Advertisment

उपमुख्यमंत्रियों के लिए सुप्रीम कोर्ट से आई राहत, नहीं जाएगी कुर्सी

याचिका में दावा किया गया था कि संविधान में डिप्टी सीएम जैसा कोई पद नहीं है। यह संविधान के अनुच्छेद 14 (समानता का अधिकार) का उल्लंघन है। कोर्ट ने इस तर्क को खारिज कर दिया है।

author-image
Marut raj
New Update
सुप्रीम कोर्ट
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

भोपाल. एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ सहित अन्य सभी राज्यों के उपमुख्यमंत्रियों के लिए राहत की खबर है।  यह खबर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court ) से आई है। कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा है कि राज्यों में डिप्टी सीएम यानी उपमुख्यमंत्रियों (Deputy Chief Ministers) की नियुक्ति संविधान के खिलाफ नहीं है। यह सिर्फ एक ओहदा है, जो वरिष्ठ नेताओं को दिया जाता है। इस पद पर नियुक्त व्यक्ति को कोई अतिरिक्त फायदा भी नहीं मिलता।

Advertisment

कोर्ट ने यह कहा

धर्म और जाति को राजनीति के बीच में नहीं लाना चाहिए: शंकराचार्य

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस जेबी पारदीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा की बेंच सोमवार को एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी। बेंच ने कहा कि सरकार में पार्टियों के गठबंधन या अन्य वरिष्ठ नेताओं को अधिक महत्व देने के लिए यह प्रक्रिया अपनाई जाती है। बेंच ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि डिप्टी सीएम की नियुक्ति को किसी भी तरह से असंवैधानिक नहीं कहा जा सकता। डिप्टी सीएम राज्य सरकार में पहला और सबसे अहम मंत्री होता है।

Advertisment

बीजेपी 50 स्थानों पर युवा, महिला, एससी- एसटी और प्रबुद्ध लोगों का करेगी सम्मेलन

यह दिया था तर्क

लोकसभा चुनाव से पहले MP में आईटी की एंट्री, कांग्रेसियों में हड़कंप

Advertisment

सुप्रीम कोर्ट में यह याचिका पब्लिक पॉलिटिकल पार्टी ने लगाई थी। याचिका में दावा किया गया था कि संविधान में डिप्टी सीएम जैसा कोई पद नहीं है। यह संविधान के अनुच्छेद 14 (समानता का अधिकार) का उल्लंघन है। ऐसी नियुक्ति एक गलत उदाहरण पेश करती है। याचिका में इस बात का भी दावा किया गया था कि डिप्टी सीएम को मुख्यमंत्री की मदद के लिए नियुक्त किया जाता है। वह मुख्यमंत्री के बराबर होता है और उसे समान वेतन और सुविधाएं मिलती हैं।

 26 डिप्टी सीएम देश के 14 राज्यों में

देश के 14 राज्यों में 26 उपमुख्यमंत्री हैं। वहीं आंध्र प्रदेश में 5 डिप्टी CM हैं। याचिकाकर्ता ने कहा था कि डिप्टी CM की नियुक्ति से जनता का कोई लेना-देना नहीं है और न ही इससे राज्य की जनता को कोई अतिरिक्त फायदा होता है।

कमलनाथ पर बीजेपी में घमासान, अब डिप्टी सीएम ने क्या बोल दिया, जानिए

Supreme Court सुप्रीम कोर्ट Deputy Chief Ministers
Advertisment
Advertisment