Digi Yatra: इंदौर एयरपोर्ट पर अब डिजीयात्रा, चेहरा स्कैन करते ही मिलेगी टर्मिनल में एंट्री

एयरपोर्ट पर पैसेंजर्स को लंबी लाइन से छुटकारा दिलाने और उन्हें बेहतर फ्लाइंग एक्सपीरिएंस देने के लिए देश-विदेश के बड़े एयरपोर्ट की तरह इंदौर में भी प्रवेश (बोर्डिंग पास) के लिए डिजी यात्रा की सेवा मिल सकेगी। 

author-image
Pratibha ranaa
New Update
रुबरबर

देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

BHOPAL. देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट में ‘डिजी यात्रा’ ( Digi Yatra ) की सुविधा मिलेगी। यात्री अब इंदौर एयरपोर्ट से पेपरलेस यात्रा कर सकेंगे। डिजीयात्रा शुरू होने से यात्रियों को दस्तावेजों की जांच में लगने वाला अतिरिक्त समय बचेगा। इसके लिए यात्रियों को मोबाइल में डिजीयात्रा एप डाउनलोड करना होगा। उसका चेहरा स्कैन करते ही टर्मिनल में प्रवेश मिल जाएगा। मई में इसका ट्रायल शुरू होने जा रहा है। फिलहाल कई बड़े शहरों में इसकी सुविधा दी जा रही है। 

मशीनों को इंस्टॉल करने का काम जारी 

इंदौर के देवी अहिल्या बाई होल्कर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर डिजी यात्रा की स्कैनर इंस्टालेशन शुरू कर दिया है। मेन पॉवर के लिए टेंडर किए जा चुके है। मशीनें पहले ही आ चुकी हैं। अभी मशीनों को इंस्टॉल करने का काम चल रहा है। इसके लिए तैनात होने वाले कर्मचारियों की ट्रेनिंग की जाएगी।

अब डिजी यात्रा के बारे में जानिए... 

डिजी यात्रा क्या है?

डिजी यात्रा भारत सरकार की एक पहल है, जिसका उद्देश्य हवाई अड्डों पर यात्रियों के लिए प्रसंस्करण प्रक्रिया को तेज और परेशानी मुक्त बनाना है। यह चेहरे की पहचान तकनीक का उपयोग करके यात्रियों की डिजिटल पहचान को उनके बोर्डिंग पास के साथ जोड़ता है।

ये खबर भी पढ़िए...Shardiya Navratri: कलश स्थापना का मुहूर्त इतने बजे से होगा शुरू, घर में इस तरह से करें पूजन, जान लें पूजा विधि

डिजी यात्रा कैसे काम करती है?

डिजी यात्रा के लिए, यात्रियों को मोबाइल ऐप डाउनलोड करना होगा और उसमें अपना आधार कार्ड, पासपोर्ट और हवाई टिकट जैसी आवश्यक जानकारी दर्ज करानी होगी। इसके बाद, हवाई अड्डे पर एक स्व-सेवा कियोस्क पर या मोबाइल ऐप के माध्यम से चेहरे की पहचान प्रक्रिया को पूरा करना होगा। प्रणाली यात्री की पहचान सत्यापित करेगी और बोर्डिंग पास के साथ उसकी जानकारी का मिलान करेगी। सफल सत्यापन के बाद, यात्री सुरक्षा जांच के लिए आगे बढ़ सकता है।

डिजी यात्रा के क्या लाभ हैं?

डिजी यात्रा के कई लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • कम प्रतीक्षा समय: चेहरे की पहचान के माध्यम से तेज प्रसंस्करण से हवाई अड्डों पर लंबी लाइनों में लगने से बचाता है।

  • परेशानी मुक्त यात्रा: कागजी कार्रवाई की आवश्यकता कम हो जाती है, जिससे हवाई अड्डे का अनुभव अधिक सुविधाजनक हो जाता है।

  • सुरक्षा में वृद्धि: चेहरे की पहचान तकनीक से यात्रा दस्तावेजों के दुरुपयोग को रोका जा सकता है।

  • कोविड-19 सुरक्षा: संपर्क रहित प्रसंस्करण से कोविड-19 जैसे संचारी रोगों के प्रसार को कम करने में मदद मिल सकती है।

डिजी यात्रा का उपयोग करने के लिए क्या पात्रता है?

वर्तमान में, डिजी यात्रा कुछ चुनिंदा भारतीय हवाई अड्डों पर उपलब्ध है और कुछ विशिष्ट उड़ानों के लिए ही मान्य है। पात्रता आवश्यकताओं के बारे में अधिक जानकारी के लिए, आप उस हवाई अड्डे की वेबसाइट से संपर्क कर सकते हैं, जहां आप यात्रा करने की योजना बना रहे हैं।

डिजी यात्रा कार्यक्रम में नामांकन कैसे होगा?

डिजी यात्रा कार्यक्रम में नामांकन के लिए, आप डिजी यात्रा मोबाइल ऐप डाउनलोड कर सकते हैं और उसमें अपना आधार कार्ड, पासपोर्ट और हवाई टिकट जैसी जानकारी दर्ज करा सकते हैं। इसके बाद, हवाई अड्डे पर एक स्व-सेवा कियोस्क पर या मोबाइल ऐप के माध्यम से चेहरे की पहचान प्रक्रिया को पूरा करना होगा।

डिजी यात्रा Digi Yatra