मध्य प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में हुए 100 करोड़ के सरिया घोटाले में जिंदल कंपनी लेगी एक्शन, उसके नाम का डुप्लीकेट सरिया लगा

कांग्रेस महासचिव राकेश सिंह यादव ने इस सारे मामले को लेकर उद्योगपति नवीन जिंदल को ट्विट करके डुप्लीकेट जिंदल सरिये के संदर्भ में जानकारी दी थी। इसके पश्चात नवीन जिंदल ने उन्हें फोन कर मामले की विस्तार से जानकारी दी। 

author-image
Sandeep Kumar
New Update
SANDEEP 2024 Copy of STYLESHEET THESOOTR - 2024-06-01T095452.266.jpg
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

संजय गुप्ता @ INDORE. मध्य प्रदेश में बुधनी सहित अन्य जगह पर बन रहे नए मेडिकल कॉलेज में सौ करोड़ के सरिया घोटाले के लगे आरोपों के बीच अब बीजेपी के हरियाणा से सांसद प्रत्याशी और जिंदल स्टील के प्रमुख नवीन जिंदल एक्शन लेंगे। मामला इन मेडिकल कॉलेजों में जिंदल मार्का का डुप्लीकेट ( सेकंडरी टीएमटी ) सरिया उपयोग करना का है, जो देवास की गणपति स्ट्रक्चर कंपनी से सप्लाय हुआ है। जिंदल इस मामले में एमपीबीडीसी ( MPBDC ) और पीडब्ल्यूडी ( PWD ) अधिकारियों के साथ ठेका लेने वाली जेपी कंसट्रक्शन के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। 

ये खबर भी पढ़िए...MP IPS Transfer : ये 12 SP हटाए जाएंगे 4 जून के बाद , पढ़िए नाम

इंदौर के शिकायतकर्ता से जिंदल ने ली जानकारी

कांग्रेस महासचिव राकेश सिंह यादव ने इस सारे मामले को लेकर उद्योगपति नवीन जिंदल को ट्विट करके डुप्लीकेट जिंदल सरिये के संदर्भ में जानकारी दी थी। इसके पश्चात नवीन जिंदल ने उन्हें फोन कर मामले की विस्तार से जानकारी दी। इसके बाद उन्होंने निर्माण करने वाली कंपनी जे.पी.कंस्ट्रक्शन प्रा.लिमिटेड एवं एमपीबीडीसी के भ्रष्ट अधिकारियों तथा जिंदल नाम से सेंकडरी सरिये को प्राइमरी बताकर सप्लाई करने वाली देवास की कंपनी गणपति स्ट्रक्चर प्रा.लिमिटेड के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही। बताया जा रहा है कि उनकी लीगल टीम चुनाव खत्म होने के बाद इंदौर आएगी। 

ये खबर भी पढ़िए...किसकी बनने वाली है सरकार- बता रहा है फलोदी सट्टा बाजार, ये अनुमान करोड़ों के करेंगे वारे-न्यारे

बीजेपी नेता के संरक्षण में ही चल रही गणपति कंपनी

बताया जा रहा है कि देवास की जिस कंपनी गणपति से यह सेकंडरी सरिया सप्लाय हुआ है उसे बीजेपी के ही एक नेत का संरक्षण प्राप्त है। इसी के चलते उससे ही यह सरिया लिया गया और मेडिकल कॉलेजों में सेकंडरी सरिया खपा दिया गया। जबकि कॉलेजों में सरिया प्राइमरी कैटेगरी का लगाना था। दोनों के दाम में आठ हजार रुपए प्रति टन तक का अंतर है। इस मामले में जीएसटी चोरी को लेकर भी शिकायत हुई है। मध्य प्रदेश में दस से ज्यादा मेडिकल कॉलेज में इसी तरह अमानक और एमपीबीडीसी  एवं पीडब्ल्यूडी द्वारा एप्रुड सरिया उपयोग नहीं करके करोड़ों का घोटाला करने के आरोप लगे हैं।

thesootr links

 सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें

जिंदल स्टील के प्रमुख नवीन जिंदल सौ करोड़ के सरिया घोटाले नवीन जिंदल MPBDC PWD गणपति स्ट्रक्चर कंपनी