Advertisment

अमरजीत भगत की बढ़ने वाली है मुश्किलें, ढाई करोड़ कैश और जेवर जब्त

आयकर प्रिंसपल कमिश्नर व प्रवक्ता सुरभि अहुलवालिया का कहना है कि आयकर विभाग ने 31 जनवरी 2024 को अमरजीत भगत और उसके करीबी सहयोगियों के ठिकानों पर जांच अभियान शुरू की थी।

author-image
Pooja Kumari
New Update
Amarjeet Bhagat
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

BHOPAL. छत्तीसगढ़ के पूर्व खाद्य मंत्री अमरजीत भगत की मुश्किलें आने वाले दिनों में और बढ़ने वाली है। जानकारी के मुताबिक अमरजीत भगत और उनके करीबियों के ठिकानों पर आईटी की जांच में करोड़ों रुपए की अघोषित संपत्ति मिली है। आयकर विभाग नई दिल्ली के प्रिंसपल कमिश्नर और प्रवक्ता सुरभि अहुलवालिया ने एक प्रेस रिलीज कर जानकारी दी है। आयकर विभाग ने अमरजीत भगत सहित उनके करीबियों के 25 ठिकानों पर एकसाथ छापेमारी की थी। इस दौरान आयकर विभाग की टीम ने ढाई करोड़ की नगदी व जेवर सहित अघोषित संपत्ति के दस्तावेज जब्त किए हैं।

Advertisment

IT की कार्रवाई पर भड़के पूर्व मंत्री अमरजीत भगत, दिया ये सनसनीखेज बयान

तलाशी के दौरान मिले आपत्तिजनक दस्तावेज 



आयकर प्रिंसपल कमिश्नर व प्रवक्ता सुरभि अहुलवालिया का कहना है कि आयकर विभाग ने 31 जनवरी 2024 को अमरजीत भगत और उसके करीबी सहयोगियों के ठिकानों पर जांच अभियान शुरू की थी। उन्होंने बताया कि अमरजीत भगत के करीबी सहयोगियों में से एक रियल एस्टेट के कारोबार में लगा हुआ है। बता दें कि तलाशी के दौरान छत्तीसगढ़ के रायपुर, सरगुजा, और रायगढ़ जिलों में फैले 25 से अधिक परिसरों को कवर किया गया। इस दौरान कई आपत्तिजनक दस्तावेज, अघोषित बैलेंससीट और डिजिटल सबूत मिले हैं, जिन्हें आयकर विभाग ने जब्त कर लिया। 

Advertisment

रणजीत हनुमान मंदिर पर नोटबंदी के बाद लगी करोड़ों की टैक्स पेनल्टी रद्द

13 करोड़ रुपए की अवैध कमाई का विवरण शामिल



आयकर विभाग द्वारा बताया गया है कि जब्त साक्ष्य इन व्यक्तियों द्वारा भ्रष्टाचार और अन्य संदिग्ध प्रथाओं के तौर-तरीकों को उजागर करते हैं। प्रारंभिक विश्लेषण से पता चलता है कि इन व्यक्तियों ने सरकार से संबंधित कार्यों में विभिन्न व्यक्तियों को अनुचित लाभ देने के बदले में अवैध धन प्राप्त किया है। तलाशी के दौरान बरामद किए गए आपत्तिजनक दस्तावेजों में कथित पीईपी (अमरजीत भगत) द्वारा अपने करीबी सहयोगियों के माध्यम से नकद में प्राप्त लगभग 13 करोड़ रुपए की अवैध कमाई का विवरण शामिल है। इसके अलावा, जब्त किए गए सबूतों से पता चलता है कि गलत तरीके से कमाया गया ये पैसा पीईपी के सहयोगियों के माध्यम से रियल एस्टेट में निवेश किया गया है।

Advertisment

2161 करोड़ के शराब घोटाले में ED ने फिर करवाई FIR, जानिए नेता और अफसर से लेकर हर लेवल पर कैसे चलता रहा लूट का खेल

आयकर विभाग की जांच जारी 



बता दें कि आयकर विभाग को अचल संपत्ति की खरीद में ऑन-मनी भुगतान का प्रमाण मिला है। तीन करोड़ रुपए से अधिक के बेहिसाब नकद व्यय के साक्ष्य मिले हैं। रियल एस्टेट कारोबार में अमरजीत भगत के सहयोगियों द्वारा कमाए गए 8 करोड़ रुपए भी पाए गए हैं। ऐसे साक्ष्यों की सत्यता को पीईपी (अमरजीत भगत) के करीबी सहयोगियों और उनके कर्मचारियों के बयानों से भी बल मिला है। आयकर विभाग के मुताबिक पीईपी (अमरजीत भगत) के करीबी सहयोगियों द्वारा अवैध रूप से जमीन हड़पने से संबंधित आपत्तिजनक दस्तावेज भी पाए गए हैं। पीईपी (अमरजीत भगत) की पत्नी जो ह्यूम पाइप्स की विनिर्माण कंपनी चला रही हैं, के स्वामित्व वाले कारखाने के परिसर से बैंक क्रेडिट के मुकाबले टर्नओवर में गड़बड़ी मिली है। तलाशी अभियान के दौरान घोषित संपत्ति से अधिक की बेहिसाब नकदी और आभूषण जब्त किए गए हैं। अभी भी आयकर विभाग की जांच जारी है।

Advertisment

सीएम भजनलाल शर्मा ने बदला गहलोत का फैसला, अब राजस्थान में एंट्री कर सकेगी CBI

विभाग नने मांगा 13 लोगों की संपत्ति का ब्यौरा



आयकर विभाग ने अंबिकापुर कलेक्टर को पत्र लिखकर 13 लोगों की संपत्ति का ब्यौरा मांगा है। इनके संबंध में विभाग ने पिछले पांच साल में जमीन की खरीदी और बिक्री की जानकारी मांगी है। साथ ही रियल इस्टेट कारोबार में निवेश या अन्य प्रॉपर्टी के साथ-साथ जमीन आबंटन के अलावा एफआरए व अन्य बेनीफिट का डिटेल उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। 

अमरजीत भगत
Advertisment
Advertisment