कांग्रेस से चुनाव लड़े राजा मंधवानी भी जा रहे बीजेपी में, बोले CAA और राम मंदिर के कारण लिया फैसला

राजा मंधवानी ने द सूत्र से कहा कि वह bjp में जा रहे हैं और कैलाश विजयवर्गीय उन्हें ले जा रहे हैं। कांग्रेस छोड़ने के सबसे बड़ा कारण है कि उन्होंने राम मंदिर का न्यौता ठुकराया, इसके साथ हम सभी की आस्था जुड़ी थी और सीएए लागू होने से मैं खुश हूं।

author-image
Pratibha ranaa
एडिट
New Update
k,
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

संजय गुप्ता, INDORE. बीजेपी का गढ़ बन चुके इंदौर में कांग्रेस का हाल यह है कि लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha Elections ) लड़ने से पहले ही अक्षय कांति बम ने नाम वापस ले लिया और बीजेपी में जा रहे हैं। उधर विधानसभा चुनाव लड़ने वाले राजा मंधवानी ( Raja Mandhwani ) भी बीजेपी में जा रहे हैं। कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले और फिर बीजेपी में जाने वाले ऐसे चौथे नेता है। मंधवानी ने कहा कि अभी समय बताया नहीं है, लेकिन बीजेपी में मैं जा रहा हूं। उधर जीतू ठाकुर का भी नाम चला लेकिन उन्होंने बीजेपी मे जाने का खंडन किया है। 

इसलिए जा रहे बीजेपी में

राजा मंधवानी ने द सूत्र से कहा कि वह बीजेपी में जा रहे हैं और नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय उन्हें ले जा रहे हैं। कांग्रेस छोड़ने के सबसे बड़ा कारण है कि उन्होंने राम मंदिर का न्यौता ठुकराया, इसके साथ हम सभी की आस्था जुड़ी थी और सीएए लागू होने से मैं खुश हूं, हमारे समाज के कई लोगों को इसका लाभ होगा, वहीं कांग्रेस इसका विरोध कर रही है जो नागुवार गुजरा। बीजेपी में जाकर पद नहीं मिलने पर क्या होगा? इस पर कहा कि मैं पद के लिए नहीं जा रहा हूं, समाजसेवा करना चाहता हूं और इसके लिए सत्ता की जरूरत होती है, इससे और बेहतर काम कर सकता हूं। मुझे पद का लालाच नहीं है। 

 

ये खबर भी पढ़िए...कांग्रेस के बम ने इसलिए नाम लिया वापस- महिला मामले से दबाव में आए बम, धारा 307 और कॉलेज की भी गड़बड़ियां

एक-एक कर यह सभी गए कांग्रेस में

1-    संजय शुक्ला- पूर्व विधायक और इंदौर विधानसभा एक से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े, हार के बाद कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी के साथ बीजेपी में चले गए।

2-    विशाल पटेल- पूर्व कांग्रेस विधायक, कांग्रेस के टिकट पर देपालपुर में लड़े औऱ् हार के बाद शुक्ला के साथ बीजेपी में गए।

3-    रामकिशोर शुक्ला- बीजेपी में थे विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस में आए और टिकट पर महू से चुनाव लड़ा, करारी हार हुई और फिर उषा ठाकुर का दामन थामकर बीजेपी में चले गए।

4-    स्वप्निल कोठारी- कांग्रेस में कमलनाथ के करीबी थे, लोकसभा में कांग्रेस से टिकट की बात चली लेकिन इसी बीच वह बेजीप में चले गए।

5-    अंतरसिंह दरबार- कांग्रेस के दो बार के विधायक और पांच बार चुनाव लड़ चुके दरबार का कांग्रेस ने इस बार महू से टिकट काटा और शुक्ला को दिया था. इससे नाराज होकर निर्दलीय चुनाव लड़े। चुनाव मे हार के बाद बीजेपी में चले गए। 

विधानसभा चुनाव लड़ने वाले अब यही बचे कांग्रेस में

विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर इंदौर एक से चुनाव लड़े संजय शुक्ला, इंदौर चार से चुनाव लड़े राजा मंधवानी, देपालपुर से चुनाव लड़े विशाल पटेल और महू से चुनाव लड़े रामकिशोर शुक्ला बीजेपी में जा चुके। उधर अब इंदौर से चुनाव लड़े चिंटू चौकेस अभी निगम में नेता प्रतिपक्ष है, इंदौर तीन से चुनाव लड़े पिंटू जोशी अभी कांग्रेस के साथ है, इंदौर पांच से चुनाव लड़े सत्तू पटेल भी कांग्रेस में हैं, सांवेर से चुनाव लड़ी रीना बौरासी, राउ से जीतू पटवारी (अब कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष) यह अभी पांच विधासनभा प्रत्याशी कांग्रेस में हैं। उधर लोकसभा प्रत्याशी अक्षय कांति बम तो नाम वापस ले ही चुके हैं और बीजेपी में जा रहे हैं, उन्हीं के साथ राजा मंधवानी भी जा रहे हैं।

Lok Sabha elections लोकसभा चुनाव Raja Mandhwani राजा मंधवानी