नर्मदा जयंती पर नर्मदापुरम में CM यादव करेंगे अभिषेक-पूजन, 1100 फीट की चुनरी करेंगे अर्पित

अमरकंटक से लेकर गुजरात तक हर एक घाट पर नर्मदा जयंती के कार्यक्रम हो रहे हैं। नर्मदापुरम में नर्मदा जयंती और शहर का गौरव दिवस दोनों एक साथ मनाए जा रहे हैं।

author-image
Pooja Kumari
New Update
Narmada Jayanti
Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

BHOPAL. प्रति वर्ष माघ माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को माता नर्मदा जयंती मनाई जाती है। इस पावन अवसर पर भक्तजन नर्मदा नदी की पूजा करते हैं और सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। कहा जाता है इस तिथि पर सूर्योदय के समय नर्मदा नदी में स्नान करने से सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है। मध्यप्रदेश के अमरकंटक से नर्मदा नदी का उद्गम होता है।

यह खबर भी पढें - पन्ना की राजमाता ने पुलिस से लगाई जान बचाने की गुहार

CM मोहन यादव करेंगे मां नर्मदा का पूजन, अभिषेक और आरती 

बता दें कि अमरकंटक से लेकर गुजरात तक हर एक घाट पर नर्मदा जयंती के कार्यक्रम हो रहे हैं। नर्मदापुरम में नर्मदा जयंती और शहर का गौरव दिवस दोनों एक साथ मनाए जा रहे हैं। इस अवसर पर जबलपुर, खरगोन, खंडवा और बड़वानी में भी धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। 15 फरवरी से दो दिवसीय गौरव दिवस महोत्सव की शुरुआत हो चुकी है। आज कुछ मुख्य कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। शाम को जलमंच से मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव मां नर्मदा का पूजन, अभिषेक और आरती करेंगे। 

यह खबर भी पढें - पटवारी नियुक्ति आदेश से 9.69 लाख फेल उम्मीदवार नाराज, फिर से बड़े आंदोलन की कर रहे तैयारी

ओंकारेश्वर में भी कार्यक्रम आयोजित

इस पर्व के लिए पूरा नर्मदापुरम दुल्हन की तरह सजा है। नर्मदा के सेठानी घाट समेत सभी तटों पर स्नान - पूजन का सिलसिला शुक्रवार सुबह से जारी है। उम्मीद है कि शहर के सभी घाटों पर आज 80 हजार श्रद्धालु नर्मदा पूजन करेंगे। शहर के अलावा बैतूल, भोपाल और दूसरे जिलों से भी लोग घाटों पर पहुंच रहे हैं। जबलपुर में मां नर्मदा को 1100 फीट लंबी चुनरी अर्पित की जाएगी। कार्यक्रम में लोक निर्माण मंत्री राकेश सिंह, स्वामी गिरीशानंद सरस्वती जी के साथ शामिल होंगे। बता दें कि तीर्थनगरी ओंकारेश्वर में भी आयोजन हो रहे हैं। दोपहर 12 बजे कोटितीर्थ घाट पर ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर ट्रस्ट मां नर्मदा का पूजन करेगा। शाम 7 बजे नागर घाट, ब्रह्मपुरी घाट, गोमुख घाट और कोटितीर्थ घाट में महाआरती की जाएगी। 

यह खबर भी पढें - उमेश नाथ का गुजारा दक्षिणा से, कांग्रेस के अशोक सिंह सबसे अमीर, जानिए राज्यसभा प्रत्याशी कितने पैसे वाले

इस बार नहीं होगी आतिशबाजी 

आज के इस पावन पर्व पर नर्मदापुरम में नर्मदा के सभी घाटों पर शाम को दीपदान किए जाएंगे। श्रद्धालु हजारों दीप जलाकर मां नर्मदा में प्रवाहित करेंगे। जानकारी के मुताबिक हाल ही में हरदा में पटाखा फैक्ट्री विस्फोट होने के कारण इस बार नर्मदा जयंती पर आतिशबाजी नहीं करने का निर्णय लिया गया है। CM मोहन यादव नर्मदापुरम में मुख्य समारोह में शामिल होकर मां नर्मदा की पूजा के बाद 191.34 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन करेंगे। इसमें नगर पालिका, जनजातीय कार्य विभाग के हॉस्टल, ओवरब्रिज, सड़क और दूसरे विकास कार्य शामिल हैं।

यह खबर भी पढें - यूथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया देर रात जेल से रिहा

शाम को निकाली जाएगी पालकी यात्रा 

मुख्यमंत्री अमरकंटक, जबलपुर से होते हुए शाम 4 बजे नर्मदापुरम पहुंचेंगे। शाम 4.15 से 5 बजे तक कलेक्ट्रेट कार्यालय नर्मदापुरम में कानून व्यवस्था के संबंध में बैठक करेंगे। शाम 5 बजे से 6 बजे तक विकास कार्यों के संबंध में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ संभागीय समीक्षा करेंगे। बड़वानी में राजघाट रोड स्थित नर्मदा तट किनारे ‎नर्मदा जयंती मनाई जा रही है। आयोजन समिति ‎के सदस्य सचिन शुक्ला गका कहना है कि सुबह 9 बजे से कथा की शुरुआत हुई। कथास्थल से 251 फीट की‎ चुनरी यात्रा निकाली जाएगी। दूध से माता का‎ अभिषेक और पूजन किया जाएगा। दोपहर में ‎भंडारे की प्रसादी का वितरण किया जाएगा। शाम‎ को माता की पालकी यात्रा निकाली जाएगी, जो कि नर्मदा तट तक पहुंचेगी। 

कार्यक्रम कुछ इस प्रकार

सुबह 9.30 बजे सेठानी घाट पर मां‎ नर्मदा, गणेश पूजन, आरती और भजनांजलि हुई।

दोपहर 3 बजे से ‎मोरछली चौक से कलश यात्रा ‎निकाली जाएगी।

शाम 5 बजे से संगीतमय भजन कार्यक्रम होगा।

शाम 6.15 बजे मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव मां‎ नर्मदा जयंती महोत्सव के मुख्य‎ कार्यक्रम में शामिल होंगे।

रात 8.30‎ बजे तक जलमंच से मुख्य कार्यक्रम और सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे।

सीएम मोहन यादव नर्मदा जयंती