ग्वालियर पुलिस ने पेपर लीक मामले में भोपाल से दबोचा एक और आरोपी, इसी के ईमेल पर मुम्बई से आया था पेपर

author-image
Jitendra Shrivastava
एडिट
New Update
ग्वालियर पुलिस ने पेपर लीक मामले में भोपाल से दबोचा एक और आरोपी, इसी के ईमेल पर मुम्बई से आया था पेपर

देव श्रीमाली, GWALIOR. एनएचएम नर्सिंग भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने के बहुचर्चित मामले में पुलिस द्वारा लगातार आरोपियों की धरपकड़ की जा रही है । इनसे नित नए खुलासे हो रहे हैं। दो  रोज पूर्व दिल्ली से दो मास्टरमाइंड आरोपियों के पकड़े जाने के बाद क्राइम ब्रांच ने इस मामले से जुड़े एक और आरोपी को भोपाल से दबोच लिया। अब ग्वालियर लाकर पूछताछ की जा रही है। आरोपी से पूछताछ के बाद कई और खुलासे हो सकते हैं. अब तक इस मामले में 13 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पता चला कि भोपाल में पकड़े गए आरोपी के ईमेल पर ही लीक होने के लिए आया था।





पन्ना का रहने वाला है तरुणेश 





ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने NHM संविदा स्टाफ नर्सिंग परीक्षा के पेपर आउट कांड में शुक्रवार को 13वां आरोपी को गिरफ्तार किया है। गैंग के मास्टर माइंड राजीव नारायण मिश्रा, उसके ममेरे भाई पुष्कर पांडे की गिरफ्तारी के 24 घंटे बाद पुलिस ने भोपाल से पन्ना निवासी तरुणेश अरजरिया को गिरफ्तार किया है। यह तकनीकी एक्सपर्ट है। 





तरुणेश के पास ही आया था पर्चा





पुलिस ने बताया कि मुम्बई से  तरुणेश के ई-मेल पर ही मुम्बई की MEL कंपनी के सर्वर से हैक कर पेपर आया था। ई-मेल से पेपर निकालकर कॉपी कर बेचा गया था। इस पेपर को ई-मेल पर लाने के लिए एक नया मोबाइल व सिम कार्ड खरीदा गया था। नए नंबर से मेल बनाकर पेपर मंगाया गया। पेपर कॉपी करते ही मोबाइल और सिम कार्ड तोड़ दिए गए। गैंग का मास्टर माइंड राजीव नारायण मिश्रा है। उसके राइट हैंड और लेफ्ट हैंड पुष्कर पांडे व तरुणेश हैं। पुष्कर और राजीव नारायण को पुलिस ने तीन दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है।पुलिस की अब तक की पूछताछ में पकड़े गए मास्टरमाइंड ने बताया है कि उन्होंने पर्चा बनाने वाली कंपनी MEL के सर्वर से लिया था।





यह खबर भी पढ़ें











भागने के लिए खरीदी नई फॉर्च्यूनर गाड़ी





पूछताछ के दौरान आरोपी ने  बताया है कि पुलिस से बचने के लिए उन्होंने 5 दिन पहले ही नई फॉर्च्यूनर गाड़ी खरीदी है। पुलिस की टीमें लगातार मास्टरमाइंड को पकड़ने के लिए 5 राज्यों के 30 शहरों में लगातार दबिश दे रही थी। पर शुक्रवार को पुलिस को इस मामले में 13वां आरोपी भी लग गया है। पुष्कर और राजीव नारायण से पूछताछ के बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने भोपाल से तरुणेश नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया है। देर रात पुलिस उसे लेकर ग्वालियर पहुंची है। यह भी ऊंचा खिलाड़ी है। इसके ई-मेल पर ही आउट किया हुआ पेपर आया था।





तरुणेश अरजरिया उर्फ गुरू है कौन ?





भोपाल से पकड़ा गया तरुणेश अरजरिया इलेक्ट्रोनिक्स में इंजीनियरिंग किए हुए हैं। वह टेक्निकल एक्सपर्ट है और गैंग का थिंक टैंक भी है। जिस कारण उसे गैंग में उसे गुरु भी कहा जाता था। राजीव नारायण के कहने पर तरुणेश ने एक नया मोबाइल व सिम कार्ड खरीदा था। इस नए नंबर पर इंटरनेट की मदद से उसने एक नया फेक ई-मेल बनाया। MEL कंपनी के सर्वर से हैक कर पेपर इसी तरुणेश के नाम से बने ई-मेल पर ही आया था। पेपर वहां से कॉपी करने के बाद मोबाइल सिम तोड़कर वहीं फेक दिए। अब पुलिस शनिवार को तरुणेश को कोर्ट में पेश करेगी और उसकी रिमांड लेकर तीनों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जाएगी।अब तक इस मामले में 13 आरोपी पकड़े जा चुके हैं।



MP News आरोपी के ईमेल पर मुम्बई से आया था पेपर NHM paper leak case एमपी न्यूज ग्वालियर पुलिस ने भोपाल से दबोचा आरोपी एनएचएम पेपर लीक मामला paper came from Mumbai on accused's email Gwalior police arrested accused from Bhopal