दैनिक भास्कर और ट्रेजर टाउनशिप का विवादित जमीन पर प्रॉपर्टी कॉर्निवाल, लुभावने विज्ञापन के साथ उसी में छपी प्लॉट नहीं खरीदने की जाहिर सूचना

8 जुलाई को कार्निवाल खत्म होते ही दैनिक भास्कर में अधिवक्ता केपी माहेश्वरी द्वारा ट्रेजर सिटी सुल्लाखेड़ी, एक्रोपोलिस कॉलेज बायपास रोड बाबद सावधान- सावधान करते जाहिर सूचना छपी होती है।

Advertisment
author-image
Sanjay gupta
New Update
Dainik Bhaskar Treasure Township
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

इंदौर में प्रॉपर्टी के खेल में आमजन को ठगा जा रहा है। इसमें देश के सबसे बड़े मीडिया समूह में शामिल व सच्ची बात बेधड़क लिखने का दावा करने वाला दैनिक भास्कर भी सहभागी बन गया है।

ताजा मामला हाल ही में दैनिक भास्कर और ट्रेजर ग्रुप द्वारा एबी बायपास रोड पर ट्रेजर सिटी में लगाए गए प्रापर्टी कार्निवाल का है। यह कार्निवाल तीन दिन तक (5 से 7 जुलाई) को आयोजित हुआ था।

ट्रेजर सिटी को लेकर छपे लुभावने विज्ञापन

तीन दिन तक इस सिटी में कार्निवाल को लेकर जमकर लुभावने विज्ञापन छपे। इसमें ऑन स्पट बुकिंग पर सौ रुपए प्रति वर्गफीट छूट, चांदी का सिक्का, 60 दिन में रजिस्ट्री कराने पर 10 ग्राम सोने का सिक्का मुफ्त, सोलर पेनल मुफ्त लगाने जैसे कई लुभावने वादे किए गए हैं। 

इधर 8 जुलाई को यह छपी जाहिर सूचना

अब 8 जुलाई को कार्निवाल खत्म होते ही इसी अखबार दैनिक भास्कर में अधिवक्ता केपी माहेश्वरी द्वारा ट्रेजर सिटी सुल्लाखेड़ी, एक्रोपोलिस कॉलेज बायपास रोड बाबद सावधान- सावधान करते जाहिर सूचना छपी होती है।

इसमें है कि ट्रेजर सिटी मांगलिया बायपास रोड पर प्रॉपर्टी कार्निवाल के नाम से सुल्लाखेड़ी एबी रोड बायपास पर डिस्काउंट, मुफ्त ईनाम, रजिस्ट्री, सोने का सिस्का सोलर पेनल मुफ्त के नाम से दिए गए विज्ञापनों से जनसामान्य भ्रमित नहीं हो।

यह कॉलोनी 29 एकड़ में हमारी पक्षकारा अहिल्यासिंह नामदेव (नाबालिग) के उत्तराधिकारी हितों की है। इसले लिए केस विचाराधीन है। सुल्लाखेड़ी मांगलिया के सर्वे नंबर 51, 52, 58, 59, 65. 66, 70. 71, 74 से 78, 80 से 82 के हिस्सों पर यह कॉलोनी का कोई भी विक्रय अंतरण हमारी पक्षकारा के हितों के विरूद्ध  होकर रजिस्ट्री दस्तावेज शून्य हो सकते हैं।

इसके लिए 10 जून को भी जाहिर सूचना जारी की गई थी। इसके बाद भी समाचार पत्रों में भूखंड़ों का लालच देकर बेचने के विज्ञापन दिए जा रहे हैं। कोई भी यहां खरीदी- बिक्री नहीं करें। 

आशीर्वाद ग्रुप शराब- प्रॉपर्टी कारोबारी नामदेव परिवार का है विवाद

इंदौर और प्रदेश के जाने- माने शराब ग्रुप आशीर्वाद के कर्ताधर्ता नामदेव परिवार में सैंकड़ों करोड़ की संपत्ति की विवाद से यह मामला जुड़ा है। इस विवाद के चलते इंदौर में काउंटीवॉक, मेजेस्टिक कोर्टयार्ड झलारिया, ओएसिस निपानिया, ट्रेजर सिटी सुल्लाखेड़ी बड़ी कॉलोनियां विवादों में है। नामदेव परिवार के ही दो पक्षकार इन संपत्तियों का अपना-अपना हक जता रहे हैं और विवाद कोर्ट में चला गया है। 

किसका है ग्रुप, कहां से उठा विवाद

आशीर्वाद ग्रुप महेंद्र सिंह नामदेव और उनके भाई मुकेश नामदेव का है। नामदेव का आशीर्वाद के साथ ही गंगा इंटरप्राइजेस, आशीर्वाद स्काई हाईट्स प्रालि व अन्य कंपनियों के नाम से शराब व प्रॉपर्टी का लंबा कारोबार रहा है।

महेंद्र सिंह का निधन अप्रैल 2022 में हो चुका है। इसके बाद यह विवाद उठा है। महेंद्र सिंह की चार शादियां है, तीन पत्नी से तीन लड़के अमित सिंह, आदित्य और आर्यमन नामदेव है, तो वहीं चौथी पत्नी पल्लवी जिससे तलाक हो चुका है उनसे एक लड़की अहिल्या है।

लड़की अभी नाबालिग है, उसी की ओर से मां पल्लवी और उनकी नानी सुधा ने हक के लिए कोर्ट में केस भी लगाया है। आरोप है कि महेंद्र नामदेव की मौत के बाद उनके तीनों बेटे और मुकेश नामदेव सभी संपत्तियों पर कब्जा कर रहे हैं और लड़की को कुछ नहीं दिया जा रहा है। साथ ही यह इन सभी कॉलोनियों के भूखंड की अफरातफरी कर रहे हैं। 

वहीं नामदेव परिवार ने यह की हुई है सूचना जारी

उधर इस मामले में नामदेव परिवार ने अधिवक्ता एपी पोलेकर के जरिए जारी सूचना से इन आरोपों पर कहा है कि इन्होंने बताया है कि लालचवश यह केस लगाया गया है।

महेंद्र नामदेव को अपने कारोबार में भारी घाटा उठाना पड़ा है, बैंक गारंटी है, संपत्ति गिरवी रखनी पड़ी, मौत के समय करोड़ों का कर्ज उनके ऊपर था। पल्लली, सुधा द्वारा केस लगाया है जिसमें रजिस्टर्ड कंपनी, भागीदारी फर्म, ज्वाइंट वेंचर में भी हिस्सेदार मांगी जा रही है, जबकि अधिकार महेंद्र नामदेव की संपत्ति पर बनता है। बच्ची की मां हिस्सा नकद ले चुकी है।

कॉलोनियों की बात तो ओएसिस में नामदेव हिस्सा ले चुके थे। ट्रेजर सिटी, काउंटीवाक, मेजेस्टिक में उनका कुछ हिस्सा है, इसका जब हिस्सा होगा वह बैंक के माध्यम से सभी वारिसों को मिलेगा। हमारे किसी पक्षकार ने किसी भूखंड की अफरातफरी नहीं की है।

कोर्ट में केस चलने के बाद भी यह सूचना जारी कर व्यावसायिक साख को गिराने और अनावश्यक मुकदेमबाजी में उलझाने के नियोजित उद्देशय से किया है।

sanjay gupta

thesootr links

 

सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें

 

 

दैनिक भास्कर Property Cornwall दैनिक भास्कर-ट्रेजर टाउनशिप जमीन विवाद ट्रेजर टाउनशिप