chhindwara में lady officer को गुंडागर्दी पड़ी भारी

कांग्रेस के दिग्गज नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृहजिले छिन्दवाड़ा के तामिया में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के साथ मारपीट करने का मामला सामने आया है। मामले में महिला अधिकारी के खिलाफ FIR दर्ज की गई है ।

author-image
Sandeep Kumar
New Update
PIC 1

सीमा पटेल

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

BHOPAL.मध्य प्रदेश में अफसरों ( Officer ) की तानाशाही कम होने का नाम नहीं ले रही है। पूर्व सीएम कमलनाथ के गृहजिले छिंदवाड़ा (Chhindwara) के तामिया में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के साथ मारपीट करने का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मच गया। जानकारी मुताबिक, 15 फरवरी को  महिला बाल विकास अधिकारी द्वारा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से मारपीट की गई थी। कार्यकर्ता के साथ अभ्रदता भी की गई थी। इस मामले में पुलिस ने जांच के बाद परियोजना अधिकारी के विरुद्ध मामला दर्ज किया है। 

ये खबर भी पढ़िए...सोनम सिद्दीकी की RAM में आस्था, अपनाया हिंदू धर्म,अब परिजन दे रहे धमकी

ये खबर भी पढ़िए...MPPSC की प्री 2023 पर हाईकोर्ट का औपचारिक आर्डर जारी, प्री रिजल्ट पर कमेंट नहीं

क्या कहते हैं TI विजय सिंह ठाकुर ?

तामिया टीआई विजय सिंह ठाकुर के जानकारी अनुसार राजथरी की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सीमा ऊईके ने थाने में लिखित शिकायत आवेदन में महिला बाल विकास अधिकारी सीमा पटेल द्वारा मारपीट गाली गलौज आदि के संबंध में शिकायत की थी। जिसके आधार पर पुलिस द्वारा महिला बाल विकास अधिकारी सीमा पटेल के खिलाफ कार्रवाई की गई है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से मारपीट का मामले में धारा 342, 294, 323, एसटीएससी एक्ट के तहत मामला पंजीचद्ध कर विवेचना की जा रही है।

ये खबर भी पढ़िए..कांग्रेस के केके मिश्रा क्यों छोड़ रहे पद, जीतू पटवारी कैसे निपटेंगे

ये खबर भी पढ़िए...Chhattisgarh में पीएम मोदी ने किया रेल प्रोजेक्ट का शिलान्यास

Lady officer ने भी लगाए आरोप

वहीं दूसरी ओर महिला बाल विकास अधिकारी सीमा पटेल ने बताया कि पुलिस द्वारा राजनैतिक पार्टियों के दबाव में आकर एक पक्षीय कार्यवाही मुझपर की गई है । राजथरी की आगनवाड़ी कार्यकर्ता सीमा उईके ने मुझे झूठा फसाया है। मेरे पास सारे सबूत हैं, जो मैं कोर्ट में पेश करूंगी महिला बाल विकास अधिकारी सीमा पटेल ने कहा कि मैंने कलेक्टर से समय मांगा था कि मुझे अपना पक्ष रखने के लिए समय दीजिए, मेरी तबियत बहुत खराब थी. तामिया पुलिस और छिंदवाड़ा एसपी को इतनी जल्दी पड़ी थी कि बिना छानबीन किए, बिना मेरा पक्ष सुने एकतरफा एफआईआर कर दी।

Chhindwara सीमा ऊईके एसटीएससी एक्ट