ICMR की रिपोर्ट : Real नहीं है जूस...विटामिन कम, शक्कर ज्यादा

रियल फ्रूट जूस बताकर बेचे जा रहे जूस के पैकेट में सेब, अनार और चुकंदर का रस नहीं है, बल्कि ढेर सारी चीनी घोली गई है और इन फलों का आर्टिफिशियल फ्लेवर मिलाया गया है। तभी ये फलों के मुकाबले इतने सस्ते भी हैं और इतने मीठे भी।

author-image
Aparajita Priyadarshini
New Update
efer
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

क्या आपभी अच्छी सेहत पाने के लिए रियल फ्रूट जूस पीते हैं तो सावधान हो जाइए! क्येंकि ये जूस हमें सेहतमंद बनाने की बजाय बीमार कर रहे हैं। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं। यह दावा है भारत की सबसे पुरानी और सबसे विश्वसनीय हेल्थ रिसर्च बॉडी इंडियन काउंसिंल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) का है।

रियल फ्रूट जूस पीकर पड़ सकते हैं बीमार

ICMR का ये दावा है कि अगर हम पैकेज्ड फूड के लेबल को  देखकर इसका उपयोग कर रहे हैं,तो अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। क्योंकि पैकेज्ड फूड के लेबल भ्रामक या गलत हो सकते हैं। रियल फ्रूट जूस बताकर बेचे जा रहे जूस के पैकेट में सेब, अनार और चुकंदर का रस नहीं है, बल्कि ढेर सारी चीनी घोली गई है और इन फलों का आर्टिफिशियल फ्लेवर मिलाया गया है। तभी ये फलों के मुकाबले इतने सस्ते भी हैं और इतने मीठे भी।

8-08-0

शुगर-फ्री टैग के साथ बिक रहे फूड आइटम्स खतरनाक

ICMR के मुताबिक, शुगर-फ्री टैग के साथ बिक रहे फूड आइटम्स भी हमारे साथ धोखा है। इनमें रिफाइंड फैट, प्योरीफाइड आर्टिफिशियल न्यूट्रिएंट्स और यहां तक कि शुगर भी मिला हो सकता है। यानी बाजार से जो चीजें हम यह सोचकर खरीदकर ला रहे हैं कि इससे हमारी सेहत को फायदा होगा, वो दरअसल हमारी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रही हैं।

ये भी पढ़ें...

पीएम मोदी ने कर दिया 3 करोड़ घरों का ऐलान, आप भी ऐसे ले सकते हैं पीएम आवास योजना का लाभ

ICMR ने क्या कहा है एडवाइजरी में ?

ICMR के मुताबिक, Packaged Foods पर सेहत को लेकर किए गए दावे कंज्यूमर्स का ध्यान आकर्षित करने और उन्हें फूड आइटम खरीदने के लिए कन्विंस करने के लिए किए जाते हैं।और ये फूड आइटम्स बनाने वाली कंपनी हमारी सेहत के साथ धोखा कर रही है।

रियल फ्रूट जूस खतरनाक

ICMR के मुताबिक, बाजार में मिल रहे रियल फ्रूट जूस असल में फलों का रस नहीं है। इसमें बेमुश्किल 10% ही फ्रूट पल्प होता है। बाकी 90% हिस्सा कॉर्न सिरप, फ्रुक्टोज या अन्य शुगरी प्रोडक्ट्स से बना हो सकता है। 

हार्ट फ्रेंडली ऑयल के भ्रामक दावे

ICMR की एडवाइजरी के मुताबिक, नो कोलेस्ट्रॉल या हार्ट फ्रेंडली के टैग के साथ बिक रहे ऑयल भ्रामक हो सकते हैं क्योंकि प्लांट बेस्ड ऑयल में भले ही कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है, इसके बावजूद ये 100% फैट हैं और इन्हें हार्ट फ्रेंडली मानकर इस्तेमाल किया जाए तो यह खतरनाक साबित हो सकता है। साथ ही यह गलत जानकारी देकर ग्राहक को गुमराह करने जैसा है।

पैकेज्ड फूड प्रोडक्ट्स का प्राकृतिक होना मुश्किल

ICMR की एडवाइजरी में बताया गया है कि किसी फूड प्रोडक्ट को तभी तक ‘प्राकृतिक’ कहा जा सकता है, जब तक उसमें कोई कलर, फ्लेवर या आर्टिफिशियल सब्सटेंस न मिलाया गया हो। जबकि बाजार में बिक रहे कई प्रोडक्ट्स में ये सब मौजूद है, फिर भी इन्हें नेचुरल कहकर बेचा जा रहा है।

9=9-

लेबलिंग से उपभोक्ताओं का ध्यान खींचने की साजिश 

ICMR के मुताबिक फूड आइटम्स पर की गई लुभावनी लेबलिंग उपभोक्ताओं का ध्यान खींचने की साजिश है। यह उन्हें प्रोडक्ट खरीदने के लिए कन्विंस करने के लिए किया जाता है। हमें इस झांसे में आए बिना बहुत ध्यान से इस लेबलिंग को पढ़ना और समझना चाहिए।real juice not good for health | packaged food dangerous for health | sideeffects of real juice | sideeffects of packaged food | ICMR report 

ICMR ने प्रोटीन और पैकेज्ड फूड पर भी सवाल उठाए थे 

ICMR ने कुछ समय पहले प्रोटीन सप्लीमेंट्स जैसे कई पैकेज्ड फूड आइटम्स को लेकर भी एडवाइजरी जारी की थी। उसमें भी इनके लेबल पर दी गई जानकारी को भ्रामक बताया गया था। यह सब तब हो रहा है, जब FSSAI इतनी कड़ाई बरतता है।

thesootr links

सबसे पहले और सबसे बेहतर खबरें पाने के लिए thesootr के व्हाट्सएप चैनल को Follow करना न भूलें। join करने के लिए इसी लाइन पर क्लिक करें

द सूत्र की खबरें आपको कैसी लगती हैं? Google my Business पर हमें कमेंट के साथ रिव्यू दें। कमेंट करने के लिए इसी लिंक पर क्लिक करें

 

पैकेज्ड फूड प्रोडक्ट्स रियल फ्रूट जूस sideeffects of packaged food ICMR report sideeffects of real juice packaged food dangerous for health real juice not good for health