mp nursing scam : दलालों को खोजेगी पुलिस सीएम मोहन यादव बोले- कोई भी बचना नहीं चाहिए

नर्सिंग घोटाले की कहानी व्यापमं से जुड़ने के बाद अब कांग्रेस भी हमलावर है। इसी को लेकर सीएम CM Mohan Yadav ने खुद मोर्चा संभाला है। उन्होंने आला अफसरों से दो टूक शब्दों में कहा कि किसी भी भ्रष्टाचारी को बख्शा नहीं जाएगा।

author-image
Marut raj
New Update
mp nursing scam CM Mohan Yadav द सूत्र

नर्सिंग घोटाले की परतें खोलेगी पुलिस 

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

भोपाल. एमपी नर्सिंग घोटाला ( mp nursing scam ) के अपराधियों की धरपकड़ के लिए अब अभियान चलाया जाएगा। पुलिस एक-एक कर दलालों पर कार्रवाई करेगी। लोकसभा चुनाव के बीच नर्सिंग घोटाला सामने आने के बाद प्रदेश सरकार की छवि खराब हुई है।

लिहाजा, अब सीएम मोहन यादव ने डीजीपी सुधीर सक्सेना ( DGP Sudhir Saxena ) के साथ बैठक कर आला अफसरों को अपराधियों के साथ सख्ती से पेश आने के निर्देश दिए हैं। कानून व्यवस्था को लेकर हुई बैठक में सीएम डॉ.यादव ने कहा कि नर्सिंग घोटालों के दलालों की लिस्ट बनाई जाए। इसके बाद सिलसिलेवार ढंग से सभी पर कार्रवाई हो। कोई भी बचना नहीं चाहिए। 

व्यापमं से जुड़े नर्सिंग घोटाले के तार 

दरअसल, मध्यप्रदेश में हाल ही में सामने आए नर्सिंग घोटाले के तार अब व्यापमं कांड से भी जुड़ रहे हैं। नर्सिंग घोटाले में पकड़े गए सीबीआई इंस्पेक्टर राहुल राज का नाम 2017 में एमपी व्यापमं घोटाला के जांच अधिकारियों में शामिल था। चूंकि अब राहुल खुद नर्सिंग घोटाले में आरोपी है, ऐसे में उसकी भूमिका पूरी तरह संदिग्ध है। 

ये खबरें भी पढ़ें....

एमपी में सड़क पर नमाज पढ़े तो नपे, सीएम ने दिए ये आदेश

राहुल को गृह मंत्री से मिला था अवॉर्ड 

व्यापमं मामले में राज्य पुलिस ने पूरे मामले में साक्ष्य जुटाए थे। बाद में केस सीबीआइ के पाले में गया। वर्ष 2017 में इंस्पेक्टर राहुल मुख्य किरदार बन गया। कई आरोपियों को क्लीनचिट मिल गई। इसके बाद सीबीआइ ने क्लोजर रिपोर्ट फाइल कर दी। ऐसे में सवाल खड़े हो रहे हैं कि जिस सीबीआई अधिकारी राहुल राज ने नर्सिंग कॉलेजों की जांच में धांधली की, उसने व्यापमं में कैसे जांच की होगी? कहीं रुपए लेकर तो आरोपियों को क्लीन चिट नहीं दी गई। सूत्रों की मानें तो अब फिर से व्यापमं की फाइल खुलेगी। बताया जा रहा है कि इंस्पेक्टर राहुल राज के बड़े लोगों से कनेक्शन हैं। उसका अफसरों पर गहरा प्रभाव था। बता दें उसे गृहमंत्री अवॉर्ड भी मिला था।

ये खबरें भी पढ़ें....

सीएम मोहन यादव ने लगाई क्लास, डीजीपी की हालत हुई खराब

सीएम ने स्वयं संभाला मोर्चा 

नर्सिंग घोटाले की कहानी व्यापमं से जुड़ने के बाद अब कांग्रेस भी हमलावर है। इसी को लेकर सीएम CM Mohan Yadav ने खुद मोर्चा संभाला है। बैठक में उन्होंने दो टूक शब्दों में कहा कि किसी भी भ्रष्टाचारी को बख्शा नहीं जाएगा। इस पूरे मामले में जितने भी दलालों की भूमिका है, उन पर राज्य पुलिस भी सख्ती से कार्रवाई करेगी। 

ये खबरें भी पढ़ें....

भोपाल में सरकारी आवासों में ही हो गया कब्जा, सरकारी अमला वसूल रहा था किराया

दिग्विजय सिंह ने उठाए सवाल 

कांग्रेस से राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा कि व्यापमं घोटाले की निष्पक्ष जांच बीजेपी कभी नहीं कराएगी। जिन्होंने रिश्वत दी है, उन्हें सरकारी गवाह बनाना चाहिए और जिन्होंने रिश्वत ली है, उन्हें दण्ड मिलना चाहिए। बीजेपी के उस समय के बड़े नेता लगभग सभी व्यापमं घोटाले में अपराधी हैं। अब नर्सिंग घोटाले में स्वास्थ मंत्री के स्वयं शामिल होने की खबर है। 

ये खबरें भी पढ़ें....

शिवराज सिंह के बेटे की शादी, रिद्धि जैन बनेंगी चौहान परिवार की बहू

अटैच पुलिसकर्मी को किया सस्पेंड 

इधर, सीएम के निर्देश के बाद नर्सिंग कॉलेजों की जांच कर रहे सीबीआई अफसरों पर भी कार्रवाई की गई है। सीबीआई में नवंबर 2023 से अटैच मध्यप्रदेश पुलिस के इंस्पेक्टर सुशील मजोका को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं, विशेष सशस्त्र बल के इंस्पेक्टर ऋषि असाठे सात साल से अटैच थे। अभी उन पर कार्रवाई नहीं हुई। उनकी भूमिका की जांच की जा रही है। ये दोनों अधिकारी सीबीआइ इंस्पेक्टर राहुल राज के साथ जांच कर रहे थे। आपको बता दें कि नर्सिंग घोटाले में अब तक सीबीआई के तीन अधिकारियों के साथ कुल 23 आरोपियों को हिरासत में लिया गया है।

CM Mohan Yadav सीएम मोहन यादव व्यापमं घोटाला DGP Sudhir Saxena डीजीपी सुधीर सक्सेना सांसद दिग्विजय सिंह एमपी नर्सिंग घोटाला mp nursing scam nursing scam सीबीआई इंस्पेक्टर राहुल राज