Advertisment

MP में कॉलेजों के फर्जीवाड़े पर लगेगा लगाम, अब मेडिकल कॉलेज अपनी मर्जी से नहीं भर पाएंगे सीटें

मध्यप्रदेश के नर्सिंग व पैरामेडिकल कॉलेज अब अपनी मर्जी से सीटें नहीं भर पाएंगे। कॉलेजों के फर्जीवाड़े पर लगाम लगाने के लिए अब प्रवेश परीक्षा से ही विद्यार्थियों को प्रवेश दिए जाएंगे। नए सत्र प्रवेश परीक्षा के माध्यम से एडमिशन होंगे।

author-image
Pratibha Rana
एडिट
New Update
bb

MP में कॉलेजों के फर्जीवाड़ा

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

BHOPAL. मध्य प्रदेश ( MP medical fraud )में नर्सिंग कॉलेज फर्जीवाड़ा ( MP Nursing College Scam )इन दिनों सुर्खियों में है। कई कॉलेज ऐसे है, जो छात्रों के भविष्य से हुए खुल्ले खिलवाड़ कर रहे है। नर्सिंग कॉलेज फर्जीवाड़ा छात्रों के भविष्य के लिए चिंता का विषय बन गया है। लेकिन अब इस फर्जीवाड़े को रोकने के लिए मेडिकल विवि न एक नई पहल( initiative of medical university )शुरू की है। अब कॉलजों में परीक्षा से ही विद्यार्थियों को प्रवेश दिए जाएंगे। यानी की नए सत्र से कॉलेज अपनी मर्जी से सीटें नहीं भर पाएंगे( MP News )।

Advertisment

ये खबर भी पढ़िए...लोकसभा चुनाव से पहले MP में आईटी की एंट्री, कांग्रेसियों में हड़कंप

ये खबर भी पढ़िए...मध्यप्रदेश सरकार का लेखानुदान आज होगा पेश, 4 महीने का रखा जाएगा ब्योरा

फर्जीवाड़ा रोकने को मेडिकल विवि की पहल

Advertisment

जानकारी के अनुसार विश्वविद्यालय ने सत्र 2024-25 से प्रवेश परीक्षा के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया है। प्रशासन ने कहा कि अगर नर्सिंग काउंसिल और पैरामेडिकल प्रवेश परीक्षा कराने के लिए तैयार नहीं होता तो विवि खुद प्रवेश परीक्षा आयोजित करेगा। इस संबंध में कार्यपरिषद में फैसला लिया गया है। प्रवेश परीक्षा में पास अभ्यर्थी काउंसिलिंग में हिस्सा ले सकेंगे। बता दें मध्यप्रदेश में नर्सिंग और पैरामेडिकल के लगभग 480 से ज्यादा कॉलेज हैं। नर्सिंग कॉलेजों में बीएससी नर्सिंग, पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग जबकि पैरामेडिकल कॉलेजों में डीएमएलटी, बीएमएलटी सहित अन्य कोर्स में प्रवेश मिलेगा। अभी तक ऐसे कोर्स में कॉलेज अपनी मर्जी से प्रवेश देते थे। लेकिन अब कॉलेज खुद से ये सीटें नहीं भर सकेंगे। 

ये खबर भी पढ़िए...सिंधिया बोले- जो पार्टी देश को दिवालिया करना चाहती थी, वह खुद ही हो गई

ये खबर भी पढ़िए...मंत्री हवाई पट्टी पर बस के लिए खड़े रहे, CS और अफसर कार में बैठ निकल गए

Advertisment

एंट्रेंस टेस्ट से ही होगा एडमिशन 

फर्जीवाड़ा रोकने को मेडिकल विवि की पहल स्टूडेंट्स का भविष्य के लिए सही साबित होगी है। प्रदेश में किसी भी नर्सिंग और पैरामेडिकल कॉलेज अब अपनी मर्जी से सीटें नहीं भर पाएंगे। अब प्रवेश परीक्षा से ही विद्यार्थियों को कॉलेज में एडमिशन दिया जाएगा। नए सत्र प्रवेश परीक्षा के माध्यम से एडमिशन होंगे। वहीं प्रदेश में 1 अगस्त से नया सत्र शुरू होगा। इसका एंट्रेंस टेस्ट जून-जुलाई में होगा। 

 

MP News MP medical fraud MP Nursing College Scam initiative of medical university फर्जीवाड़ा रोकने को मेडिकल विवि की पहल
Advertisment
Advertisment