BJP नेताओं के बोल : कांग्रेस नेता हैं डस्टबिन, कांग्रेसी पके बेर और मेडिकल वेस्ट जैसे

मध्य प्रदेश के बीजेपी के सीनियर नेता और पूर्व मंत्री गोपाल भार्गव ने ऐसे नेताओं की तुलना पकी बेरी से की है, तो मंत्री प्रहलाद पटेल ने कचरे से। पूर्व मंत्री ललिता यादव ने कांग्रेस नेताओं के बीजेपी में आने से साइड इफेक्ट के सवाल पर कहा कि...

author-image
CHAKRESH
New Update
congreses are dustbin
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

Bhopal. मध्य प्रदेश में कांग्रेस की एक के बाद एक करारी हार के बाद नेताओं और कार्यकर्ताओं के हौसले पस्त हैं। राजधानी भोपाल से लेकर दूर- दराज के अंचल तक कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बीजेपी में एंट्री का सिलसिला जारी है। शुरुआत में इस दल- बदल को बीजेपी, जहां अपनी सफलता बता रही थी, वहीं अब बीजेपी के वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ता इसे लेकर चिंता जताने लगे हैं। एक के बाद एक बीजेपी के बड़े नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया देकर कांग्रेस के दल- बदलुओं को लेकर अपनी स्थिति साफ कर दी है। दो दिन पहले खुरई के विधायक और पूर्व मंत्री भूपेंद्र सिंह ने इस मामले में बड़ा बयान दिया था। अब सागर से ही सीनियर मंत्री गोपाल भार्गव और मंत्री पहलाद पटेल ने भी अपनी टिप्पणियां देकर मामले को और भी गर्मा दिया है। बीजेपी के सीनियर नेता और पूर्व मंत्री गोपाल भार्गव ने ऐसे नेताओं की तुलना पकी बेरी से की है, तो मंत्री प्रहलाद पटेल ने कचरे से की है। इसके अलावा पूर्व मंत्री ललिता यादव ने कांग्रेस नेताओं के बड़ी संख्या में बीजेपी में आने से साइड इफेक्ट के सवाल पर कहा कि हमारे पास अच्छी मेडिसिन है। उन्होंने ये भी कहा कि हम कांग्रेस नेताओं को एडजस्ट नहीं करेंगे, उन्हें एडजस्ट होना पड़ेगा।

कांग्रेस ने दी प्रतिक्रिया

इधर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया सलाहकार केके मिश्रा ने सोशल मीडिया पर मंत्री प्रहलाद पटेल के बयान पर लिखा है - 'आखिरकार आपने भी यह स्वीकार कर ही लिया कि कांग्रेस के स्वार्थी दलबदलू 'कचरा' और भाजपा 'डस्टबीन' है।

ट्वीट देखिए…



भूपेंद्र सिंह ने क्या कहा था

18 मार्च को खुरई विधानसभा में पूर्व मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बीजेपी के एक कार्यक्रम को संबोधित किया था। कार्यक्रम के वायरल वीडियो में भूपेंद्र सिंह कहते नजर आ रहे हैं कि ग्वालियर में अभी बैठक थी तो अमित शाह जी आए। तो वो कार्यकर्ताओं से चुनाव को लेकर बातचीत कर रहे थे कि आने वाले चुनाव में क्या करना चाहिए, क्या प्लान अपनाना चाहिए? तभी एक कार्यकर्ता ने पूछा साहब जो ये नई नई भर्ती हो रही हैं, इसका क्या करें? इस पर अमित शाह जी ने जवाब देते हुए कहा ऐसे लोग हाथ उठाओ, जिनको पार्टी में 15 साल काम करते हो गए, तो बहुत से लोगों ने हाथ ऊपर उठा लिया। इस पर अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से पूछा कि तुम्हें 15 साल में क्या मिला? तो कार्यकर्ताओं ने कहा मुझे तो कुछ नहीं मिला... इस पर अमित शाह ने जवाब दिया कि जब तुम्हें 15 साल में कुछ नहीं मिला तो जिनको आज 15 दिन हुए उनको क्या ही मिलेगा?

पहलाद पटेल ने क्या कहा

मोदी सरकार ने कचरे के लिए तीन तरह के डस्टबिन रखे हैं। एक सूखा,  दूसरा गीला और तीसरा मेडिकल वेस्ट। जो भाजपा में आ रहे हैं वह ठीक हैं, लेकिन वहां ( कांग्रेस में ) जो कचरा बचा हुआ है वह मेडिकल वेस्ट है। 

गोपाल भार्गव ने क्या कहा

कांग्रेस के लोग भाजपा में शामिल हो रहे हैं। ऐसा लग रहा है, जैसे पके हुए बर के पेड़ को जब हिलाते हैं तो पके बेर टपकते हैं, वैसे ही कांग्रेस के नेता टपक रहे हैं।



कांग्रेस नेताओं को एडजस्ट होना पड़ेगा: ललिता यादव

कांग्रेसियों के आने से बीजेपी में साइड इफेक्ट तो शुरू नहीं हो गया? मीडिया के इस सवाल पर पूर्व मंत्री ललिता यादव ने कहा- हमारे पास इतनी अच्छी मेडिसिन है कि भाजपा को कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा। उन्होंने कहा- कांग्रेस में न नेता बचे हैं, न नीति। कांग्रेस पार्टी ने देश के लिए कुछ नहीं किया। अपने कर्मों से कांग्रेस पार्टी मिट रही है। ललिता यादव से जब पूछा गया कि इतने नेताओं को एडजस्ट करेंगे? इस पर उन्होंने कहा- एडजस्ट होना पड़ेगा, एडजस्ट करेंगे नहीं।

medical waste