मध्य प्रदेश : 29 लोकसभा सीटों पर हुए चुनाव के अंतिम आंकड़े जारी, पिछली बार से 4.29% कम हुई वोटिंग

पिछली बार मध्य प्रदेश में 71.16 प्रतिशत मतदान हुआ था। इसके अनुसार अबकी बार 4.29 प्रतिशत मतदान कम हुआ है। आयोग के आंकड़ों के मुताबिक इस बार 69.37 प्रतिशत पुरुष और 64.24 प्रतिशत महिलाओं ने मतदान किया।आइए जानते है क्या रहे आयोग के आंकड़ें...

author-image
Sandeep Kumar
New Update
2024-05-15T121302.435.jpg
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

भारत निर्वाचन आयोग ने मध्य प्रदेश ( Madhya Pradesh ) की सभी 29 सीटों पर हुए मतदान के आंकड़े जारी किए हैं। आयोग के अनुसार प्रदेश की 29 सीटों पर 66.87 प्रतिशत मतदान हुआ है। पिछली बार प्रदेश में 71.16 प्रतिशत मतदान हुआ था। इसके अनुसार इस बार 4.29 प्रतिशत मतदान कम हुआ है। आयोग के आंकड़ों के अनुसार इस बार 69.37 प्रतिशत पुरुष और 64.24 प्रतिशत महिलाओं ने मतदान किया। प्रदेश की सभी सीटों में सबसे अधिक मतदान छिंदवाड़ा में 79.83 प्रतिशत हुआ, वहीं रीवा में सबसे कम 49.43% मतदान हुआ है।

जाति की जनसांख्यिकी कांग्रेस के पक्ष में

खास बात है कि जिन सीटों पर भाजपा-कांग्रेस के बीच कड़ा मुकाबला था या कांग्रेस और भाजपा के प्रभावशाली नेता चुनावी मैदान में थे या प्रत्याशी की जाति की जनसांख्यिकी कांग्रेस के पक्ष में रही, ऐसी सभी सीटों पर मतदान प्रतिशत 70% से अधिक रहा है। यही नहीं, जहां-जहां भाजपा के प्रत्याशी चयन को लेकर आंतरिक विरोध या जनता में खराब छवि की चर्चाएं थी या कमजोर प्रत्याशी उतारा, वहां मतदान घटा।

प्रत्याशी कमजोर या छवि ठीक नहीं, तो वोटिंग गिरी

छिंदवाड़ा 79.83 प्रतिशत : सबसे अधिक मतदान। पूर्व सीएम कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ मजबूत प्रत्याशी थे। भाजपा ने सबसे ज्यादा ताकत यहीं झोंकी।

राजगढ़ 76.04 प्रतिशत : पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह खुद प्रत्याशी थे, इसलिए प्रचार में भाजपा ने खूब जोर लगाया।

खरगोन 75.79 प्रतिशत : आदिवासी नेता पोरलाल सरकारी नौकरी छोड़ चुनाव लड़े।

देवास 74.86 प्रतिशत : एससी सीट। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राधाकिशन मालवीय के बेटे राजेंद्र चुनाव मैदान में थे, जातिगत समीकरण का लाभ।

मंदसौर 74.50 प्रतिशत : कांग्रेस प्रत्याशी दिनेश गुर्जर के पक्ष में गुर्जर जाति की आबादी एक बड़ा सपोर्ट बेस रही। भाजपा ने भी यहां ज्यादा जोर लगाया।

विदिशा 74.48 प्रतिशत : भाजपा से पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान खुद मैदान में थे। कांग्रेस प्रत्याशी प्रतापभानू शर्मा के पक्ष में उनकी छवि व जातिगत सपोर्ट भी मिला।

बालाघाट 73.45 प्रतिशत : भाजपा और कांग्रेस दोनों ने नए चेहरों को प्रत्याशी बनाया, इस कारण एंटीइनकमबेंसी जैसा फैक्टर दोनों पार्टियों में नहीं था।

उज्जैन 73.03 प्रतिशत : कांग्रेस ने यहां से अपने सबसे मजबूत और जुझारू विधायक महेश परमार को उतारा। वहीं मुख्यमंत्री मोहन यादव के गृह क्षेत्र के कारण भाजपा के लिए यह सीट प्रतिष्ठा का सवाल भी बनी।

बैतूल 73.48 प्रतिशत : यहां दोनों प्रत्याशी आदिवासी थे, इसलिए दोनों के बीच मुकाबले की चर्चा रही।

रतलाम 72.86 प्रतिशत : पूर्व केंद्रीय मंत्री और भीलों के सबसे बड़े नेता कांतिलाल भूरिया यहां से कांग्रेस प्रत्याशी थे। भाजपा ने वन मंत्री नागर सिंह चौहान की पत्नी को टिकट देकर ताकत झोंकी।

मंडला 72.84 प्रतिशत : भाजपा के केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते के सामने कांग्रेस ने मजबूत उम्मीदवार ओमकार मरकाम को उतारा।

गुना 72.43 प्रतिशत : केंद्रीय मंत्री और सिंधिया राजवंश के मुखिया ज्योतिरादित्य सिंधिया मैदान में थे। कांग्रेस की ओर से यादव जाति का प्रत्याशी होने का फायदा मिला।

धार 71.50 प्रतिशत : कांग्रेस यहां मजबूत थी, नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार ने यहां मोर्चा संभाला था, इसलिए भाजपा ने इस सीट को हल्के में नहीं लिया।

खंडवा 70.72 प्रतिशत : यहां कांग्रेस के पक्ष में मुस्लिम फैक्टर और गुर्जर जाति के सपोर्ट से कांग्रेस को फायदा मिला। इसलिए भाजपा की ओर से भी ताकत ज्यादा लगाई गई।

इन सीटों पर कम हुई वोटिंग 

मुरैना 58.97 प्रतिशत : भाजपा प्रत्याशी की छवि खराब थी, नरेंद्र सिंह तोमर के सपोर्ट से टिकट मिला था। मतदान से पहले दलबदल होने से भाजपा मुकाबला कमजोर हुआ।

खजुराहो 56.96 प्रतिशत : कांग्रेस मैदान में ही नहीं थी। इसलिए भाजपा एकतरफा बढ़त का माहौल था।

रीवा 49.42 प्रतिशत : भाजपा प्रत्याशी को लेकर एंटी इनकमबेंसी थी, पर भाजपा बढ़त में दिखी।

6 सीटों पर महिला वोट ज्यादा

सिर्फ 6 सीटों पर महिलाओं ने पुरुषों से ​अधिक वोट डाले। इनमें पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, दिग्विजय सिंह व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की सीट गुना शामिल है। बाकी सीटों पर महिलाओं के वाेट 2 से 13 प्रतिशत तक घटे।

सबसे अधिक बढ़ोतरी : महिला वोट विदिशा में बढ़े। यहां पुरुषों की तुलना में 3.81 प्रतिशत ज्यादा महिलाओं ने वोट डाले।

 

राजगढ़ में यह आंकड़ा 3.42 प्रतिशत, गुना में 3.18 प्रतिशत , ग्वालियर में 3.05 प्रतिशत , भिंड में 1.99 प्रतिशत, सागर में 1.14 प्रतिशत ज्यादा रहा।

खजुराहो और इंदौर में एकतरफा चुनाव के कारण महिला वोट कम पड़े। खजुराहो में 12.09% तो इंदौर में महिला वोट पुरुषों से 7.84 प्रतिशत कम पड़े।

कमलनाथ शिवराज सिंह चौहान दिग्विजय सिंह नकुलनाथ मध्य प्रदेश 29 सीटों पर 66.87 प्रतिशत मतदान पिछली बार प्रदेश में 71.16 प्रतिशत मतदान