Rampur MP-MLA Court ने सपा नेता Azam Khan को hate speech case में दोषी माना है। Azam Khan hate speech
होम / देश / हेट स्पीच केस में सपा नेता आजम खान को 3 ...

हेट स्पीच केस में सपा नेता आजम खान को 3 साल की सजा, विधानसभा की सदस्यता से भी धोना पड़ेगा हाथ

Vivek Sharma
Oct 27, 2022 03:51 PM

RAMPUR. समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और विधायक आजम खान को रामपुर के भड़काऊ भाषण मामले में दोषी करार दिया गया है। रामपुर की एमपी-एमएलए कोर्ट ने उन्हें 3 साल की सजा सुनाई है। अब उनकी विधायकी भी हाथ से जाएगी। आजम खान पर पीएम मोदी, सीएम योगी और तत्कालीन डीएम को लेकर अपशब्द कहने का आरोप था, जिसे लेकर सपा नेता दोषी पाए गए हैं।

2019 लोकसभा चुनाव में हेट स्पीच

2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान रामपुर की मिलक विधानसभा में एक चुनावी सभा में आजम खान ने भाषण के दौरान आपत्तिजनक और भड़काऊ टिप्पणियां की थीं। बीजेपी नेता आखाश सक्सेना ने इसकी शिकायत की थी।

पार्टी के लिए बड़ा झटका


सपा के बड़े नेताओं में शुमार आजम खान जमीन कब्जाने सहित कई आरोपों में जेल में रहे हैं। कुछ समय पहले ही वे बाहर आए हैं। ऐसे में फिर एक बार वे गिरफ्तार हो सकते हैं। समाजवादी पार्टी के लिए संकट की स्थित पैदा हो सकती है। आजम खान समाजवादी पार्टी के फाउंडर्स में से एक हैं और पार्टी के लिए एक बड़ा मुस्लिम चेहरा हैं। कोर्ट अगर उन्हें जेल की सजा सुनाता है तो निकाय चुनाव से पहले जनता के सामने जो संदेश जाएगा, वह पार्टी के लिए अच्छा नहीं माना जा रहा है।

2019 लोकसभा चुनाव से जुड़ा है मामला

बता दें कि हेट स्पीच का यह मामला 2019 के लोकसभा चुनाव के समय का है। बताया जा रहा है कि रामपुर की मिलक विधानसभा सीट पर एक चुनावी भाषण के दौरान आजम खान ने आपत्तिजनक बातें कही थीं। उन्होंने तत्कालीन डीएम, सीएम योगी और पीएम मोदी को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणियां की थीं। उस समय इस बात की शिकायत बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने पुलिस में की थी। गुरुवार 27 अक्टूबर को इसी मामले में कोर्ट ने सुनवाई के बाद आजम खान को दोषी करार दिया है। 

 कोर्ट आ सकते हैं आजम खान

संभावना है कि सपा नेता आजम खान भी अदालत में हाजिर हो सकते हैं। शिकायतकर्ता आकाश सक्सेना कोर्ट में पहुंच चुके हैं। अब इस मामले में सजा सुनाई जाएगी। अदालत का फैसला जानने के लिए कोर्ट के बाहर भीड़ लगी हुई है।

विवादों से आजम खान का पुराना नाता 

आजम खान का विवादित बयानों से पुराना नाता रहा है। पश्चिम यूपी का शहर रामपुर अपने तेज छुरी के साथ ही अब सपा के कद्दावर नेता आजम खान जहरीली जुबान के लिए भी अपनी अलग पहचान रखता है। उनकी जुबानी जंग देखने को मिलती है।  वह अपने बयानों की वजह से कई बार सियासत में हलचल मचा चुके हैं। कई बार तो उनके बयानों की वजह से उनकी पार्टी को नुकसान भी उठाना भी पड़ा है। लोकसभा में भाजपा सांसद रमा देवी पर की गई उनकी टिप्पणी से सियासी घमासान मचा था। 

एक नजर उनके प्रमुख विवादित बयानों पर

  • उत्तर प्रदेश के दादरी में 2015 में गोमांस रखने के शक में अखलाक की हत्या के बाद आजम खान ने अपने बयान में गोभक्तों को चुनौती दी थी। उन्होंने कहा था, हर गोभक्त आज के बाद किसी होटल के मेन्यू में बीफ की कीमत न लिखने दें। अगर ऐसा होता है तो उन सभी फाइव स्टार होटलों की उसी तरह ईंट से ईंट बजा दें, जिस तरह बाबरी मस्जिद की बजाई थी।
  • आजम खान ने 2014 में कारगिल युद्ध पर भी एक विवादित बयान दिया था जिसका चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया था। तत्कालीन कैबिनेट मंत्री आजम खां ने 1999 में हुए कारगिल युद्ध को मुस्लिम सैनिकों द्वारा जीते जाने की बात कही थी।
  • आजम ने इसी दौरान प्रधानमंत्री मोदी को मुस्लिमों का दुश्मन और अमित शाह को गुंडा नंबर-1 की संज्ञा भी आजम ने मंच से दी थी। 
  • आजम खान ने पीएम मोदी के एक बयान पर टिप्पणी की थी। दरअसल एक इंटरव्यू में एक विदेशी मैग्जीन ने पीएम मोदी से कुछ सवाल किया था जिसके बारे में उन्होंने कहा था कि कुत्ते का बच्चा भी अगर आपकी कार के नीचे आता है तो दुख होता है। उनके इसी बयान को आजम खान ने मुस्लिमों से जोड़ते हुए कहा था कि, कुत्ते के बच्चे के बड़े भाई नरेंद्र मोदीजी हमें तुम्हारा गम नहीं चाहिए।
  • बदायूं में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने महिलाओं की अस्मिता पर हमला करते हुए कहा था, गरीब घरों की महिलाएं यार के साथ नहीं जा सकतीं, लिहाजा ज्यादा बच्चे पैदा करती हैं।
  • बुलंदशहर गैंगरेप मामला जिसमें मां-बेटी से दुष्कर्म हुआ था उसमें भी आजम खान ने विवादित बयान दिया था जिसके बाद यह बात सुप्रीम कोर्ट तक गई थी। उन्होंने इस मामले में कहा था, सत्ता की लोभी पार्टियां किसी भी हद तक जा सकती हैं। आजम खान ने इस घटना को कथित रूप से राजनीतिक षड्यंत्र बताया था। एक बार जब आजम खान से पूछा गया कि वह योगी आदित्यनाथ के गढ़ में हैं तो क्या वह प्यार-मोहब्बत से तल्ख रिश्तों को खत्म करेंगे? इस पर भी आजम खान बाज नहीं आए और कहा था कि पहले योगी आदित्यनाथ शादी करें और अपना मर्द होना साबित करें। तब वह मोहब्बत भी करने लगेंगे।
  • आजम खान ने मॉब लिंचिग की घटनाओं को लेकर कहा कि यह 1947 के बाद मुसलमानों को मिलने वाली सजा है। मुस्लिम जहां भी जाएंगे उन्हें यह सहना ही पड़ेगा। अब जो होगा, उसे सहना होगा। उन्होंने कहा हमारे पूर्वज पाकिस्तान क्यों नहीं गए? यह मौलाना आजाद, जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल और बापू से पूछें। इन्होंने मुसलमानों की सुरक्षा का वादा किया था। 
  • आजम खान ने स्पीकर की कुर्सी पर बैठीं बीजेपी सांसद रमा देवी के खिलाफ संसद में अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था। 
  • लोकसभा चुनाव 2019 के चुनाव प्रचार के दौरान आजम खान ने बीजेपी प्रत्याशी और पूर्व सांसद जयाप्रदा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी, जिसके बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी। इस मामले पर चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया था और आजम खान को चुनाव प्रचार करने पर 72 घंटे के लिए प्रतिबंध भी लगा दिया था।  
thesootr
द-सूत्र ऐप डाउनलोड करें :
Like & Follow Our Social Media