उज्जैन महाकाल : भस्म आरती में आग पर मानव अधिकार आयोग ने मांगा जवाब

होली पर गर्भगृह में भस्म आरती के दौरान आग लग गई थी। इस हादसे में पुजारी झुलस गए थे। अब इस मामले को मानव अधिकार आयोग ने स्वत: संज्ञान में लिया है।

author-image
Marut raj
New Update
Ujjain Mahakal Human Rights Commission seeks answers on fire in Bhasma Aarti द सूत्र
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

भोपाल. उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर के गर्भगृह में भस्म आरती के दौरान आग लगने की घटना पर मानव अधिकार आयोग ने जवाब मांगा है। आयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए इस मामले में उज्जैन कलेक्टर तथा महाकाल मंदिर प्रशासक से 15 बिंदुओं पर जांच रिपोर्ट मांगी है।

इन बिंदुओं पर मांगी जांच रिपोर्ट

1. घटना वाले दिन यानी 25 मार्च 2024 को महाकाल मंदिर उज्जैन के गर्भगृह में भस्म आरती के लिए कितने व्यक्तियों को जाने की अनुमति थी और घटना के समय कितने व्यक्ति मौजूद थे।

2. गर्भगृह के अलावा भस्म आरती के समय शेष व्यक्ति/भक्तगण आदि गर्भगृह के दरवाजे से से कितनी दूरी पर थे ।

3. भस्म आरती के समय गर्भगृह में गुलाल किस प्रकृति का उपलबध कराया गया था और यह व्यवस्था किसके द्वारा की गई थी ।

4. गर्भगृह में भस्म आरती के समय गुलाल से आग किस प्रकार और किन परिस्थितियों में लगी थी।

5. गर्भगृह में गुलाल से लगी ऐसी आग के कारण गर्भगृह और उसके बाहर मौजूद कितने व्यक्ति झुलसे । उन सभी का पूर्ण विवरण और इलाज एवं वर्तमान स्थिति के संबंध में स्पष्ट प्रतिवेदन ।

6. आग में झुलसे ऐसे सभी व्यक्तियों के इलाज आदि पर व्यय की महाकाल मंदिर प्रबंधन और मध्यप्रदेश शासन की ओर से क्या व्यवस्था की गई ।

7. आग से झुलसे ऐसे व्यक्तियों को महाकाल मंदिर प्रबंधन एवं मध्यप्रदेश शासन की ओर से कोई आर्थिक मुआवजा राशि दी गई है अथवा नहीं ।

8. गर्भगृह या उसके पास गुलाल के साथ ही बताये अनुसार प्रेशर पम्प या रंग उड़ाने वाली छोटी स्प्रेगन किन परिस्थितियों में पहुंची थी । क्या उन्हें मंदिर के अन्दर लाये जाने की अनुमति मंदिर प्रबंधन समिति द्वारा दी गई थी ।

9. इस प्रकार की घटना महाकाल मंदिर के गर्भगृह या अन्य कहीं परिसर में न हो इसके लिए भविष्य में क्या सावधानियां और निर्देश प्रस्तावित हैं ।

     

मानव अधिकार आयोग उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर भस्म आरती के दौरान आग लगने की घटना