Advertisment

महादेव सट्टा केस: निलंबित आरक्षक भीम सिंह यादव बर्खास्त, आदेश जारी

छत्तीसगढ़ में महादेव सट्टा ऐप केस में आरोपी पुलिस आरक्षक के खिलाफ कार्रवाई हुई है। दुर्ग पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला ने निलंबित आरक्षक भीम सिंह यादव को सेवा से बर्खास्त कर दिया है। एसपी ने गुरुवार को आरक्षक को बर्खास्त करने का आदेश जारी किया।

author-image
Vikram Jain
एडिट
New Update
constable Bhim Singh dismissed

महादेव सट्टा मामले में कॉन्स्टेबल भीम सिंह यादव बर्खास्त।

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

RAIPUR. छत्तीसगढ़ के हाईप्रोफाइल महादेव सट्टा ऐप केस (mahadev satta app case) में आरोपी आरक्षक के खिलाफ कार्रवाई हुई है। मामले में दुर्ग पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला (Durg SP Jitendra Shukla)ने निलंबित आरक्षक (police constable) भीम सिंह यादव को पुलिस की सेवा से बर्खास्त कर दिया है। एसपी ने गुरुवार को आरक्षक को बर्खास्त करने का आदेश जारी किया।

Advertisment

वहीं ऐप के प्रमोटर रवि उप्पल पर भी दुर्ग पुलिस ने 35 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। एक दिन पहले ऐप संचालक सौरभ चंद्राकर के पर भी 35 हजार का इनाम घोषित किया था। सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल मिलकर ऑनलाइन सट्टे का कारोबार चला रहे थे।

दुर्ग एसपी ने दी जानकारी

दुर्ग एसपी जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) रायपुर ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में सुपेला थाने में तैनात आरक्षक भीम सिंह यादव को गिरफ्तार किया था। ऑनलाइन अवैध सट्टेबाजी वेबसाइट, महादेव ऑनलाइन बुक मामले में ED जांच कर रही है। जांच के दौरान महादेव ऑनलाइन बुक के सट्टेबाजी संचालन में आरक्षक भीमसिंह यादव के शामिल होने का खुलासा हुआ है। 

Advertisment

Dismissal order issued

'आरक्षक का कृत्य बेहद गंभीर'

एसपी ने आगे कहा कि आरक्षक का कृत्य अत्यंत गंभीर प्रकृति का है, इसके साथ ही उन्होंने आरक्षक के इस कृत्य की जांच युक्तियुक्त रूप से व्यवहार नहीं है, क्योंकि आरक्षक (निलंबित) का कृत्य मप्र छग पुलिस रेग्यू के प्रावधान के तहत पुलिस पदाधिकारी केवल पुलिस सेवा के लिए अपना पूरा समय लगाएगा, वह किसी भी व्यापार या व्यवसाय में जैसा भी हो, भाग नहीं लेगा, जब तक कि ऐसा करने के लिए स्पष्ट रूप से अनुमति प्राप्त न हो।

Advertisment

आरक्षक के खिलाफ कार्रवाई को लेकर एसपी ने कहा कि ऐसी स्थिति में कर्मचारी का पुलिस जैसे अनुशासित विभाग में बना रहना जनहित में उचित नहीं है। यह गंभीर आपराधिक मामला होने के कारण कड़ी कार्रवाई की गई है, जिससे समाज में पुलिस विभाग के उच्च स्तरीय मानकों की छवि बरकरार रहने के साथ ही विभागीय व्यवस्था सुदृढ बनी रहे।

दरअसल, महादेव सट्टा ऐप केस में जांच करते हुए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भिलाई के हाउसिंग बोर्ड निवासी असीम दास उर्फ बप्पा और आरक्षक भीम सिंह यादव को गिरफ्तार किया था। मामले में जांच के दौरान ED ने असीम दास उर्फ बप्पा के घर और रायपुर स्थित होटल से लगभग सात करोड़ रुपए कैश जब्त किये थे। इस दौरान 15 करोड़ से अधिक के ऑनलाइन अकाउंट सीज किए गए थे। 

दुबई पुलिस की गिरफ्त में है रवि उप्पल

रवि उप्पल को करीब 2 माह पहले संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में गिरफ्तार किया गया है। रवि भारत में वांटेड है।(ED के कहने पर इंटरपोल ने रवि उप्पल के खिलाफ पहले ही रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था। माना जा रहा है कि इसके बाद सौरभ चंद्राकर की गिरफ्तारी भी जल्द हो सकती है।

Enforcement Directorate (ED) mahadev app case Durg SP Jitendra Shukla
Advertisment
Advertisment