'नायक' बनेंगे CM मोहन यादव, हवा में उड़ता चौपर कहीं भी लैंड करेगा

दिग्विजय सिंह जब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे, तब उन्होंने औचक निरीक्षण शुरू किया था। उनका चौपर अचानक किसी भी जिले में पहुंचता तो प्रशासनिक और पुलिस महकमे में हड़कंप मच जाता था। अब CM मोहन यादव भी ऐसा ही करने वाले हैं। 

author-image
Pratibha ranaa
एडिट
New Update
CM Mohan Yadav3
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

रविकांत दीक्षित@ भोपाल.

आपको अनिल कपूर स्टारर फिल्म 'नायक' ( Film Nayak ) तो याद ही होगी। चलिए हम बता देते हैं। फिल्म में अनिल कूपर यानी शिवाजी राव मुख्यमंत्री बनकर ताबड़ तोड़ निरीक्षण करते हैं। कार्रवाई होती है। भ्रष्ट अधिकारी- कर्मचारियों को नौकरी से हटा दिया जाता है। मौके पर ही जनता की मांगें पूरी करने का प्रयास होता है।

बस अब मध्यप्रदेश के मुखिया डॉ. मोहन यादव ( CM Mohan Yadav ) भी मानो 'नायक' बनने जा रहे हैं। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता खत्म होने के बाद प्रदेश की जनता को मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव का नया रूप देखने को मिलेगा। सीएम सचिवालय बड़े पैमाने पर इसकी तैयारी कर रहा है।

भ्रष्ट अधिकारी- कर्मचारियों पर कार्रवाई 

सीएम डॉ.मोहन यादव अचानक प्रदेश में कहीं भी निरीक्षण करने पहुंच जाएंगे, मौके पर जहां लापरवाही मिलेगी, वहां संबंधित अधिकारी-कर्मचारियों पर सख्त रुख अपनाया जाएगा। अब आपके मन में चल रहा होगा कि ऐसे एक दम सीएम किसी भी जिले में कैसे पहुंच जाएंगे? जी हां, इसके लिए प्रदेश के सभी 52 जिलों में हेलीपैड का निर्माण कराया जा रहा है। (  CM Mohan Yadav Nayak )

हर तीन ब्लॉक में एक हेलीपैड बनेगा

अभी प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर तो हेलीपैड हैं। अब सीएम के औचक निरीक्षण को देखते हुए सूबे के हर तीन ब्लॉक में एक हेलीपैड बनाया जाएगा। सीएम सचिवालय ने लोक निर्माण विभाग को जगह चिह्नित करने को कहा है। हेलीपैड दो तरह के बनाए जाने की योजना है। लिहाजा, पीडब्ल्यूडी से दो तरह के प्रस्ताव मंगाए गए हैं।

दो तरह के हेलीपैड निर्माण की योजना 

सीएम सचिवालय ने पीडब्ल्यूडी से कहा है कि एक अस्थाई और दूसरा स्थाई हेलीपैड के प्रस्ताव बनाकर भेजे। अस्थाई हेलीपैड का निर्माण तो 25 से 35 हजार में हो जाता है। स्थाई हेलीपैड 30 मीटर के दायरे में बनता है। इस पर करीब 30 लाख रुपए का खर्च आता है। सचिवालय की चिट्ठी के बाद पीडब्ल्यूडी ने काम शुरू कर दिया है। मैदानी अमला हेलीपैड निर्माण के लिए जगह तलाशने लगा है।  

दिग्विजय- शिवराज कर चुके हैं यह प्रयोग  

हालांकि दिग्विजय सिंह जब मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे, तब उन्होंने भी औचक निरीक्षण शुरू किया था। उनका चौपर अचानक किसी भी जिले में पहुंचता तो प्रशासनिक और पुलिस महकमे में हड़कंप मच जाता था। लापरवाही पर अधिकारी-कर्मचारी नप जाते थे। शिवराज सिंह चौहान ने भी अपने मुख्यमंत्रित्व कार्यकाल की शुरुआत में ऐसा किया था।

 

thesootr links

 

सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें

 

 

CM Mohan Yadav CM Mohan Yadav Nayak फिल्म नायक Film Nayak