थम गया चुनाव प्रचार का शोर...जानें 75 दिन में किसने कितना लगाया जोर

सातवें फेज के लिए प्रचार गुरुवार को खत्म हो गया। इसके साथ ही 75 दिन तक चला लोकसभा चुनाव अभियान भी समाप्त हो गया। चुनाव 2024 प्रधानमंत्री मोदी ने इस बार 2019 के तुलना में 64 रैलियां ज्यादा की हैं।

author-image
Aparajita Priyadarshini
New Update
ोेोे
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

लोकसभा चुनाव 2024 की 6 फेज की वोटिंग पूरी हो चुकी है। अब 1 जून को सातवें और आखिरी फेज का मतदान बाकी है। सातवें फेज के लिए प्रचार गुरुवार को खत्म हो गया। सात चरणों वाले लंबे-चौड़े चुनावी कार्यक्रम के दौरान सभी पार्टियों के दिग्गजों ने खूब जोर लगाया।

अपनी जीत को लेकर INDIA गठबंधन को भरोसा 

आखिरी चरण की वोटिंग होना भले ही बाकी हो। लेकिन INDIA गठबंधन को जीत का पूरा भरोसा है और उसकी तरफ से बयान आया है कि जीत के 48 घंटे के अंदर ही प्रधानमंत्री को चुन लिाया जाएगा। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी 4 जून को लेकर बड़ा दावा किया है। उन्होंने दावा किया कि INDIA गठबंधन पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगा। ये सरकार समावेशी, राष्ट्रवादी और विकास के मुद्दे पर चलेगी।  

ये भी पढ़ें...

अब इलाज के लिए नहीं करना होगा इंतजार, तीन घंटे में होगा कैशलेस क्लेम सेटल

विपक्ष को एक तरफा टक्कर देते नजर आए प्रधानमंत्री

इस चुनाव में पार्टी के पक्ष में पीएम मोदी की मेहनत साफ नजर आई। विपक्ष के फायर ब्रांड नेताओं राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, अरविंद केजरीवाल जैसे नेता एक तरफ और पूरे चुनाव प्रचार अभियान के दौरान नरेंद्र मोदी एक तरफ सबको अपनी ऊर्जा से टक्कर देते नजर आए।

कैसा रहा बीजेपी का चुनाव अभियान  

जनवरी में राम मंदिर के उद्घाटन के साथ BJP का आत्मविश्वास चरम पर पहुंच गया। पार्टी के घोषणापत्र में भी मोदी की गारंटी की बात प्रमुखता से कही गई।

पीएम मोदी ने वैल्थ रिडिस्ट्रीब्यूशन के कांग्रेस के वादे को बड़ा मुद्दा बनाया और कांग्रेस के घोषणापत्र की तुलना मुस्लिम लीग से कर दी। इसके बाद ण का चुनाव अभियान बेहद आक्रामक हो गया। साथ ही सैम पित्रोदा के विरासत टैक्स के बयान ने बीजेपी को हावी होने का मौका दे दिया। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के पुराने बयान का पीएम मोदी ने बार-बार जिक्र किया जिसमें उन्होंने संसाधनों पर अल्पसंख्यकों के पहले हक की बात कही थी। पीएम मोदी ने कहा कि ये मां-बहनों का मंगलसूत्र भी नहीं बचने देंगे।ऐसा मुद्दों ने BJP का आत्मविश्वास जनता के आगे बढ़ाया।

बिजेपी को देश भर से मिले फीडबैक के आधार पर उम्मीद है कि एक बार फिर मोदी सरकार बनाने जा रही है।बीजेपी सूत्रों के मुताबिक पार्टी को कुछ राज्यों में 2019 की तुलना में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। तमिलनाडु, केरल और आंध्र प्रदेश में बीजेपी पिछली बार खाता नहीं खोल सकी थी, जबकि इस बार पीएम मोदी ने वहां धुआंधार प्रचार किया है। बीजेपी ने इन राज्यों  में क्षेत्रीय दलों से गठबंधन भी किया है।

मोदी की गारंटी से शुरू हुआ प्रचार अभियान

बीजेपी ने चुनाव अभियान 'मोदी की गारंटी' से शुरू किया। पार्टी के घोषणापत्र में भी 'मोदी की गारंटी' की बात प्रमुखता से कही गई। बीजेपी के तमाम नेता एनडीए के 400 पार जाने की बात उठाते रहे। सामाजिक रक्षा और गरीब कल्याण से जुड़े मुद्दों का विस्तार से रैलियों में जिक्र किया गया।

विपक्ष ने आरक्षण और संविधान का उठाया मुद्दा

पीएम मोदी के आक्रामक चुनाव प्रचार के बीच विपक्ष के नेताओं ने कहना शुरू किया कि बीजेपी 400 पार की बात इसलिए कर रही है, क्योंकि वह संविधान बदल कर दलित आदिवासियों का आरक्षण खत्म करना चाहती है।

प्रचार अभियान समाप्त होते-होते प्राइमरी मुद्दे सेकेंडरी होते गए। शुरुआती चरणों में कम मतदान ने भी बीजेपी को चौकन्ना कर दिया। इससे विपक्षी पार्टियों ने दावे करने शुरू कर दिए कि एनडीए बहुमत हासिल नहीं कर सकेगा। बहरहाल, अब जनता का फैसला EVM में कैद हो चुका है। 4 जून को पता चलेगा कि किसके दावे में कितना दम है।

thesootr links

 सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें

 

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे मोदी की गारंटी I.N.D.I.A. गठबंधन 7 phase voting know big updates loksabha election 2024 election campaign बीजेपी का चुनाव अभियान राम मंदिर के उद्घाटन प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह लोकसभा चुनाव का सफर