गुड गवर्नेंस के लिए IIM में चिंतन कर रही विष्णु सरकार, मंत्री सीख रहे टास्क मास्टर बनने का सबक

IIM रायपुर में दो दिवसीय चिंतन शिविर का शुभारंभ, मुख्यमंत्री विष्णु देव साय सहित मंत्रिमंडल के सदस्य ले रहे हिस्सा। चिंतन शिविर का मकसद सरकार को एफीशिएंट बनाना है ताकि योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन हो सके।

author-image
Aparajita Priyadarshini
New Update
668
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

अरुण तिवारी,रायपुर 

मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय सुशासन के लिए चिंतन क्लास कर रही है। दो दिन की यह चिंतन क्लास आईआईएम यानी भारतीय प्रबंध संस्थान में लगी है। इस क्लास में मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय के साथ सभी मंत्री मौजूद हैं। दो दिन तक अलग-अलग विषय के विशेषज्ञ मंत्रियों को सुशासन और टास्क मास्टर बनने के गुर सिखाएंगे। पहले दिन नीति आयोग के सीईओ ने लेक्चर लिया। इस चिंतन शिविर का मकसद सरकार को एफीशिएंट बनाना है ताकि योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन हो सके और जनता तक सरकार की योजनाएं पहुंच पाएं। विष्णु सरकार में अधिकांश मंत्री नए हैं इसीलिए ये चिंतन शिविर आयोजित किया गया है। इस चिंतन शिविर में आईटी के इस्तेमाल से कामकाज में तेजी लाना और विभागीय अधिकारियों के साथ समन्वयन बिठाना भी सिखाया जाएगा। 

स्किल,स्पीड और इनोवेशन पर जोर 

प्रथम सत्र को नीति आयोग के सीईओ श्री बीवीआर सुब्रमण्यम ने संबोधित किया। अपने संबोधन में सुब्रमण्यम ने विकसित भारत की संकल्पना और इसे प्राप्त करने की रणनीति के संबंध में विस्तार से अपनी बातें साझा की। उन्होंने कहा कि बीते दस सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत तेजी से आगे बढ़ा है और दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में अपनी जगह बनाने में सफल रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने विकसित भारत 2047 बनाने का संकल्प लिया है और इसे पूरा करने की रणनीति बनाई गई है। सुब्रमण्यम ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी स्किल, स्पीड और इनोवेशन पर जोर देते हैं। बदलते अंतराष्ट्रीय परिदृश्य और समय को देखते हुए विकसित भारत का विजन तैयार किया गया है ताकि भारत अपनी विशिष्ट जगह बना सकें। उन्होंने कहा कि अब दुनिया की निगाहें ग्लोबल साउथ पर हैं। अब नजरिया पश्चिम से पूर्व की ओर देखने का है और भारत इन संभावनाओं को पूरा करने के लिए सक्षम है। भारत की जनांकिकी, भारत की रणनीतिक स्थिति और भारत में तेजी से हुए सुधारों से इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए भारत तैयार है। चाहे डिजिटल इकानामी हो, या कर संबंधी सुधार हो। नवाचार को बढ़ावा देना हो, भारत इसमें अग्रणी रहा है और आने वाले समय में इन्हें तेजी से बढ़ाना है। विकसित भारत सबके लिए समृद्धि लेकर आये, इसके लिए कार्य करना है। क्लाइमेट चेंज जैसी समस्याओं को देखते हुए ग्रीन एनर्जी को बढ़ावा देते हुए सतत विकास की दिशा में काम करना है। उन्होंने कहा कि जब हम विजन लेकर चलते हैं तो स्वाभाविक रूप से हमें एक गाइड मैप मिल जाता है और इसके अनुरूप हम बढ़ते जाते हैं। सुब्रमण्यम ने कहा कि विकसित भारत का संकल्प पूरा करने में छत्तीसगढ़ की अहम भागीदारी होगी। छत्तीसगढ़ में विकसित राज्य बनने के लिए और तीव्र विकास के लिए असीम संभावनाएं हैं और इस दिशा में आगे बढ़कर छत्तीसगढ़ अपने विकास के साथ ही विकसित भारत के लक्ष्य को पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

ये भी पढ़ें...

bageshwar dham : धीरेंद्र शास्त्री के दरबार में अर्जी लगाने पहुंची महिला का संदिग्ध हालत में मिला शव

मंत्रियों ने बताईं अपनी कार्यशैली 

सभी मंत्रियों ने आपसी संवाद में छत्तीसगढ़ में इस संबंध में बनाई जा रही नीतियों के बारे में बताया। साथ ही उन्होंने सुब्रमण्यम के सामने अपने सवाल भी रखे। जिस पर विकसित छत्तीसगढ़ और विकसित भारत के उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए बातचीत की गई। दो दिवसीय इस चिंतन शिविर में छत्तीसगढ़ के विजन के लिए विचार  विमर्श होना है। साथ ही संसाधनों के उपयोग और योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन पर भी चर्चा होगी।

thesootr links

 सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें









CM Vishnu Deo Sai छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय good governance class iim raipur विष्णुदेव साय सुशासन के लिए चिंतन क्लास नीति आयोग के सीईओ श्री बीवीआर सुब्रमण्यम