MP के किसान ने ढाई लाख रुपए किलो वाले आम लगाए, इनकी सुरक्षा में लगे 11 कुत्ते, CCTV और गार्ड

जबलपुर के किसानों ने इस साल तइयो नो तमांगो आम को उगाने में सफलता पाई है। ये कोई ऐसा-वैसा आम नहीं है। इसे दुनिया के सबसे महंगे आम में गिना जाता है। इसकी कीमत ढाई लाख प्रति किलो तक जाती है। एक आम काफी बड़ा होता है।

author-image
Pratibha ranaa
एडिट
New Update
Miyazaki Mango1
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

JABALPUR. यूं तो ये कहानी एक आम की है, लेकिन ये बेहद खास है। कीमत सुनकर ही आपके होश फाख्ता हो जाएंगे। जी हां, यह आम अंतराष्ट्रीय बाजार में दो लाख से ढाई लाख रुपए प्रति किलो तक बिक चुका है। भारतीय बाजार में इसकी कीमत 5 हजार रुपए किलो से लेकर 20 हजार रुपए किलो तक है। 

अब इतना महंगा आम है तो उसकी सुरक्षा भी तो तगड़ी ही होगी न। 11 कुत्ते बगीचे की चौकसी में लगे रहते हैं। सैकड़ों सीसीटीवी कैमरों के साथ यहां 2 गार्ड भी तैनात रहते हैं। 

दरअसल, फलों के राजा आम ( Miyazaki Mango ) की देश-विदेश में 2100 से ज्यादा किस्में हैं। जबलपुर के किसान संकल्प परिहार ने इन्हीं में से कुछ खास किस्मों को अपने 12 एकड़ में फैले बगीचे में लगाया है।

जापानी प्रजाति का आम 

परंपरागत खेती छोड़कर बागवानी में हाथ आजमाने वाले संकल्प परिहार ने अपने बगीचे में आम की 24 किस्मों के पेड़ लगा रखे हैं। इनमें से ही एक है टाइयो नो टमैगो आम। संकल्प का दावा है कि यह दुनिया का सबसे महंगा आम है। यह आम जापानी प्रजाति का है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में यह 2 लाख रुपए प्रति किलो से लेकर ढाई लाख रुपए प्रति किलो तक बिका है। संकल्प के बगीचे में इस प्रजाति के आधा दर्जन से ज्यादा पेड़ हैं। 

ये खबर भी पढ़िए...दलित राजनीति का सितारा आकाश आनंद क्यों हुआ एकदम से अस्त, जानें अंदर की कहानी

सबसे अधिक आम की 24 किस्में

संकल्प के बगीचे में आम की सबसे अधिक 24 किस्में हैं। यदि आम की बात करें तो आम्रपाली, मल्लिका, हापुस, केसर, बादाम, दशहरी, लंगड़ा, चौसा, सफेदा, बाम्बेग्रीन, 'टाइयो नो टमैगो' मियाजाकी, ब्लैक मैंगो, जम्बो ग्रीन, जैपनीज, ड्रैगन, यूएसए सक्सेशन, गुलाब केशर, हुस्नेआरा, हल्दीघाटी, गुलाब खास, गौरजीत, कोकिला, आर्का, अनमोल, पुनीत आदि आम की किस्मों के पेड़ हैं।

अप्रैल की तपती धूप में लगाया पहला पौधा 

संकल्प भी आम किसानों की तरह पहले गेहूं, चना जैसी परम्परागत फसलों की खेती करते थे। वर्ष 2013 से उन्होंने बागवानी पर ध्यान दिया। अमूमन बागवानी के पौधे बारिश में लगाए जाते हैं, लेकिन संकल्प ने अप्रैल की तपती धूप में यहां आम का पहला पौधा लगाया। नर्मदा जल से सिंचाई की और अब करीब 10 बरस बाद नतीजा सबके सामने है।  

ये खबर भी पढ़िए...MP Weather : गर्मी से बेहाल मध्य प्रदेश, कई जिलों का टेम्प्रेचर 45 डिग्री, बारिश का येलो अलर्ट जारी

एमपी समेत दूसरे राज्यों में भेजते हैं आम

संकल्प के आम की डिमांड मध्यप्रदेश के साथ ही दिल्ली, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात और विदेश तक है। वे हर साल अपने आम बिचौलिए के बजाय सीधे ग्राहकों को बेचते हैं। इसका फायदा ये है कि उनके आम के दीवाने सीधे उनसे जुड़ गए हैं। 3 किलो से लेकर 10 किलो के पैक में वे आम ग्राहकों तक भिजवाते हैं। 

Miyazaki mango मियाजाकी आम