JABALPUR : चंद रुपयों के लिए बेरहम लुटेरों ने की थी गर्भवती की हत्या, मंगलसूत्र बचाने अंतिम सांस तक लड़ी थी महिला

जबलपुर में गर्भवती महिला ने मंगलसूत्र लूटने का विरोध किया तो आरोपियों ने डेढ वर्षीय बेटे के सामने गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या व लूट का प्रकरण दर्जकर करके मामले का खुलासा किया है...

author-image
Sandeep Kumar
New Update
PIC
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

JABALPUR. जबलपुर में करीब दो दिन पहले हुई गर्भवती ( pregnant ) की हत्या मामले का खुलासा हुआ है। पुलिस के मुताबिक लूटरे महिला से मंगलसूत्र छीन रहे थे, महिला ने इसका विरोध किया, इस दौरान लुटेरों ने डेढ वर्षीय बेटे के सामने गला दबाकर उसकी गर्भवती मां की हत्या कर दी। 

ये खबर भी पढ़िए...बिल्डर मनोहर देव और शैलेंद्र अग्रवाल विवाद में निगम के जोन 19 के बिल्डिंग अफसर की मनमानी पर नाराज हाईकोर्ट

क्या कहते हैं डीएसपी बीएस गोठरिया 

डीएसपी बीएस गोठरिया के अनुसार रश्मि चौधरी ( 28 ) का मायका माढोताल थानान्तर्गत मदर टेरेसा नगर में है। उसकी सुसराल कजरवारा इलाके में है। महिला का पति शुभम चौधरी ( 30 ) प्राइवेट जॉब करता है। महिला गर्भवती थी और शनिवार को पाठ बाबा के दर्शन कर पति व डेढ़ वर्षीय बेटे के साथ बोलेरो गाड़ी में सवार होकर मायके जा रही थी। रात लगभग दस बजे भोला नगर मरघटाई रोड में मोटरसाइकिल सवार चार युवक आए और हाथ देकर उनकी बोलेरो गाड़ी को रोका। युवकों के इशारा देने पर चालक शुभम ने गाड़ी को सड़क किनारे खड़ा कर दिया। इसके बाद एक युवक ने सिर पर पत्थर मारकर चालक पति को घायल कर दिया। इसके बाद उन्होंने बोलेरो गाड़ी के फ्रंट कांच पर पत्थर से हमला कर दिया। पत्थर के हमले से कांच पूरी तरह से नहीं टूटा था। आरोपियों ने लूटपाट प्रारंभ करते हुए दो मोबाइल, पर्स में रखे दस हजार रुपए महिला के झुमके लूट लिए। मंगलसूत्र लूटने का महिला ने विरोध किया तो आरोपियों ने उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी युवक फरार हो गए।

ये खबर भी पढ़िए...लोकसभा चुनाव 2024 : चंबल की इन सीटों पर क्या जातियां ही जीतेंगी

रेशमा 15 से 20 दिन में बड़ी बहन से मिलने जाया करती थीं

शनिवार दोपहर रेशमा ने दीदी के यहां जाने का प्लान बनाया था। शाम 7.30 बजे पति शुभम ने उन्हें मायके ले जाने के लिए बोलेरो स्टार्ट की। गोपाल ने बेटे से पूछा कि कार क्यों ले जा रहे हो? इस पर शुभम ने कहा कि टू-व्हीलर में परेशानी होती है। गोपाल को यह पता था कि बहू गर्भवती है। घर से बाहर निकलने के बाद उन्होंने बहू को 3500 रुपए देते हुए पूछा था कि कब तक वापस आओगी? रेशमा का जवाब था जल्द आ जाएंगे। रेशमा 15 से 20 दिन में बड़ी दीदी से मिलने जाया करती थीं।

ये खबर भी पढ़िए...MP: सिंधिया और दिग्विजय के साथ 6 प्रत्याशी खुद को ही नहीं दे पाएंगे वोट, जानिए क्या है वजह...

मेन रोड पर भीड़ थी, शॉर्टकट रास्ता अपनाया

शुभम ने बताया रेशमा अपनी बहन के घर जाना चाह रही थी। चार दिन से प्लान बन रहा था। हम शनिवार शाम को निकले। मैंने रेशमा से कहा कि चलो पहले पाठ बाबा मंदिर हो आते हैं। रात 8.30 बजे हमने मंदिर पहुंचकर दर्शन किए, फिर मदर टेरेसा नगर के लिए रवाना हुए। दमोह नाका होते हुए कृषि उपज मंडी के पास पहुंचे तो वहां जाम लगा था। शॉर्टकट रास्ता लेते हुए गाड़ी भोला नगर की तरफ ले ली। यहां ब्रिज क्रॉस ही कर रहे थे, तभी बदमाशों ने गाड़ी को रुकवाया। हमारे साथ मारपीट की। रेशमा को मार डाला।

ये खबर भी पढ़िए...MP : चुनाव के बीच BJP के विरोध में उतरी करणी सेना, राजपूत समाज को दिलाई ये बड़ी शपथ

pregnant गर्भवती गर्भवती मां की हत्या महिला से मंगलसूत्र