Advertisment

उज्जैन की जेल में कर्मचारियों को पता ही नहीं चला, जेल प्रहरी ने निकाल लिया कई कर्मचारियों का जीपीएफ, 10 करोड़ से ज्यादा की खयानत

author-image
Rajeev Upadhyay
New Update
उज्जैन की जेल में कर्मचारियों को पता ही नहीं चला, जेल प्रहरी ने निकाल लिया कई कर्मचारियों का जीपीएफ, 10 करोड़ से ज्यादा की खयानत

Ujjain. प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों के जीपीएफ का घोटाला सामने आया है, जिसके बाद प्रशासन में हड़कंप है। उज्जैन के भेरूगढ़ सेंट्रल जेल के कर्मचारियों के पीएफ खाते से 10 करोड़ रुपए निकल गए, जबकि उनमें से कई ने जीपीएफ निकालने का आवेदन ही नहीं दिया था। और तो और यह खयानत करने वाला जेल प्रहरी फरार है। पुलिस उसे ढूंढ रही है। दरअसल मामले का खुलासा खुद जेल अधीक्षक ने किया है और पुलिस को कार्रवाई के लिए रिपोर्ट दर्ज करवाई है। 

Advertisment





जेल अधीक्षक ऊषा राजे ने बताया कि साल 2018 से कर्मचारी जीपीएफ की राशि को फर्जी ढंग से निकाल रहा था। जब मामले पर शक हुआ तो जेल के लेखा विभाग में कार्यरत जेल प्रहर रिपुदमन रघुवंशी पर नजर रखना शुरू कर दी। मामले का बारीकी से परीक्षण हुआ तो पता चला कि रघुवंशी ने कर्मचारियों के नाम पर जीपीएफ की राशि में हेरफेर किया है। 







  • यह भी पढ़ें 



  • उज्जैन में तलवार घुमाते हुए महाकाल मंदिर के पुजारी के बेटे को हुई घबराहट, साइलेंट अटैक से मौत की आशंका, शोरगुल से आया अटैक
  • Advertisment







    10 करोड़ से ज्यादा की खयानत





    जेल अधीक्षक ने बताया कि जेल प्रहरी कर्मचारी के जीपीएफ निकाले जाने के आवेदन आने पर दशमलव हटा देता था। मसलन किसी ने 1 लाख 30 हजार रुपए की राशि निकालने का एप्लीकेशन दिया तो रघुवंशी उसके जरिए कर्मचारी के एकाउंट से ही 13 लाख रुपए निकाल लेता था। अभी तक उज्जैन कलेक्टर की ओर से 8 कर्मचारियों के नाम आए हैं जिनके नाम पर यह गड़बड़ की गई। वहीं आरोपी रिपुदमन रघुवंशी फरार है। 

    Advertisment







    लेखा शाखा में काम करने वाले जेल प्रहरी रिपुदमन रघुवंशी जीपीएफ निकालने की लंबी प्रक्रिया को फर्जी तरीके से शॉर्टकट के जरिए करोड़ों रुपए की हेराफेरी कर दी। जेल अधीक्षक उषा राजे के मुताबिक कई कर्मचारियों का बिना आवेदन दिए ही जेल प्रहरी ने राशि निकालकर गबन कर दिया। उन्होंने बताया कि जीपीएफ निकालने के लिए आवेदन दिया जाता है, जो आवक जावक शाखा से होते हुए जेलर के पास पहुंचता है। इसके बाद अधीक्षक के पास आता है और फिर पात्रता के लिए लेखापाल के पास नोटशीट जाती है। किसी भी कर्मचारी को निर्धारित सीमा में ही जीपीएफ निकालने की अनुमति होती है, मगर बिना आवेदन के ही लेखापाल गड़बड़ी करते हुए कई कर्मचारियों का पैसा निकाल लिया. 





    यह भी बताया गया कि आरोपी जेल प्रहरी ने कर्मचारियों की फर्जी आईडी के जरिए भी यह कृत्य किया है। मामले की विस्तृत जांच के बाद यह सामने आएगा कि इस हेराफेरी में उसके साथ कौन-कौन लोग शामिल हैं। 



    Ujjain News उज्जैन न्यूज़ Now GPF scam rigging in Ujjain jail scam of more than 10 crores अब GPF का घोटाला उज्जैन जेल में हुई हेराफेरी 10 करोड़ से ज्यादा का घोटाला
    Advertisment
    Advertisment