भारतीय मूल के लोग World के 8 देशों में Top Post पर पहुंचे। इनमें Kamala Harris, Pravind Jagannath प्रमुख हैं। World News
होम / दुनिया / दुनिया में भारतीय मूल के लोगों ने फहराया...

दुनिया में भारतीय मूल के लोगों ने फहराया परचम, किसी के पिता मजदूर बनकर पहुंचे तो कोई भारत में पैदा हुआ

Atul Tiwari
Oct 25, 2022 03:52 PM
बाएं से- पुर्तगाल के राष्ट्रपति एंटोनियो कोस्टा, अमेरिकी वाइस प्रेसिडेंट कमला हैरिस और मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ।
बाएं से- पुर्तगाल के राष्ट्रपति एंटोनियो कोस्टा, अमेरिकी वाइस प्रेसिडेंट कमला हैरिस और मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ।

भारतीय मूल के ऋषि सुनक ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद पर पहुंचकर इतिहास बना दिया है। सुनक अकेले व्यक्ति नहीं हैं, जो किसी देश में टॉप पोस्ट तक पहुंचे। उनके अलावा हम आपको 7 ऐसे भारतवंशी लोगों के बारे में बता रहे हैं, जो किसी देश के उच्च पद तक पहुंचे।

1. कमला हैरिस : अपनी संस्कृति पर गर्व करती हैं

kamala

कमला हैरिस अमेरिका की उपराष्ट्रपति हैं। डेमोक्रेटिक पार्टी से आने वाली कमला अमेरिकी इतिहास में उपराष्ट्रपति बनने वाली पहली महिला और इस पद पर पहुंचने वाली भारतीय मूल की भी पहली महिला हैं। कमला हैरिस हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी और हेस्टिंग्स कॉलेज ऑफ लॉ से ग्रेजुएट हैं। 2010 से 2014 के बीच वह दो बार कैलिफोर्निया की अटॉर्नी जनरल रहीं। 2017 से 2021 तक वे सीनेटर रहीं। 20 जनवरी 2021 को वह अमेरिका की 49वीं उपराष्ट्रपति बनीं।

57 वर्षीय हैरिस की जड़ें भारत के तमिलनाडु राज्य से जुड़ी हैं। उनकी मां श्यामला गोपालन का जन्म तमिलनाडु में हुआ था। श्यामला एक ब्रेस्ट कैंसर रिसर्चर थीं, जो बाद में तमिलनाडु से जाकर अमेरिका में बस गई थीं। कमला के पिता जमैका-अमेरिका मूल के डोनाल्ड जे हैरिस थे। श्यामला और डोनाल्ड की शादी 1963 में हुई थी। 1964 में कमला और 1966 में उनकी बहन माया का जन्म हुआ था। 1970 में पिता डोनाल्ड से तलाक के बाद मां श्यामला ने ही कमला और उनकी बहन माया की अकेले परवरिश की। कमला ने 2014 में अमेरिकी वकील डग एम्हॉफ से शादी की थी। कमला कहती हैं, 'मेरी मां को अपनी भारतीय विरासत पर बहुत गर्व था और उन्होंने हमें अपनी संस्कृति पर गर्व करना सिखाया।'

कमला हैरिस को बचपन में उनकी मां मंदिर ले जाती थीं, जहां वो गाया भी करती थीं। कमला और उनकी बहन बचपन में कई बार मद्रास (अब चेन्नई) में अपनी मां की फैमिली से मिलने आ चुकी हैं। हैरिस अपने पिता की फैमिली से मिलने जमैका भी जा चुकी हैं।

2. एंटोनियो कोस्टा : लिस्बन का गांधी 

Portugal
एंटोनियो कोस्टा पुर्तगाल के स्टार फुटबॉलर क्रिश्चियानो रोनाल्डो के फैन हैं।

एंटोनिया कोस्टा पुर्तगाल के मौजूदा प्रधानमंत्री हैं। 2022 में हुए चुनावों में जीत के बाद वे तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने हैं। पुर्तगाल की सोशलिस्ट पार्टी से आने वाले एंटोनियो आधे पुर्तगाली और आधे भारतीय हैं। पेशे से राइटर रहे उनके पिता ओरलैंडो द कोस्टा का जन्म गोवा के एक भारतीय परिवार में हुआ था। एंटोनिया की मां पुर्तगाली मूल की मारिया एंटोनिया पाला थीं। प्रधानमंत्री बनने से पहले एंटोनियो संसदीय मामलों के स्टेट सेक्रेटरी और कानून मंत्री और लिस्बन के मेयर की भी भूमिकाएं निभा चुके हैं।

1987 में उन्होंने फर्नांडा तादेउ से शादी की थी, उनके दो बच्चे हैं। भारत के समर्थकों के लिए कोस्टा 'बाबुश' के नाम से जाने जाते हैं। कोंकणी में इसका मतलब होता है- एक प्यारा युवा। पुर्तगाल में उन्हें 'लिस्बन का गांधी' कहा जाता है।

3. प्रविंद जगन्नाथ : मॉरीशस के प्रधानमंत्री

pravind
प्रविंद जगन्नाथ की तीन बेटियां हैं।

प्रविंद जगन्नाथ 2017 से ही मॉरिशस के प्रधानमंत्री हैं। 25 दिसंबर 1961 को मॉरिशस में भारतीय मूल के हिंदू परिवार में जन्मे जगन्नाथ मॉरिशस की मिलिटेंट सोशलिस्ट मूवमेंट यानी MSM पार्टी के सदस्य हैं। उनका राजनीतिक करियर 1987 में शुरू हुआ था और वे 1990 में MSM पार्टी से जुड़े। 2000 में वह पहली बार कृषि मंत्री और फिर 2005 में वित्त मंत्री बने। इसके अलावा वे विपक्ष के नेता भी रह चुके हैं। 1992 में प्रविंद की शादी हुई। उनकी तीन बेटियां सोनिका, सोनाली और सारा हैं। इसी साल अगस्त में प्रविंद जगन्नाथ वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर के तीन दिवसीय दौरे पर आए थे।

4. ऋषि सुनक : ब्रिटिश पीएम बनने वाले पहले भारतवंशी

Uk
ऋषि सुनक ने 2009 में अक्षता मूर्ति से शादी की थी।

ऋषि सुनक का जन्म 12 मई 1980 को ब्रिटेन के साउथैम्पटन में एक भारतीय परिवार में हुआ था। उनके पिता यशवीर नेशनल हेल्थ सर्विस यानी NHS के जनरल प्रैक्टिसनर और उनकी मां ऊषा एक फार्मासिस्ट थीं। उनके दादा-दादी पंजाब से हैं। सुनक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट हैं। ऋषि सुनक 2015 में पहली बार रिचमंड, यॉर्कशायर से सांसद बने और 2020 में कैबिनेट मंत्री बने थे। सुनक जुलाई 2022 में प्रधानमंत्री पद की रेस में लिज ट्रस से हार गए थे। ट्रस के 45 दिन में ही पद से इस्तीफा देने के बाद अब सुनक ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बन गए हैं। सुनक ने इन्फोसिस कंपनी के फाउंडर नारायणमूर्ति की बेटी अक्षता मूर्ति से 2009 में शादी की थी। ऋषि और अक्षता की दो बेटियां अनुष्का और कृष्णा हैं।

ऋषि सुनक हिंदू धर्म को मानते हैं और कृष्ण भक्त हैं। सांसद पद की शपथ उन्होंने हाउस ऑफ कामंस में भगवद्गीता से ली थी। ऋषि कह चुके हैं कि गीता अक्सर उन्हें तनावपूर्ण परिस्थितियों से बचाती है और उन्हें कर्तव्य पर डटे रहने की याद दिलाती है। बोरिस जॉनसन की लीडरशिप में काम करने के दौरान ऋषि ने डाउनिंग स्ट्रीट स्थित अपने घर पर दिवाली में दीए जलाए थे।

5. चान संतोखी : सूरीनाम के राष्ट्रपति, संस्कृत में ली थी शपथ

chan

पुलिस अफसर से राजनेता बने 63 वर्षीय चंद्रिका प्रसाद 'चान' संतोखी सूरीनाम के राष्ट्रपति हैं। संतोखी का जन्म 3 फरवरी 1959 को भारतीय-सूरीनामीज हिंदू परिवार में हुआ था। 19वीं सदी की शुरुआत में संतोखी के दादा को अंग्रेज बिहार से मजदूर के रूप में सूरीनाम ले गए थे। 1982 में वे 23 साल की उम्र में मॉरिशस पुलिस में इंस्पेक्टर के तौर पर जुड़े। 1989 में वह नेशनल क्रिमिनल इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट के प्रमुख बने और 1991 में पुलिस कमिश्नर बने। 2005 में उनकी राजनीति में एंट्री मिनिस्टर ऑफ जस्टिस एंड पुलिस के रूप में हुई थी। संतोखी अब सूरीनाम की प्रोग्रेसिव रिफॉर्म पार्टी के नेता हैं।

2 दिसंबर 2020 तो संतोखी सूरीनाम के नौवें राष्ट्रपति बने। उन चुनावों में इकलौते उम्मीदवार होने की वजह से वह निर्विरोध चुने गए। 2020 में चान ने सूरीनाम की वकील मेलिसा कविता देवी सीनाचेरी से शादी की थी। चान के चार बच्चे हैं, जिनमें से दो सीनाचेरी की पिछली शादी से हैं। संतोखी ने राष्ट्रपति बनने की शपथ हाथ में वेदों लेकर संस्कृत श्लोकों और मंत्रों को पढ़ते हुए ली थी। 2020 में संतोखी और उनकी पत्नी कविता सीनाचेरी ने अपनी शादी हिंदू रीति-रिवाजों से की थी।

6. भरत जगदेव : गुयाना के उपराष्ट्रपति, दादा अमेठी से थे

gayana

भरत जगदेव 2020 से गुयाना के उपराष्ट्रपति हैं। वह भारतीय मूल के गुयाना के राष्ट्रपति इरफान अली के एडमिनिस्ट्रेशन में शामिल हैं। इससे पहले वह 1997 से 1999 तक गुयाना के उपराष्ट्रपति रहे थे। उनका जन्म 23 जनवरी 1964 को गुयाना में एक भारतीय हिंदू परिवार में हुआ था। जगदेव महज 13 साल की उम्र में ही गुयाना की पीपुल्स प्रोग्रेसिव पार्टी की यूथ विंग से जुड़ गए थे और 16 की उम्र तक उसके नेता बन गए थे। 1990 में उन्होंने मॉस्को स्थित पैट्रिक लुमुंबा पीपुल्स फ्रेंडशिप यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में मास्टर्स डिग्री ली।

1993 में वह जूनियर फाइनेंस मिनिस्टर और 1995 में सीनियर फाइनेंस मिनिस्टर बने। 1997 से 1999 तक वह देश के उपराष्ट्रपति रहे। 1999 में वह 35 साल की उम्र में गुयाना के राष्ट्रपति बने। 2006 में वह दोबारा गुयाना के राष्ट्रपति बने और 2011 तक पद पर रहे। 1912 में जगदेव के दादा राज जियावन उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले से मजूदर के रूप में अंग्रेजों द्वारा गुयाना ले जाए गए थे। आगे चलकर इसी परिवार से निकले भरत जगदेव गुयाना के राष्ट्रपति बने।

7. मोहम्मद इरफान अली: गुयाना के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति

VVV

मोहम्मद इरफान अली गुयाना के वर्तमान राष्ट्रपति हैं। वह गुयाना के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति हैं। गुयाना की 8 लाख की आबादी में से करीब आधे भारतीय मूल के लोग हैं। अली का जन्म 25 अप्रैल 1980 को गुयाना में एक भारतीय-गायनीज मुस्लिम परिवार में हुआ था। अली ने यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टइंडीज से अर्बन और रीजनल प्लानिंग में डॉक्टरेक्ट की डिग्री ली।

2006 में अली की राजनीति में एंट्री गुयाना नेशनल असेंबली के सदस्य बनने से हुई थी। 2009 से 2015 तक वह हाउसिंग एंड वॉटर मिनिस्टर और टूरिज्म इंडस्ड्री और कॉमर्स मिनिस्टर रहे। गुयाना की पीपुल्स प्रोग्रेसिव पार्टी/सिविक से आने वाले अली 2020 में हुए आम चुनावों में जीत के बाद 2 अगस्त 2020 को गुयाना के 10वें राष्ट्रपति बने। अली ने 2017 में आर्या अली से शादी की थी, उनका एक बेटा है।

इरफान अली के दादा ब्रिटिश राज में भारत से गुयाना गन्ने की मिल में काम करने के लिए आए थे। इरफान ने दिल्ली की इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से MA की डिग्री हासिल की है।

8. पृथ्वीराजसिंह रूपन : मॉरीशस के राष्ट्रपति

नन

मॉरिशस के राजनेता पृथ्वीराजसिंह रूपन 2019 से मॉरिशस के राष्ट्रपति हैं। उनका जन्म 24 मई 1959 को मॉरिशस के एक भारतीय आर्य समाजी हिंदू परिवार में हुआ था। उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल लंकाशायर से इंटरनेशनल बिजनेस लॉ में मास्टर्स डिग्री ली। 1983 में वे राजनीति में आए। 1995 में वे पहली बार चुनाव लड़े और 2000 में जीते। 2010 से 2012 तक वह मॉरिशस नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर रहे। 2014 से 2017 तक वह सोशल इंटीग्रेशन और इकोनॉमिक एम्पावरमेंट मिनिस्टर और 2017 से 2019 तक आर्ट्स एंड कल्चर मिनिस्टर रहे। 2 दिसंबर 2019 को वह मॉरिशस के 7वें प्रधानमंत्री बने। उनकी पत्नी का नाम संयुक्ता रूपन है और उनके चार बच्चे हैं। 

द-सूत्र ऐप डाउनलोड करें :
Like & Follow Our Social Media