MP में अगले साल Assembly Election हैं। इसमें BJP ने Hindutva Card खेलने की तैयारी कर ली है। MP Election News
होम / मध्‍यप्रदेश / मप्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी धर्म की आ...

मप्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी धर्म की आड़ लेने की जुगत में, ओंकारेश्वर आ सकते हैं मोदी, राम गमन पथ भी चुनावी एजेंडे में

Atul Tiwari
Oct 26, 2022 08:06 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। 11 अक्टूबर 2022 को ही मोदी ने महाकाल लोक का लोकार्पण किया था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। 11 अक्टूबर 2022 को ही मोदी ने महाकाल लोक का लोकार्पण किया था।

BHOPAL. मध्य प्रदेश में अगले साल नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी ने एक बार फिर हिंदुत्व की पिच पर उतरने के संकेत दिए हैं। उज्जैन में महाकाल लोक के निर्माण के साथ ही बीजेपी नए रास्ते पर कदम बढ़ाती दिख रही है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि प्रदेश में हिंदुत्व कार्ड को भुनाने की तैयारी है, जिससे ये साबित हो कि बीजेपी हिंदू आस्था को लेकर काम करती है। 2023 के चुनाव में पार्टी कोई रिस्क नहीं लेना चाहती। चुनाव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद लीड करेंगे। अगले 8 महीनों में मोदी प्रदेश में 14 बड़े आयोजनों का हिस्सा होंगे, तो गृह मंत्री अमित शाह भी 10 कार्यक्रमों में शामिल होंगे। इसका रोडमैप संगठन और सत्ता मिलकर तैयार कर रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक, बीजेपी महाकाल लोक के साथ-साथ अब ओंकारेश्वर टेम्पल ऑफ टाउन और राम वन गमन पथ को लेकर भी एजेंडा सेट करने में जुट गई है, ताकि 2023 के चुनाव में विपक्ष को हिंदुत्व की पिच पर लाया जा सके। खबर तो ये भी है कि बुजुर्गों को बस से नर्मदा परिक्रमा कराने की योजना तैयार की जा रही है।

पीएम मोदी अगले महीने ओंकारेश्वर आ सकते हैं 

शिवराज सरकार ने 18 अक्टूबर को ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य की 108 फीट ऊंची मूर्ति और उसका आधार बनाने के लिए 198 करोड़ रुपए की मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संभवत: अगले महीने ओंकारेश्वर का दौरा कर सकते हैं। यहां वे दुनिया के दूसरे बड़े फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट का शिलान्यास करेंगे। नर्मदा नदी पर 600 मेगावाट का ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सोलर प्लांट बनना है। इस दौरान वे ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन और निर्माणाधीन आदि शंकराचार्य की मूर्ति भी देख सकते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज ने महाकाल लोक के लोकार्पण के दौरान मोदी को इस सोलर प्लांट का शिलान्यास का न्योता दिया था। प्रधानमंत्री ने अनौपचारिक सहमति भी दे दी है। शिवराज सरकार चाहती है कि जनवरी में होने वाली इन्वेस्टर्स समिट से पहले सोलर प्लांट का शिलान्यास हो जाए, जिससे समिट में इसका फायदा मिल सके।


राम वन गमन के लिए 300 करोड़ रु. देने का ऐलान

मध्य प्रदेश में राम वन गमन (कॉरिडोर) का काम भी जल्द शुरू होने जा रहा है। पहले चरण में इस पर मूलभूत सुविधाएं विकसित की जाएंगी। इसके लिए शिवराज सरकार ने 300 करोड़ रुपए के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है। कुल बजट की 60% राशि केंद्र और 40% राशि राज्य सरकार देगी। राम वन गमन का निर्माण संस्कृति विभाग के अंतर्गत मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास भोपाल को सौंपा गया है।

मध्य प्रदेश में 370 किमी का है राम वन गमन पथ

राम वन गमन पथ चित्रकूट (सतना), कामतानाथ मंदिर (सतना), स्फटिक शिला (सतना), गुप्त गोदावरी (सतना), सती अनुसुइया (सतना), सलेहा मंदिर (पन्ना), मैहर, बड़वारा (कटनी), राम मंदिर (ताला धाम, सतना), शाहपुरा (जबलपुर), सीतामढ़ी (शहडोल), अनूपपुर और अमरकंटक तक जाएगा। 

बीजेपी का आकलन- शिव मंदिरों में बढ़ रही भक्तों की संख्या

बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक- महाकाल लोक के उद्घाटन के बाद से ही सत्ता और संगठन के लोग उत्साह में हैं। पार्टी को 65 हजार बूथों के डिजिटिलाइजेशन के दौरान जो डेटा और फीडबैक मिला, उससे सत्ता और संगठन को कई चुनावी टिप्स मिले। रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि पिछले 8 से 10 महीने के दौरान राज्य के शिव मंदिरों में सुबह-शाम भक्तों की संख्या तेजी से बढ़ी है। सबसे ज्यादा संख्या महिला भक्तों की देखी जा रही है। यही कारण है कि भव्य 'महाकाल लोक' परियोजना का धूमधाम से प्रचार किया गया और अब ओंकारेश्वर पर फोकस है।

बुजुर्गों को बस से कराएंगे नर्मदा परिक्रमा

यह योजना भी तैयार हो रही है कि 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को बस से नर्मदा परिक्रमा कराई जाए। धार्मिक न्यास विभाग के सूत्रों के मुताबिक, हर जिले से महीने में चार दिन फ्री बस सेवा शुरू करने का प्लान है। धार्मिक पर्यटन के लिए शिवराज सरकार अगले 8 महीने में 1 लाख 40 हजार श्रद्धालुओं को तीर्थदर्शन यात्रा करवाने की तैयारी भी कर रही है। कोरोना काल के दौरान यह यात्रा एक तरह से बंद ही थी, पर अब जोर-शोर से शुरू हो गई है।

द-सूत्र ऐप डाउनलोड करें :
Like & Follow Our Social Media