Advertisment

जबलपुर में गैर मूल निवासियों के भी धड़ल्ले से दिया आयुष्मान योजना का लाभ, फर्जीवाड़े से कर्मचारियों को मिलता था कमीशन

author-image
Rajeev Upadhyay
New Update
जबलपुर में गैर मूल निवासियों के भी धड़ल्ले से दिया आयुष्मान योजना का लाभ, फर्जीवाड़े से कर्मचारियों को मिलता था कमीशन

Jabalpur. जबलपुर के लार्डगंज थाना इलाके के राइट टाउन स्थित सेंट्रल इंडिया किडनी अस्पताल में दूसरे राज्यों के लोगों को भी आयुष्मान योजना के तहत अस्पताल में भर्ती किया जाता रहा। एसआईटी की जांच में कुछ दस्तावेज मिले हैं। जिनके अनुसार कुछ लोग मूलतः महाराष्ट्र के निवासी थे, उनको सेंट्रल इंडिया किडनी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया था। 

Advertisment





इतना ही नहीं उनका इलाज भी आयुष्मान योजना के तहत किया गया। एसआईटी यह जानकारी मिलने के बाद जांच के लिए महाराष्ट्र जा सकती है। जहां अस्पताल में मरीज बनकर भर्ती हुए लोगों के बयान दर्ज किए जाऐंगे। 





इधर मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी में 4 अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं। सभी टीमों को जांच के लिए अलग-अलग काम सौंपे गए हैं। टीम ने करीब दो हजार मरीजों को चिन्हित कर लिया है, जिनके बिल 10 हजार रुपए से अधिक के हैं। इसके साथ ही सायबर सेल की मदद से अस्पताल से जब्त किए गए कंप्यूटर से डिलीट किया गया डाटा भी रिकवर करा लिया गया है। 





एसआईटी ने सेंट्रल इंडिया किडनी अस्पताल में कार्यरत कर्मचारियों से पूछताछ की थी। जिसमें कई कर्मचारियों ने यह बयान दिया था कि वह अस्पताल में आयुष्मान हितग्राही को भर्ती करवाते थे तो अस्पताल संचालक दुहिता पाठक और उनके पति डॉ अश्वनी कुमार पाठक बतौर कमीशन 5 हजार रुपए देते थे। कमीशन लेने के लिए कर्मचारियों ने कई बार एक ही परिवार के लोगों को अलग-अलग तारीख में भर्ती किया था। 

Advertisment







यह है मामला





दरअसल 26 अगस्त को पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर अस्पताल के सामने स्थित होटल वेगा में छापा मारा था। जांच के दौरान होटल वेगा और सेंट्रल इंडिया किडनी अस्पताल में आयुष्मान कार्डधारी मरीज भर्ती पाए गए। अस्पताल संचालक दुहिता पाठक और उनके पति डॉ अश्वनी पाठक ने कई लोगों को फर्जी मरीज बनाकर यहां रखा था। होटल के कमरों में तीन-तीन लोग भर्ती पाए गए थे। इसके बाद पुलिस ने डॉ दंपती के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया था। वर्तमान में डॉक्टर दंपती जेल में बंद हैं। 



Jabalpur News जबलपुर न्यूज़ जबलपुर का आयुष्मान फर्जीवाड़ा the benefits of Ayushman scheme were given to non-native residents employees used to get commission due to fraud जबलपुर में गैर मूल निवासियों के भी धड़ल्ले से दिया आयुष्मान योजना का लाभ फर्जीवाड़े से कर्मचारियों को मिलता था कमीशन
Advertisment
Advertisment