Chhattisgarh : राजा देवव्रत सिंह की दो रानियां, एक बीजेपी तो दूसरी कर रहीं कांग्रेस का प्रचार, जानें क्या है पूरा मामला

खैरागढ़ के दिवंगत राजा देवव्रत सिंह की पहली पत्नी का नाम पद्मा सिंह और दूसरी का नाम विभा सिंह है। इन दोनों के बीच पहले पति की संपत्ति को लेकर विवाद हुआ था। अब राजनीति में भी दोनों के बीच विवाद शुरू हो गया है...

author-image
Sandeep Kumar
New Update
pic
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

RAIPUR. छत्तीसगढ़ राज परिवार का विवाद एक बार फिर लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha Elections ) में सामने आ रहा है। प्रदेश के खैरागढ़ में दिवंगत राजा देवव्रत सिंह ( Devvrat Singh ) की दो पत्नियों में से अब सियासत में भी विवाद शुरू हो गया है। बीजेपी तो दूसरी कांग्रेस के लिए प्रचार कर रही है। ऐसे में राज परिवार का विवाद फिर से सुर्खियों में आ गया है। यहां पूर्व विधायक राजा देवव्रत सिंह के निधन के बाद उनकी दोनों पत्नियों के बीच संपत्ति को लेकर जमकर विवाद चला। ये विवाद एक बार फिर से लोकसभा चुनाव में सामने आ रहा है। आइए जानते हैं अब क्यों हो रहा विवाद 

ये खबर भी पढ़िए...Liquor scam: ED दफ्तर के बाहर देर रात तक रिटायर्ड IAS अनिल टूटेजा के शुभ चिंतक पहरा दे रहे

एक कांग्रेस तो दूसरी बीजेपी के प्रचार में जुटीं

आपको बतादें कि देवव्रत सिंह की पहली पत्नी जहां इन दिनों कांग्रेस का प्रचार कर रही है। वहीं उनकी दूसरी पत्नी पद्मा सिंह को बहुरूपिया औरत बताते हुए कांग्रेस को नहीं बल्कि भाजपा को वोट देने की अपील कर रही है। 

ये खबर भी पढ़िए...Everest Masala : एवरेस्ट मसाला में मिला कीटनाशक , आप उपयोग करते हैं तो हो जाएं सावधान

बेटी पिता के साथ, बेटा मां के साथ

जब देवव्रत सिंह का तलाक हुआ था, तब बेटी को पिता देवव्रत सिंह और बेटे को मां के साथ रहने के आदेश कोर्ट से मिले थे। देवव्रत के निधन के बाद संपत्ति को लेकर विवाद सामने आ गया। इस मामले में विभा सिंह की अपील के बाद प्रशासन ने उदयपुर पैलेस और खैरागढ़ स्थित कमल विलास पैलेस को सील कर दिया था। ये केस अभी भी कोर्ट में चल रहा है।

ये खबर भी पढ़िए...छत्तीसगढ़ की सबसे हॉट सीट पर योगी और प्रियंका की सीधी टक्कर, दस का दम दिखाने आएंगे मोदी,शाह,नड्डा और खड़गे

विभा सिंह ने पद्मा सिंह पर लगाए ये आरोप

इस मामले में विभा सिंह ने पद्मा सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस पद्मा सिंह ने राजा देवव्रत सिंह को छोड़ा, बाद में बच्चों और खैरागढ़ को छोड़कर किसी और के साथ शादी कर घर बसा लिया। उसी पद्मा को भूपेश बघेल बार बार क्षेत्र में घूमाकर देवव्रत सिंह की पत्नी बता रहे हैं। पद्मा सिंह ने कहा कि ये वही भूपेश बघेल हैं। जिन्होंने राजा देवव्रत सिंह को दुखी कर कांग्रेस पार्टी से बाहर ​कर दिया था। उन्हें पार्टी में खून के आंसू रूलाए गए थे। देवव्रत सिंह ने अपनी आखरी सांसें भी दूसरी पार्टी में ली थी। जब वे आखरी समय में कांग्रेस में नहीं थे, तो क्यों उनके नाम को भुनाया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़िए...बीजापुर में ग्रेनेड लॉन्चर सेल फटने से घायल जवान शहीद, निर्वाचन आयोग देगा 30 लाख मुआवजा

यूपी के बाहुबली राजा भैया के बहनोई थे देवव्रत सिंह

महाराज देवव्रत सिंह की पहली पत्नी का नाम पद्मा सिंह और दूसरी का नाम विभा सिंह है। इन दोनों के बीच पहले पति की संपत्ति को लेकर विवाद हुआ था। अब राजनीति में भी दोनों के बीच विवाद शुरू हो गया है। आपको बता दें कि राजनांदगांव से सांसद रहे देवव्रत सिंह का पहली पत्नी से 2016 में तलाक हो गया था। दोनों आपसी सहमति से अलग हो गए थे। इसके बाद उन्होंने विभा सिंह से शादी कर ली थी। इसके बाद देवव्रत सिंह को 2021 हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई। यूपी के प्रतापगढ़ के राजा भैया भदरी रियासत के राजकुमार हैं। देवव्रत सिंह की दूसरी पत्नी विभा सिंह, राजा भैया की बहन हैं। देवव्रत सिंह की दो शादियां हुई हैं। विभा सिंह दूसरी पत्नी हैं। पहली पत्नी का नाम राजकुमारी पद्मा सिंह है। 2016 में पद्मा और देवव्रत सिंह का तलाक हो गया।

 

Lok Sabha elections बीजेपी कांग्रेस राजा भैया विभा सिंह पद्मा सिंह Devvrat Singh लोकसभा चुनाव