महादेव सट्टा एप केस के आरोपी तलरेजा को ED ने भोपाल से कैसे पकड़ा,जानिए

भोपाल में रहने वाला गिरीश तलरेजा Mahadev Satta App के प्रमुख प्रमोटर्स में से एक है। भोपाल में ही उसका एक और साथी रतनलाल जैन है, जिसकी ईडी तलाश कर रही है।

author-image
Marut raj
New Update
the sootr
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

भोपाल. छत्तीसगढ़ के बहुचर्चित महादेव सट्टा एप के एक आरोपी को प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने भोपाल ( BHOPAL ) से गिरफ्तार किया है। यहां उसके ठिकानों पर कुछ माह पहले भी छापा मारा गया था। ईडी की गिरफ्त में आया गिरीश तलरेजा महावेद सट्टा एप के मुख्य प्रमोटर्स में शामिल है। भोपाल के रतनलाल जैन की भी तलाश की जा रही है, जो फिलहाल फरार है।

ऐसे पहुंची तलरेजा तक ईडी

ये खबरें भी पढ़ें...

farmers से ठगी करने वाला मास्टरमाइंड गिरफ्तार,SBI मैनेजर और दो फरार

CGPSC Scam- परीक्षा में भारी गड़बड़ी, सोनवानी के खिलाफ FIR दर्ज

chhattisgarh के कोरबा में 6 माह में उखड़ी 114 करोड़ की सड़क

CG में शराब घोटाला: आबकारी भवन और कोरबा में छापामार कार्रवाई

ईडी ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में महादेव सट्टा एप ( mahadev satta app ) को लेकर कार्रवाई शुरू की थी। इसमें शुभम सोनी को गिरफ्तार किया गया तो उसने खुलासा किया कि भोपाल में रहने वाले गिरीश तलरेजा और रतनलाल जैन के साथ करोड़ों रुपए का लेनदेन हुआ था। जांच में सामने आया कि गिरीश तलरेजा भी महादेव सट्टा एप का प्रमोटर है। करीब दो सप्ताह पहले ईडी ने भिलाई से 25 साल के नीतीश दीवान को गिरफ्तार किया था। वैशाली नगर का रहने वाला नीतीश महादेव सट्टा ऐप प्रमोटर के साथ ऐप के पैनल ऑपरेशन का काम करता था और 2 साल तक दुबई में रहा है। बताया जा रहा है कि उसकी निशानदेही पर ही ईडी टीम भोपाल में तलरेजा के ठिकाने तक पहुंची है। भोपाल ईडी की टीम तलरेजा को रायपुर ईडी को सौपेंगी। 

कई जगह मारे थे छापे

ईडी ने 28 फरवरी को रायपुर सहित कोलकाता, गुरुग्राम, दिल्ली, इंदौर और मुंबई में एक साथ छापे मारे थे। सूत्रों के मुताबिक ईडी ने इस मामले में एक हवाला ऑपरेटर हरिशंकर टिबरेवाल की पहचान की है। वह कोलकाता का रहने वाला है और फिलहाल दुबई में रहता है।

भोपाल Bhopal महादेव सट्टा एप Mahadev Satta App गिरीश तलरेजा