वाह मुलताई पुलिस : पहले करवाई शादी फिर पति पर रेप की एफआईआर

बैतूल में एक दुष्कर्म पीड़िता थाने में एफआईआर करवाने के लिए सुबह से शाम तक बैठी रही, लेकिन उसकी एफआईआर पुलिस ने दर्ज नहीं की। थाने के टीआई सहित पूरा स्टाफ सड़क पर डांस करने में बिजी था।

Advertisment
author-image
Pratibha ranaa
New Update
Betul Multai police
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

बैतूल के मुलताई थाने से एक अजीबो- गरीब मामला सामने आया है। यहां एफआईआर दर्ज करवाने थाने पहुंची दुष्कर्म पीड़िता सुबह से शाम तक पुलिस का इंतजार करती रही, लेकिन पुलिस कर्मी थाने से नदारद रहे। बाद में मामले ने जब तूल पकड़ा तो पुलिस एफआईआर दर्ज करने की जगह पीड़ित महिला और आरोपी पक्ष के मध्य कथित रूप से थाने में ही समझौता करवा देती है। पुलिस पीड़िता और आरोपी की शादी करवा देती है।

शादी के चौथे दिन यानी 6 जुलाई को महिला मीडियाकर्मियों को फोन करती है और बताती है कि उसकी जान को खतरा है। पुलिस ने गलत तरीके से उसकी शादी करवा दी। इसके बाद उच अधिकारियों तक मामला पहुंचता है और फिर एएसपी मुलताई पहुंचती है।

थाने में चल रहा था एसडीओपी का रिटायरमेंट 

जानकारी के मुताबिक मुलताई थाने में दुष्कर्म पीड़िता थाने में एफआईआर करवाने पहुंची थी। वह सुबह से शाम तक बैठी रही, लेकिन उसकी एफआईआर पुलिस ने दर्ज नहीं की। ऐसा इसलिए क्योंकि थाने के टीआई सहित पूरा स्टाफ सड़क पर डांस करने में बिजी था। उस दिन मुलताई के एसडीओपी एसपी सिंह रिटायर हुए थे, इसलिए मुलताई थाने में उनकी विदाई पार्टी थी। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

पुलिस ने FIR की जगह करवाया समझौता

अगले दिन जब महिला के इस मामले ने तूल पकड़ा तो पुलिस ने तब भी मामले की एफआईआर दर्ज नहीं की। पुलिस ने पीड़ित महिला और आरोपी पक्ष का समझौता करवाकर उनकी शादी करवा दी। शादी के चौथे दिन 6 जुलाई को महिला पुलिस को बताती है कि उसकी जान को खतरा है। पुलिस ने बरगला कर और गलत तरीके से उसकी शादी करवा दी है। इसके बाद ये मामला उच अधिकारियों तक मामला पहुंचता है।  

पुलिस की बड़ी लापरवाही

7 जुलाई को हुई जांच- पड़ताल में पता चलता है कि मुलताई पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 450,376 धारा 323,506 भादवि के तहत केस दर्ज किया है। ये पूरा मामला सामने आने के बाद पुलिस पर कई सवाल खड़े हो रहे है। पुलिस ने इस मामले को मनवानी तरीके से डील की कोशिश की है। किसी भी प्रक्रिया में पुलिस को यह अधिकार ही नहीं है कि दुख से संगीन आरोप और पड़िता के मध्य समझौता करवाएं। 

pratibha rana

thesootr links

 

सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें 

 

 

बैतूल मुलताई थाना मुलताई पुलिस का कारनामा Betul Multai police station