मध्य प्रदेश: इंदौर में रेसीडेंसी एरिया की 333 एकड़ जमीन गायब, कभी अंग्रेजों का पावर सेंटर था

फाइलों में दर्ज 1083 एकड़ जमीन का मिलान भौतिक और ड्रोन सर्वेक्षण निष्कर्षों से नहीं कर पाए। सर्वे में लगभग 333 एकड़ कम है। अधिकारी हैरान हैं और दो चीजों की खोज कर रहे हैं...

author-image
Sandeep Kumar
एडिट
New Update
SANDEEP 2024 Copy of STYLESHEET THESOOTR - 2024-05-31T203624.244.jpg
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

मध्य प्रदेश में इंदौर प्रशासन शहर के पॉश रेसीडेंसी एरिया ( Posh Residency Area ) में लापता 300 एकड़ जमीन की तलाश कर रहा है। रेसीडेंसी कोठी जो कभी मध्य भारत में ब्रिटिश प्रशासन ( British administration ) का पावरहाउस ( powerhouse ) हुआ करता था। रिकॉर्ड बताते हैं कि रेजीडेंसी एरिया 1,083 एकड़ में फैला हुआ है लेकिन एक सर्वेक्षण में केवल 750 एकड़ ही पाया गया है। कलेक्टर गाइडलाइन के अनुसार, यहां जमीन की दर आवासीय और व्यावसायिक दोनों तरह की संपत्तियों के लिए 80,000 रुपये प्रति वर्गमीटर है। बाजार दरें बहुत ज्यादा हैं।

333 एकड़ जमीन कम

वे फाइलों में दर्ज 1,083 एकड़ जमीन का मिलान भौतिक और ड्रोन सर्वेक्षण निष्कर्षों से नहीं कर पाए। वे लगभग 333 एकड़ कम थे। अधिकारी हैरान हैं और दो चीजों की खोज कर रहे हैं। क्या 1,083 एकड़ जमीन रेकॉर्ड में एक गलती थी या कहीं और स्थित संपत्तियां हैं लेकिन निवास के हिस्से के रूप में पंजीकृत हैं।

फरवरी में सर्वे के दौरान सामने आई गड़बड़ी

भूमि में विसंगति तब सामने आई जब प्रशासन ने इस साल फरवरी में रेसीडेंसी का सर्वेक्षण शुरू किया ताकि इस प्रमुख और ऐतिहासिक भूमि के अधिकारों के नए रेकॉर्ड तैयार किए जा सकें। यह क्षेत्र सरकारी और निजी भूमि का मिश्रण है, लेकिन दस्तावेजों का रखरखाव ठीक से नहीं किया गया था, जिससे विवाद पैदा हुए और संपत्ति के इष्टतम उपयोग में बाधा उत्पन्न हुई।

दो ड्रोन से सर्वेक्षण हुए

पूरे इलाके का नक्शा बनाने के लिए दो ड्रोन सर्वेक्षण किए गए और ज्यादातर जमीन मालिकों ने मालिकाना हक के समर्थन में दस्तावेज जमा कर दिए हैं। जब अधिकारों के नए रेकॉर्ड की प्रक्रिया शुरू की गई, तो अधिकारियों को काफी कमियां नजर आने लगीं।

जमीन की खोज सर्वेक्षण का हिस्सा

एक अधिकारी का दावा है कि इस बड़े अंतर के लिए अन्य कारणों से इनकार नहीं किया जा सकता है। लापता 333 एकड़ जमीन की खोज अब सर्वेक्षण का हिस्सा है। अधिकारियों को उम्मीद है कि यह प्रक्रिया तीन महीने में पूरी हो जाएगी, तब तक उन्हें कुछ जवाब मिल सकते हैं। एडीएम सपना लोवंशी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कि सर्वेक्षण में 750 एकड़ जमीन शामिल है। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण अभी भी जारी है। हम रेकॉर्ड में दर्ज 1083 एकड़ जमीन से निष्कर्षों का मिलान कर रहे हैं। इस अंतर के पीछे कुछ कारण अवश्य होंगे। हम इस पर काम कर रहे हैं।

सर्वे के बाद सूची होगी प्रकाशित 

लोवंशी ने कहा कि सर्वेक्षण के भाग के रूप में, प्रशासन निजी और सरकारी संस्थाओं द्वारा दावा किए गए स्वामित्व की सूची प्रकाशित करेगा, ताकि दावे और आपत्तियां आमंत्रित की जा सकें। इनका निपटारा होने के बाद, रेसीडेंसी क्षेत्र में भूमि के स्वामित्व की अंतिम अधिसूचना जारी की जाएगी। उन्होंने कहा कि अधिकारों के नए रिकॉर्ड में सभी खाताधारकों के नाम, उनके शेयर, जिम्मेदारियां और सुखभोग अधिकार दर्ज होंगे।

सत्ता का केंद्र था रेसीडेंसी कोठी

रेसीडेंसी कोठी, जिसके नाम पर इस इलाके का नाम रखा गया है, कभी मध्य प्रदेश की सत्ता का केंद्र हुआ करता था। यहां से ब्रिटिश प्रशासक मंदसौर, धार, झाबुआ और यहां तक कि भोपाल और ग्वालियर एस्टेट के राज्यों को नियंत्रित करते थे।

Posh Residency Area British administration powerhouse पॉश रेसीडेंसी एरिया लापता 300 एकड़ जमीन दो ड्रोन सर्वेक्षण ब्रिटिश प्रशासन