Korba में गेवरा-पेंड्रारोड मुआवजा Conflict बढ़ता जा रहा है। प्रभावितों को payment नहीं मिलन तक House नहीं तोड़ें जाएगा- CG NEWS
होम / छत्तीसगढ़ / कोरबा में छिड़ा गेवरा- पेंड्रारोड रेल कॉ...

कोरबा में छिड़ा गेवरा- पेंड्रारोड रेल कॉरीडोर का मुआवजा विवाद, अब बिना भुगतान के किसी का नहीं टूटेगा मकान

The Sootr CG
Oct 25, 2022 03:35 PM
कोरबा में अधर में अटकी गेरवा पेंड्रा-रोड परियोजना
कोरबा में अधर में अटकी गेरवा पेंड्रा-रोड परियोजना

KORBA. रेलवे की ओर से लंबे समय से इंतजार कर रहे गेवरा- पेंड्रारोड रेल कॉरीडोर का काम अब भी रफ्तार नहीं पकड़ पाया है। इसकी वजह मुआवजा विवाद है। इसे लेकर दीपका क्षेत्र के ग्रामीण लगातार आंदोलन कर रहे हैं। अब राजस्व विभाग की ओर से प्रभावितों को कहा गया है कि अगले 1 हफ्ते के भीतर उनके मुआवजा के प्रकरणों पर कार्रवाई पूरी कर ली जाएगी और मुआवजा मिल जाएगा। वहीं तब तक किसी का भी न मकान तोड़ा जाएगा और न उनकी जमीन को कब्जे में लिया जाएगा।

आंदोलन तेज कर रहे स्थानीय प्रभावित  


इस रेल कॉरीडोर से प्रभावित हो रहे लोग उर्जाधानी भू-विस्थापित किसान कल्याण समिति बनाकर अपना आंदोलन तेज कर रहे हैं। इसी के तहत कृष्णानगर दीपका के प्रभावित अपनी परिसंपत्तियों के मुआवजा की मांग करते हुए चरणबद्ध आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलन के दूसरे चरण में उन्होंने दीपका थाना चौक के सामने कटघोरा एसडीएम के साथ बैठक की थी। इसमें उन्होंने मुआवजा को लेकर उचित पहल करने का आश्वासन दिया था। इसे लेकर समिति के पदाधिकारियों ने मुआवजा भुगतान में आ रही तकनीकी दिक्कत को दूर करने को 1 हफ्ते का समय मांगा था। ग्रामीणों का कहना है कि बिना मुआवजा भुगतान के किसी भी हालत में रेल पथ निर्माण काम आगे नहीं बढ़ने दिया जाएगा और ग्रामीण विस्थापित नही होंगे। ग्रामीणों ने समस्या का समाधान नहीं होने पर फिर से आंदोलन करने की चेतावनी दी। 

16 लोगों को नहीं मिला मुआवजा

गेवरा- पेंड्रारोड रेल कारीडोर को जोड़ने वाली रेललाइन दीपका क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 7 कृष्णानगर दीपका तहसील कटघोरा से होकर गुजर रही है। इसमें 16 लोगों को मुआवजे का भुगतान नहीं किया गया है। जबकि प्रभावितों के मकान, बाड़ी, कुआं, बोर समेत पेड़-पौधे प्रभावित हो रहे हैं।

लंबे समय से है इंतजार

गेवरारोड-पेंड्रा कारीडोर कोई अभी की योजना नहीं है। लंबे समय से इसे बनाने को लेकर पहल शुरू होती रही है। लेकिन, हर बार मामला ठंडे बस्ते में चला जाता था। करीब दो साल पहले इस पर फिर मुहर लगी और उसके बाद जमीन अधिग्रहण की कवायद शुरू की गई। लेकिन, कई जगहों पर मुआवजे को लेकर विवाद के हालात बने हुए हैं। इसी के चलते काम में तेजी नहीं आ पा रही है। कुछ इसी तरह का मामला दीपका के कृष्णानगर वार्ड में सामने आया है, जहां के लोग बकायदा धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं।

thesootr
द-सूत्र ऐप डाउनलोड करें :
Like & Follow Our Social Media