेश्वरधाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण इन दिनों विवादों में घिरे हैं। चमत्कार के दावे को चुनौती और जान से मारने की धमकी के बाद वे छतरपुर में बागेश्वरधाम पहुंचे। यहां उनके स्वागत में हजारों भक्तों का काफिला उमड़ा। रास्ते में पांच किमी तक लोग खड़े दिखे।धमकी के बाद उनकी सुरक्षा बढ़ा दी गई। धाम पर भी पहरा सख्त कर दिया गया। सुरक्षा को लेकर धीरेंद्र शास्त्री ने कहा- अगर किसी को अगर गर्राट चढ़ा हो तो उसके लिए तो फिर व्यवस्था बहुत जरूरी है। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरितमानस की कुछ चौपाइयों को लेकर टिप्पणी की थी।

Advertisment





publive-image





स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर बोले बागेश्वर





इसको लेकर बागेश्वर धाम के कथावाचक धीरेंद्र शास्त्री से सवाल किया तो उन्होंने कहा कि हम सब साथ हों तो भारत हमारा हिंदू राष्ट्र हो। यही बालाजी से कामना है। हम कोई सरकार नहीं हैं कि निर्णय दे देंगे कि हिंदू राष्ट्र होना चाहिए। हम पॉलिटीशियन नहीं, आध्यात्मिक गुरु हैं। हमारा उद्देश्य ये है कि हम सब सनातनी साथ हों तो भारत हिंदू राष्ट्र हो। इसमें बुराई क्या है। इतने इस्लामिक देश हैं, क्रिश्चियन देश हैं तो क्या हिंदुओं के लिए एक राष्ट्र नहीं होना चाहिए। क्या इस तरह की मांग करना लॉजिकली सही है, क्या ये बात करना संविधान के खिलाफ है। ये हमारी प्रार्थना है, मांग है, हम मना थोड़ी रहे हैं। मनाना तो हर सनातनी को है। 

Advertisment





publive-image





ये खबर भी पढ़िए...





नागपुर में मिले चैलेंज पर बागेश्वर धाम सरकार का बयान: धर्म विरोधी लोग आरोप लगाते हैं, इसे हम गंभीरता से नहीं लेते

Advertisment





रामचरितमानस को पाखंड कहना धूर्तता- बागेश्वर  





हमारी ना तो पॉलिटिक्स पर और ना ही पॉलिटिक्स से जुड़े व्यक्ति पर कोई टिप्पणी रहती है। लेकिन रामचरितमानस को वे पाखंड कह रहे हैं तो यह धूर्तता है। रामचरितमानस राष्ट्रीय ग्रंथ है जो हर भारतीय, हर व्यक्ति को जोड़ने का काम करती है। राम सेतु इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। उन्होंने आगे कहा कि रामचरित मानस को वो जहर कह रहे हैं तो ये धूर्तता है। ऐसा नहीं उन्हें कहना चाहिए। रामचरित मानस को राष्ट्रीय ग्रंथ रामचरित मानस एक ऐसी ग्रंथ है जो प्रत्येक मानस को जोड़ने का काम करती है।





publive-image

Advertisment





रामचरितमानस पर सपा नेता ने ये दिया था विवादित बयान





रामचरितमानस पर बिहार के मंत्री की आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा, रामचरितमानस में दलितों और महिलाओं का अपमान किया गया है। तुलसीदास ने ग्रंथ को अपनी खुशी के लिए लिखा था। करोड़ों लोग इसे नहीं पढ़ते। इस ग्रंथ को बकवास बताते हुए कहा कि सरकार को इस पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए। ब्राह्मण भले ही दुराचारी, अनपढ़ हो, लेकिन वह ब्राह्मण है। उसको पूजनीय कहा गया है। लेकिन शूद्र कितना भी ज्ञानी हो, उसका सम्मान मत कीजिए। मौर्य ने सवाल उठाया, क्या यही धर्म है? जो धर्म हमारा सत्यानाश चाहता है, उसका सत्यानाश हो। 





publive-image

Advertisment





बागेश्वरधाम को लेकर ये बोले थे स्वामी प्रसाद





स्वामी प्रसाद मौर्य ने बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री पर हमला बोलते हुए कहा, धर्म के ठेकेदार ही धर्म को बेच रहे हैं। धीरेंद्र शास्त्री ढोंग फैला रहे हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि इससे पहले 11 जनवरी को बिहार के शिक्षामंत्री चंद्रशेखर ने भी रामचरित मानस को नफरत फैलाने वाला हिंदू धर्म ग्रंथ बताया था। 





publive-image

Advertisment





हिंदू राष्ट्र की मांग करने में क्या बुराई?





हिंदू राष्ट्र बनाने के नारे पर उन्होंने कहा कि अगर हम साथ हैं तो भारत हमारा हिंदू राष्ट्र है। हमारी बालाजी से कामना है हम कोई सरकार नहीं हैं कि हम निर्णय दें कि हम हिंदू राष्ट्र देंगे या हिंदू राष्ट्र बनाएंगे। हम कोई पॉलिटिशियन भी नहीं हैं। हम एक आध्यात्मिक गुरु हैं यो हमारा उद्देश्य यह है कि अगर हम सब सनातनी साथ हों तो भारत हिंदू राष्ट्र हो इसमें बुराई क्या है। जैसे इस्लामिक देश हैं, क्रिश्चिनी देश हैं तो क्या एक हिंदुओं के लिए हिंदू राष्ट्र नहीं होना चाहिए, क्या ये मांग ये प्रार्थना ये बात करना अनलॉजिकल है। क्या ये भारत में बात करना संविधान के खिलाफ है। प्रार्थना है मांग है हम बना थोड़ी रहे बनाना तो प्रत्येक भारतीय सनातनी को है।





publive-image

Advertisment





बागेश्वर के स्वागत में उमड़ा काफिला





हाईवे पर एक लाइन से हजारों की संख्या में लोग चल रहे थे। हाईवे के दोनों ओर हाथ में फूल लिए लोग लाइन लगाकर खड़े थे। करीब चार किमी पहले से लाइन में लगे उनके भक्त आतिशबाजी और ढोल की थाप पर नाच-गा रहे थे। जयकारों की गूंज दूर तक सुनाई दे रही थी। गढ़ा गांव में बागेश्वर धाम के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का दिव्य दरबार सजता है। महाराज का काफिला धाम से निकला और आगे बढ़ा धीरेंद्र शास्त्री ब्लैक गाड़ी में सनरूफ खोलकर कार से बाहर निकले। वे कभी हाथ जोड़ते तो कभी अपने चाहने वालों को नमस्कार करते। एक-दूसरे को धक्का देते हुए वे महाराज तक पहुंचने की कोशिश कर रहे थे। गिरते-पड़ते गाड़ी तक पहुंचे तो उसे ही स्पर्श कर ऐसा समझा जैसे आशीर्वाद मिल गया हो। कोई छत पर तो कोई पेड़ पर चढ़कर बैठा था। कोई रो रहा था तो कोई धमकी देने वाले को लेकर अपना आक्रोश जता रहा था। नेता हो या आम हर कोई उनका समर्थन करने के लिए खड़ा था। महाराज भी घर की छत पर पहुंचे और किसी नेता-अभिनेता की तरह भक्तों को दर्शन देने लगे। इसके बाद बाबा यहां से वापस अपने धाम लौट आए।





publive-image





जान से मारने की धमकी पर बोले बागेश्वर





जान से मारने की धमकी वाले मामले पर बागेश्वर धाम ने कहा कि इस भारत देश में जब-जब भी सनातन की बात आई तो लोगों ने बोला है इससे डरना नहीं है। हमें अपने इष्ट बागेश्वर धाम हनुमान जी पर भरोसा है। साधु संत के तुम रखवारे असुर निकंदन राम दुलारे... हनुमान चालीसा पर हमें अपने इष्ट हनुमान जी पर पूरा भरोसा है। भारत के नागरिक होने के नाते हमें मध्यप्रदेश सरकार और भारत सरकार पर भी पूरा भरोसा है और ये तो चलता रहेगा यह कोई नई बात नहीं है कोई बड़ी बात नहीं।





'राजनीति से हमारा कोई लेना देना नहीं'





बागेग्शवरधाम ने कहा कि हम बहुत ज्यादा राजनीति में नहीं पड़ते। ना ही हमारा राजनीति से कोई लेना-देना। अध्यात्म से संबंध है हमारे जीवन की यात्रा से संबंधित है जो जो सनातनी है वह हमारा है।





publive-image





हिंदुओं को एक करने में लगे हुए हैं- बागेश्वर





धमकी के बाद श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने पर बोले- उस पर हमें कुछ भी नहीं कहना है। पहले से ही बागेश्वर धाम से लाखों लोग जुड़े हैं। हर मंगलवार 4 से 5 लाख श्रद्धालु आते हैं। और जो सनातनी हैं वो सब हिंदू एक हो रहे हैं। क्योंकि हमारा उद्देश्य और संकल्प सीधा स्पष्ट है सनातन... सनातन... सनातन...। अब हम जातियों में न बिखरकर हिंदुओं को एक करने में लगे हुए हैं।





सुरक्षा मिले तो ठीक, ना मिले तो ठीक





धमकी मिलने पर सिक्योरिटी की मांग पर उन्होंने कहा कि अगर होती है तो कोई दिक्कत नहीं। एक होती है लौकिक व्यवस्था और एक होती है आध्यात्मिक व्यवस्था। शक्ति के बल पर अगर कोई लड़ने आता है तो हमारे पास हनुमान जी महाराज हैं और पराशक्ति है, गुरुदेव की कृपा है, लेकिन भौतिक में अगर किसी को अगर गर्राट चढ़ा हो तो उसके लिए तो फिर व्यवस्था बहुत जरूरी है। 





publive-image





महाराज को धमकी देने वालों को बख्शा नहीं जाएगा





महाराज के स्वागत के लिए लाखों लोगों के भीड़ इकट्ठा हुई। यहां उनकी एक झलक पाने के लिए लाखों की भीड़ लगी हुई है। वे महाराज को धमकी देने वाले का गला काटने और चीर देने की बात कहते हैं। उन्होंने कहा कि अगर कोई महाराज को झूठा साबित करता है तो मैं अपना सब कुछ लुटा दूंगा। महाराज जी बहुत बड़ी शक्ति हैं, कोई नहीं टिकता उनके आगे। बाबाजी को जो धमकी मिली है। उस धमकी से हम डरने वाले नहीं बाबा जी के लिए हम अपनी जान दे देंगे और किसी की जान ले भी लेंगे।बागेश्वर धाम पहुंची सुशीला लोधी की मानें तो वे सागर जिले की रहने वाली हैं। उनकी शादी को 20 साल हो गए हैं। संतान की प्राप्ति नहीं हुई तो पति के साथ बागेश्वर धाम आई। वह पहली बार इसी कामना के साथ आई है।





publive-image





गुरुजी ने देश भर में सनातन की अलख जगाई- अरुण पटेरिया 





बागेश्वरधाम पहुंचे बीजेपी के जिला महामंत्री अरुण पटेरिया ने कहा कि ये सब षड्यंत्रकारी हैं जो कुछ नहीं कर पाते वो धमकी देते हैं। ये सारी मीडिया, देश, दुनिया जानती है कि किस प्रकार हमारे गुरुजी ने देश भर में सनातन की अलख जगाई है, जिससे विरोधी बौखलाए हुए हैं। उनकी ख्याति फैल रही है, इसलिए फालतू के आरोप लगा रहे हैं।





पटेरिया ने कहा





धीरेंद्र शास्त्री के स्वागत दर्शन में आई भीड़ देखकर विरोधियों को जवाब मिल रहा होगा कि क्षेत्र की जनता उनके साथ खड़ी हुई है। अगर अब कोई इस तरह के बयान, धमकी, स्टेटमेंट देता है तो उसे इसका बड़ा ख़ामियाजा उठाना पड़ेगा। अब अगर कोई भी इस प्रकार के अनर्गल स्टेटमेंट जारी करता है तो उसे इसका बड़ा खामियाजा उसे भुगतना होगा।





publive-image





अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति ने की थी पुलिस से शिकायत





हाल ही में पंडित धीरेंद्र शास्त्री नागपुर गए थे, जहां उन्होंने अपना दिव्य दरबार लगाया था। इसे लेकर अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति के संस्थापक और नागपुर की जादू-टोना विरोधी नियम जनजागृति प्रचार-प्रसार समिति के सह-अध्यक्ष श्याम मानव ने पुलिस को शिकायत की थी। इसके बाद धीरेंद्र कृष्ण की कथा करने रायपुर पहुंचे थे। इस बीच धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के चचेरे भाई को एक शख्स ने मोबाइल पर धमकी दी थी कि धीरेंद्र शास्त्री की परिवार समेत तेरहवीं की तैयारी कर लो।





publive-image





पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के भाई ने कराई थी FIR





बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर के 27 वर्षीय भाई लोकेश गर्ग को उनके मोबाइल नंबर पर खुद को अमर सिंह बताने वाले एक व्यक्ति ने 897634.... मोबाइल नंबर से फोन लगाकर यह धमकी दी। लोकेश गर्ग ने पुलिस को बताया कि धमकी देने वाले ने पहले तो कहा कि धीरेंद्र से मेरी बात कराओ जब मैंने उक्त व्यक्ति से कहा कि वे रायपुर कथा में गए हैं बात कराना संभव नहीं है तब उक्त धमकी देने वाले व्यक्ति ने कहा कि वह धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री की तेरहवीं की तैयारी कर ले। इतना कहकर आरोपी ने फोन काट दिया। पुलिस ने इस मामले में लोकेश गर्ग की शिकायत पर अज्ञात कथित आरोपी अमर सिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।





एसपी ने बनाई एसआईटी





बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर को मिली धमकी के बाद एसपी सचिन शर्मा ने आरोपी की तलाश के लिए एएसपी विक्रम सिंह के नेतृत्व में 25 सदस्यीय जांच कमेटी गठित की है। इस कमेटी में एसडीओपी खजुराहो मनमोहन सिंह बघेल, एसडीओपी बड़ामलहरा शशांक जैन, थाना प्रभारी बमीठा अरविंद दांगी, राजनगर टीआई राजेश बंजारे सहित साइबर सेल के पुलिस अधिकारी शामिल हैं। एसपी ने कहा कि आरोपी को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।





वीडियो देखें- 







Bageshwardham controversy Bageshwardham reached Chhatarpur grand reception for Bageshwar  Chhatarpur challenge Bageshwar Bageshwar targeted Swami Prasad Maurya बागेश्वरधाम विवाद बागेश्वरधाम छतरपुर पहुंचे बागेश्वर का छतरपुर में भव्य स्वागत बागेश्वर को चुनौती बागेश्वर ने स्वामी प्रसाद मौर्य पर साधा निशाना
Advertisment
Advertisment