केरल हाईकोर्ट की टिप्पणी: लिव-इन रिलेशनशिप को कानून नहीं मानता शादी, तलाक की मांग नहीं की जा सकती

author-image
The Sootr
एडिट
New Update
केरल हाईकोर्ट की टिप्पणी: लिव-इन रिलेशनशिप को कानून नहीं मानता शादी, तलाक की मांग नहीं की जा सकती

Kochi. लिव-इन रिलेशनशिप को लेकर केरल हाईकोर्ट ने एक बड़ी टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने कहा कि लिव इन रिलेशनशिप को शादी के रूप में मान्यता नहीं दी जा सकती है। केरल हाईकोर्ट ने कहा कि कानून लिव-इन रिलेशनशिप को शादी के रूप में मान्यता नहीं देता है। कोर्ट ने कहा कि जब दो व्यक्ति केवल एक समझौते के आधार पर एक साथ रहने का फैसला करते हैं तो वे किसी विवाह अधिनियम के दायरे में आते हैं। लिव-इन रिलेशनशिप का मतलब शादी होना नहीं होता है न ही इसमें तलाक की मांग की जा सकती हैं।





कानून नहीं मानता लिव इन को शादी





जस्टिस ए मोहम्मद मुस्ताक और जस्टिस सोफी थॉमस की खंडपीठ ने लिव इन को लेकर ये टिप्पणी तब कि जब लिव-इन में रहने वाले याचिकार्ता कपल ने तलाक की अर्जी लगाई। दोनों जज ने कहा कि लिव-इन रिलेशनशिप अभी तक कानूनी रूप से मान्यता प्राप्त नहीं हैं। अदालत ने कहा कि विवाह एक सामाजिक संस्था है जिसे कानून द्वारा मान्यता प्राप्त है और यह समाज में सामाजिक और नैतिक आदर्शों को दर्शाता है।  लिव-इन रिलेशनशिप को विवाह की इस तरह मान्यता नहीं दी जा सकती है।





अलग-अलग धर्मों के लोगों की याचिका पर टिप्पणी





हाई कोर्ट की बेंच ने लिव-इन रिलेशनशिप में रहने वाले अलग-अलग धर्मों के जोड़े की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की है। याचिकाकर्ताओं में एक हिंदू और एक अन्य ईसाई हैं, जिन्होंने साल 2006 में एक पंजीकृत माध्यम से एक पति और पत्नी के रूप में एक साथ रहने का फैसला किया। रिश्ते के दौरान दंपति का एक बच्चा भी था।





वकील का दावा





याचिकाकर्ताओं के वकील ने तर्क दिया था कि जब दोनों पक्षों ने घोषणा के माध्यम से अपने रिश्ते को विवाह के रूप में स्वीकार कर लिया था, तो अदालत यह तय नहीं कर सकती कि वे कानूनी रूप से विवाहित हैं या नहीं। उच्च न्यायालय ने कहा कि जब दो पक्ष केवल एक समझौते के माध्यम से एक साथ रहने का फैसला करते हैं, न कि किसी व्यक्तिगत कानून या विशेष विवाह अधिनियम के अनुसार, तो वे इसे विवाह होने का दावा नहीं कर सकते और न ही इस सिलसिले में तलाक ही ले सकते हैं।



Kerala High Court Live-in relationship Marriage Act Demand for divorce not valid Special Marriage Act केरल हाईकोर्ट लिव-इन रिलेशनशिप विवाह अधिनियम तलाक की मांग सही नहीं विशेष विवाह अधिनियम