शक्ति पर विवाद : आचार संहिता के बाद ये क्या बोल गए राहुल, नाम में ही तो सब रखा है

शक्ति शब्द का हिंदू धर्म में गहरा और व्यापक महत्व है। यह शब्द स्त्रीलिंग है और इसका अर्थ है "शक्ति" या "ऊर्जा"। शक्ति को अपभ्रंश या सामान्य लोगों की भाषा में सक्ति भी लिखा जाता है। हिंदू धर्म में, शक्ति को ब्रह्मांड का मूल माना जाता है।

author-image
Pratibha ranaa
एडिट
New Update
्म्म

राहुल गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

चक्रेश @ BHOPAL.

वैसे तो कहा जाता है कि किसी शब्द या नाम में क्या रखा है, लेकिन राजनीति में सब कुछ नाम से ही लेना- देना होता है। लोकसभा चुनाव 2024 की आचार संहिता लागू होने के दो दिन बाद ही कांग्रेस के राहुल गांधी अपने एक शब्द को लेकर बुरी तरह बीजेपी के निशाने पर आ गए हैं। दरअसल कल उन्होंने एक सभा के दौरान भाषण देते हुए “शक्ति से मुकाबला” करने की बात कह दी थी। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके इस बयान को आड़े हाथ लेते हुए राहुल गांधी और पूरे इंडिया गठबंधन की नीयत पर सवाल खड़े कर दिए। (  PM Modi Slams INDIA Alliance  )

हिंदू धर्म की शक्ति से लड़ रहे हैं- राहुल

राहुल गांधी कहते हैं कि हम लोग यहां उपस्थित सभी राजनीतिक दल न एक दल के खिलाफ लड़ रहे हैं या न किसी एक व्यक्ति के खिलाफ लड़ रहे हैं। हिंदू धर्म में शक्ति शब्द होता है हम एक शक्ति से लड़ रहे हैं। सवाल उठता है कि वह शक्ति क्या है- जैसे यहां किसी ने कहा राजा कि आत्मा ईवीएम में है, हिंदुस्तान की हर संस्था में। ईडी मे है, सीबीआई में है, हर संस्थान में है...

ये खबर भी पढ़िए...शक्ति पर विवाद : राहुल के बयान पर पीएम ने कहा शक्ति की रक्षा के लिए जान दे दूंगा

सुनिए क्या कहा राहुल गांधी ने….

सुनिए पीएम मोदी ने कैसे दिया इसका जवाब 

अक्सर विवाद में आते हैं राहुल गांधी 

राहुल गांधी अपने शब्दों के चयन को लेकर अक्सर ही बीजेपी के निशाने पर आ जाते हैं। इसके पहले भी कई बार वे अपने भाषणों में ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर चुके हैं, जिनके कारण बीजेपी और बीजेपी की आईटी सेल उनकी बुरी तरह से खिंचाई करती रही है।

ये खबर भी पढ़िए...चुनाव आयोग ने इलेक्टोरल बांड का नया डेटा किया जारी

हिंदू धर्म में शक्ति शब्द का महत्त्व

शक्ति शब्द का हिंदू धर्म में गहरा और व्यापक महत्व है। यह शब्द स्त्रीलिंग है और इसका अर्थ है "शक्ति" या "ऊर्जा"। शक्ति को अपभ्रंश या सामान्य लोगों की भाषा में सक्ति भी लिखा जाता है। हिंदू धर्म में, शक्ति को ब्रह्मांड का मूल माना जाता है। यह देवी- देवताओं की शक्ति का स्रोत है, और यह सभी जीवित प्राणियों में मौजूद है। शक्ति को अक्सर स्त्रीत्व और प्रजनन क्षमता से भी जोड़ा जाता है। हिंदू धर्म में कई शक्तिपीठ हैं, जो देवी शक्ति के पवित्र स्थान हैं।

शक्ति के विभिन्न रूप

हिंदू धर्म में शक्ति के कई रूप हैं, जैसे

  • शक्ति देवी: देवी दुर्गा, काली, सरस्वती, लक्ष्मी और पार्वती जैसे देवी-देवताओं को शक्ति का प्रतीक माना जाता है।
  • महाशक्ति: ब्रह्मांड की मूलभूत शक्ति, जिसे अक्सर देवी माँ के रूप में दर्शाया जाता है।
  • कुंडलिनी शक्ति: मनुष्य के शरीर में स्थित एक छिपी हुई शक्ति, जिसे योग और ध्यान के माध्यम से जागृत किया जा सकता है।

शक्ति का महत्व

हिंदू धर्म में शक्ति को अनेक कारणों से महत्वपूर्ण माना जाता है:

  • सृष्टि का स्रोत: शक्ति को ब्रह्मांड की रचना और संचालन के लिए आवश्यक माना जाता है।
  • परिवर्तन की शक्ति: शक्ति को परिवर्तन और विकास का स्रोत माना जाता है।
  • आध्यात्मिक शक्ति: शक्ति को आध्यात्मिक उन्नति और मुक्ति के लिए आवश्यक माना जाता है।

शक्ति की पूजा

हिंदू धर्म में शक्ति की पूजा कई रूपों में की जाती है। देवी-देवताओं के मंदिरों में पूजा, स्तोत्र और मंत्रों का जाप, और योग और ध्यान शक्ति की पूजा के कुछ प्रमुख रूप हैं। 

शक्ति के पर्यायवाची शब्द:

1. बल: शारीरिक या मानसिक शक्ति, जैसे कि "उसमें बहुत बल है"।

2. ताकत: शारीरिक शक्ति, जैसे कि "वह बहुत ताकतवर है"।

3. सामर्थ्य: क्षमता या शक्ति, जैसे कि "उसमें काम करने का सामर्थ्य है"।

4. प्रभाव: किसी व्यक्ति या वस्तु का प्रभाव या शक्ति, जैसे कि "उसके शब्दों का बहुत प्रभाव है"।

5. प्रभुत्व: किसी व्यक्ति या वस्तु का प्रभुत्व या शक्ति, जैसे कि "उसका अपने क्षेत्र में प्रभुत्व है"।

6. क्षमता: किसी कार्य को करने की क्षमता या शक्ति, जैसे कि "उसमें सीखने की क्षमता है"।

7. सामर्थ्य: शक्ति या क्षमता, जैसे कि "उसमें नेतृत्व करने का सामर्थ्य है"।

8. दमखम: शक्ति या प्रभाव, जैसे कि "उसमें बहुत दमखम है"।

9. जोर: शक्ति या तीव्रता, जैसे कि "उसने जोर से आवाज लगाई"।

10. प्रभावशाली: शक्ति या प्रभाव वाला, जैसे कि "वह एक प्रभावशाली व्यक्ति है"।

अन्य पर्यायवाची शब्द:

  • उत्साह
  • ऊर्जा
  • तेज
  • प्रभाव
  • प्रभुत्व
  • वीरता
  • साहस
  • पराक्रम
  • शौर्य
  • वीर्य

    यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन शब्दों के अर्थ और उपयोग भिन्न हो सकते हैं।

उदाहरण:

"बल" का उपयोग शारीरिक शक्ति के लिए अधिक किया जाता है, जबकि "ताकत" का उपयोग शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की शक्ति के लिए किया जा सकता है। "सामर्थ्य" का उपयोग क्षमता या शक्ति के लिए अधिक किया जाता है, जबकि "प्रभाव" का उपयोग किसी व्यक्ति या वस्तु के प्रभाव या शक्ति के लिए अधिक किया जाता है।

पीएम नरेंद्र मोदी राहुल गांधी शक्ति PM Modi Slams INDIA Alliance